Tuesday, June 25, 2024
spot_img
Homeहिन्दी जगतहिंदी विवेक मासिक पत्रिका एवं महाराष्ट्र राज्य हिंदी साहित्य अकादमी के संयुक्त...

हिंदी विवेक मासिक पत्रिका एवं महाराष्ट्र राज्य हिंदी साहित्य अकादमी के संयुक्त तत्वाधान में कवि सम्मेलन

मुंबई। हिंदी विवेक मासिक पत्रिका एवं महाराष्ट्र राज्य हिंदी साहित्य अकादमी के संयुक्त तत्वाधान में कवि सम्मेलन का आयोजन बोरीवली के अटल स्मृति उद्यान के सभागार में किया गया । अखिल भारतीय स्तर पर ख्याति प्राप्त कवियों का काव्य पठन और मुंबई के सुधि साहित्य रसिक जनों की उपस्थिति, यह इस समारोह की मुख्य विशेषत: थी। कवि सम्मेलन में पूर्व राज्य मंत्री श्री अमरजीत मिश्रा मुख्य अतिथि के रूप में और मुंबई विश्वविद्यालय के हिंदी विभागाध्यक्ष डॉ.करुणा शंकर उपाध्याय कवि सम्मेलन के अध्यक्ष के रूप में उपस्थित थे।

कवि सम्मेलन में महेश दुबे, सुरेश मिश्र, रासबिहारी पांडे, डॉ रजनीकांत मिश्र, ज्योति त्रिपाठी और मार्कंडेय त्रिपाठी जी ने एक से बढ़कर एक मनभावन काव्यों का पठन किया।‌ वीर रस ,शृंगार रस, हास्य रस, व्यंग, राष्ट्रप्रेम आधारित अनेक मनोहारी काव्यांजलि की प्रस्तुति धाराप्रवाह हो रही थी। काव्य सम्मेलन में एक तरफ हास्य से लोगों की आंखों में पानी था, तो दूसरी तरफ विरह गीत सुनते हुए भी आंखों में आंसू आ रहे थे।‌ सुनहरे पलों की अनुभूति लेने का अवसर सभी उपस्थितों को प्राप्त हुआ। भविष्य में प्रतिवर्ष इस प्रकार का कवि सम्मेलन आयोजित करने का लक्ष्य हिंदी विवेक ने रखा हुआ है।

यह संकल्प हिंदी विवेक मासिक पत्रिका के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमोल पेडणेकर ने अपने प्रास्ताविक संभाषण में व्यक्त किया। समारोह का सूत्रसंचालन हिंदी विवेक मासिक पत्रिका के कार्यकारी संपादक पल्लवी अन्वेकर ने किया। एक सुंदर और सफल कार्यक्रम का आयोजन हिंदी विवेक मासिक पत्रिका और महाराष्ट्र राज्य हिंदी साहित्य अकादमी के संयुक्त तत्वाधान में संपन्न हुआ, इस प्रकार की भावना सभी के मन में है।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार