आप यहाँ है :

मोहिनीअट्टम नृत्य से भाव-विभोर हुए श्रोता

मदर्स डे के अवसर पर गुरू भारती शिवाजी एवम् शिष्यों संग गुरू-शिष्या परम्परा की शानदार प्रस्तुति।

नई दिल्ली। मदर्स डे का मौका और मंच पर खूबसूरत मोहिनीअट्टम की प्रस्तुति देती गुरू-शिष्या। यह शानदार नज़ारा और भाव-विभोर करता प्रस्तुतिकरण देखते ही बनता था। मौका था देबधारा दिल्ली द्वारा आयोजित दो दिवसीय गुरू-शिष्य सम्मान नृत्य समारोह का, जहां नृत्य क्षेत्र की गुरू-शिष्या प्रतिभाओं ने अपने कला-कौशल का सभी को कायल किया। विभिन्न शैलियों में प्रस्तुत नृत्य प्रस्तुतिकरण के बीच पद्मश्री गुरू भारती शिवाजी एवम् शिष्याओं वाणी भल्ला पाहवा व समृता मेनन द्वारा प्रस्तुत खूबसूरत मोहिनीअट्टम नृत्य ने सभी को आकर्षित किया। नृत्य आकर्षण के बीच अन्य खास बात यह रही कि रविवार की शाम आया जबरदस्त आंधी-तूफान भी दिल्लीवासियों के कला के प्रति रूझान को न थाम सका और सभागार खचाखच भरा नज़र आया। भारतीय शास्त्रीय नृत्य रूपों के दो दिवसीय समारोह ‘गुरु शिष्या सम्मान’ उद्देश्य विभिन्न शास्त्रीय नृत्य रूपों को एक साथ लाने और उन्हें एक मंच पर प्रदर्शित करना था।

सभी शास्त्रीय दक्षिण भारतीय शैलियों में, मोहिनीअट्टम को सराहनीयता के साथ अलग रूप में देखा जाता है। शारीरिक हाव-भाव और धड़ द्वारा की गयी खूबसूरत कलात्मकता इसकी विशेषता है, जहां गर्दन/धड़ की प्रमुखता के साथ शारीरिक प्रभाव व हाव-भाव इसके अद्वितीय पहलू हैं। पद्मश्री गुरू भारती शिवाजी को प्रदर्शन, अनुसंधान और प्रचार के माध्यम से कला रूप में उनके योगदान के लिए जाना जाता है। मोहिनीअट्टम की कला को जीवंत रखने में उनका विशिष्ट योगदान भी है, जहां उन्होंने मोहिनिअट्टम सेंटर स्थापित किया है साथ ही वे इस नृत्य शैली को बढ़ावा देने वाली दो किताबों; आर्ट ऑफ मोहिनीयाटम और मोहिनीयाटम की सह-लेखिका भी हैं।

कार्यक्रम के दौरान उन्होंने अपने प्रस्तुतिकरण की शुरूआत मुखचलम से की। मुखचलम, एक शुद्ध नृत्य रचना है, जहां नृत्त को हाइलाइट किया जाता है, जो मोहिनीयाटम के विशिष्ट मूवमेंट्स को प्रदर्शित करता है। यह विभिन्न ताल पैटर्न पर सेट किया जाता है, जहां, केरल के क्षेत्रीय और अत्यधिक गीतात्मक ताल और राग शामिल हैं। इस कोरियोग्राफी को राग मल्लिका जिसमें शुरूति, कंबोजी में शुरूआत करते हुए एक सोपानारागा, सामंत मलहारी में बनाया गया है।

इसके बाद गुरु भारती शिवाजी, वाणी भल्ला पहवा और समृता मेनन ने अष्टपदी प्रस्तुत की। सदियों से, केरल में सोयाना संगीतम नामक एक अद्वितीय संगीत परंपरा में जयदेव के अस्तापदी को प्रस्तुत करने की परंपरा थी। यह आज केरल के मंदिरों के हर अभयारण्य में विशेष रूप से श्रीकृष्ण के गुरुवायूर मंदिर में जीवित परंपरा है। यह अष्टपदी साधी को एक अनिश्चित राधा को, कृष्णा से मिलने जाने का वर्णन करती है, जो उत्सुकता से नदी के किनारे उनका इंतज़ार कर रहे हैं। इसके वर्णन है कि किस तरह हल्की सी आवाज पर कृष्ण, राधा के आने की उम्मीद करते हैं, उनके लिए फूलों से बिस्तर पर बिस्तर लगाने के लिए इंतजार कर रहे हैं। केरल के गुरुवायूर मंदिर में रचित व गायी यह रचना रागम केदारगोला में है, और इसके बाद श्री रागम में चलते हुए आदि ताल पर सेट है।

भारती शिवाजी संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार और साहित्य कला परिषद सम्मान की प्राप्तकर्ता हैं। भारतीय शास्त्रीय नृत्य में उनके योगदान के लिए, भारत सरकार ने उन्हें 2004 में पद्मश्री के चौथे सर्वोच्च नागरिक सम्मान से सम्मानित किया। भारती शिवाजी ने अमेरिका, लैटिन अमेरिका, अफ्रीका, दक्षिण पूर्व एशिया, यूरोप और मेक्सिको समेत पूरी दुनिया में व्यापक रूप से प्रदर्शन किया है। 2002 में, उन्हें स्कॉटलैंड, ब्रिटेन में प्रतिष्ठित इंटरनेशनल एडिनबर्ग फेस्टिवल में प्रदर्शन करने के लिए आमंत्रित किया गया था, जहां यह अपने इतिहास में पहली बार था कि मोहिनीयाट्टम प्रस्तुत किया गया था और दर्शकों और कला आलोचकों द्वारा बहुत अच्छा प्राप्त किया गया था।

अधिक जानकारी के लिए सम्पर्क; ग्रैंडेवर कम्युनिकेशनः नितिः 8527002788, रीतिकाः 7011600301



Leave a Reply
 

Your email address will not be published. Required fields are marked (*)

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

सम्बंधित लेख