ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

‘लल्लन मिस’ का मंचन 5 दिसम्बर को

• राजकुमारी एक हिजड़ा है, जिसने बच्चों के लिए शिक्षा की लड़ाई लड़ी

• लल्लन मिस समाज के भेदभाव और रूढ़िवादिता को चुनौती देती हैं.

• रमा पांडेय द्वारा लिखित, निर्मित और निर्देशित यह नाटक 5 दिसम्बर को श्रीराम सेंटर में 6:30 बजे मंचित होगा.

नई दिल्ली। रमा थिएटर नाट्य विद्या संस्था (रतनाव) एवं गंगा धर शुक्ल नाटक महोत्सव के साँझा सहयोग से ‘लल्लन मिस’ नाटक का मंचन भारत के विभिन्न शहरों में करने जा रहा है. दिल्ली में, लल्लन मिस , 5 दिसंबर, 6:30 बजे, श्री राम सेंटर, मंडी हाउस, नई दिल्ली में दिखाया जाएगा । रतनाव भारत की पारंपरिक वाचिक कला के संरक्षण के लिए एक संस्था है,यह कलाकारों की आजीविका के लिए काम करता है,और थिएटर प्रदर्शन के माध्यम से उनकी कला को बढ़ावा देता है। मीडिया दिग्गज और रतनाव के संस्थापक रमा पांडेय, इस नाटक के कथाकार, लेखक, निर्माता और निर्देशक भी हैं। रतनाव भारत में ऐसी इकलोती संस्था है जो न केवल मौखिक परंपरा को संरक्षित कर रही है , बल्कि कलाकारों की आजीविका में भी मदद कर रही है।

लल्लन मिस एक हिजड़े की वास्तविक जीवन की कहानी पर आधारित है, जिसने सामाजिक पूर्वधारण की दीवारों को तोड़कर झुग्गी बस्तियों के बच्चों के लिए एक स्कूल का निर्माण किया, ताकि उनका एक बेहतर ‘भविष्य’ बन सके. 44 वर्षीय राजकुमारी जिसे लल्लन हिजड़ा के नाम से भी जाना जाता है ने पटना में इस स्कूल का निर्माण किया। भू-माफिया की धमकी के बावजूद उसे अभी भी स्कूल चलाने की इच्छा थी। स्कूल चलाने के 15 साल बाद, लल्लन को भू-माफिया से स्कूल खाली करवाने के लिए धमकियाँ मिलनी शुरू हुई और बाद में भू-माफिया द्वारा स्कूल को जला दिया गया। इतना होने बावजूद लल्लन क्षेत्र के अन्य सक्रिय भागीदारों के साथ मिलकर स्कूल का पुनः निर्माण कराने की कोशिश करती है।

राजकुमारी इस नाटक के बारे में बताती हैं “नेताओं और गैर-सरकारी संगठनों द्वारा लंबे वादों के बावजूद, स्कूल पूरी तरह से गायकों और नृत्य के माध्यम से अर्जित धन पर चल रहा था। नि: शुल्क ट्यूशन, किताबें और भोजन (शनिवार को खिचड़ी) के साथ, स्कूल का बजट लगभग 46,000 रुपये का आता है, जो जीवन यापन के लिए बहुत ही कम था. शुरू में, नेताओं ने स्कूल के लिए सरकारी जमीन देने का वादा किया था, लेकिन समय के साथ, यह वादा भी उनकेबाकी चुनावी वादों की तरह भूला दिया गया था.”

स्कूल के पुन: निर्माण (लगभग 4 साल बाद) के बाद भू-माफियाओं ने जवाबी कार्रवाई की और इस बार लल्लन को जान से मारने की धमकी दी गई और अंततः बुलडोजर से स्कूल को तहस-नहस कर दिया जिसने लल्लन को मानसिक रूप से मार डाला। लेकिन उसने हार नहीं मानी, यह नाटक लल्लन की कभी न असफल होने वाली भावना को दर्शाती है जो हमें जीवन में चीजों को प्राप्त करने के लिए चुनौती देता है और प्रोत्साहित करता है।

निर्देशक रमा पांडेय ने नाटक पर अपने मत रखते हुए कहा “यह नाटक मेरे जीवन की सबसे कठिन चुनौती है, मैंने अपने जीवन के अनुभवों में लल्लन और अन्य हिजड़ों के जीवन को बुना है। मैंने एक दिलचस्प नाटक शैली में गंभीर कहानी को चित्रित करने की चुनौती ली है, जिसके लिए मैं ‘भपंग’ एक पुराने लोक माध्यम का भी उपयोग कर रही हूं”।

इस नाटक के बाद पूर्वांचल के प्रसिद्ध लोक नृत्य “झंगिया” का प्रदर्शन होगा। बाजीनाथ यादव अपने समूह के साथ लोक गीतों की प्रस्तुति भी देंगे। उनके समूह में आजमगढ़ के गरीब किसान और मजदूर शामिल हैं, जो इस अनूठी परंपरा को जीवित रखे हुए हैं। लोक प्रदर्शन पर और विस्तार से रमा पांडेय कहती हैं, “मैं रंगमंच के माध्यम से मौखिक परंपरा की सुंदरता को सामने लाने का प्रयास कर रही हूं”

निर्देशक के बारे में:

रमा पांडेय रमा थिएटर नाट्यविद्या (रतनाव) और मोंटेटेज फिल्म्स की संस्थापक हैं। जोधपुर में जन्मी रमा पांडेय ने जयपुर आकर एक बाल कलाकार के रूप में अपना करियर शुरू किया। उन्होंने शतरंज के मोहरे, अशर का एक दिन, भूमिजा, कंचन रंग, जास्मा ओडन और शतुरमुर्ग आदि जैसे कई लोकप्रिय नाटकों में मुख्य अभिनेत्री की भूमिका निभाई है। दूरदर्शन और आकाशवाणी के अलावा वह बीबीसी हिंदी, वॉयस ऑफ अमेरिका, सीबीसी कनाडा और रेडियो नीदरलैंड टीवी सेंटर हॉलैंड से भी जड़ी रहीं। उन्होंने दूरदर्शन और विभिन्न केंद्रीय और राज्य मंत्रालय, पीएसयू, विश्वविद्यालयों और अन्य संगठनों के लिए कई वृत्तचित्र, टेलि-फिल्में और टीवी शो को लिखा है, निर्माण किया है और निर्देशन किया है। उन्होंने महिलाओं और बच्चों पर किताबें भी लिखी हैं। ‘‘बेगम बानो और खातून’’, ‘‘फैसले’’ और ‘‘सुनो कहानी’’ उनकी लोकप्रिय किताबें हैं। थिएटर और टेलीविज़न के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए उन्होंने कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार प्रदान किये गये.

संपर्क

संतोष कुमार

9990937676

image_pdfimage_print


Leave a Reply
 

Your email address will not be published. Required fields are marked (*)

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

सम्बंधित लेख
 

Back to Top