आप यहाँ है :

साहित्यकारों, लेखक, कवियो को हमेशा बढ़ावा दिया जाना चाहिएः श्री लक्ष्मण सिंह स्वतंत्र

आज गांधी शांति प्रतिष्ठान सभागार, नई दिल्ली में अखिल भारतीय स्वतन्त्र लेखक मंच का 28 वाँ वार्षिक साहित्य उत्सव ऋषि याज्ञवल्क्य, संत रामकृष्ण परमहंस, सूर्यकान्त त्रिपाठी ‘निराला’ जी की की याद मे उनकी जयंती के रूप मे आयोजित किया गया । अखिल भारतीय स्वतन्त्र लेखक मंच के अध्यक्ष श्री लक्ष्मण सिंह स्वतंत्र सहित डाँ बी .एन. पाण्डे स्वतंत्रता सेनानी , श्री घनश्याम जी भट्टल वरिष्ठ समाज सेवी यशपाल गुप्ता ने कार्यक्रम का उद्घघाटन एंव सरस्वती चित्र पर दीप प्रज्व्वालित कर किया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि श्री पंकज पुष्कर विधायक दिल्ली,वरिष्ठ पत्रकार मुन्ना भारती एन.डी0.टी.वी. के वरिष्ठ पत्रकार ,डाँ एस.पी.सिँह प्राचार्य, योगेश गुप्ता समाज सेवी, श्री राजेश गिलडा वरिष्ठ पत्रकार,फैजान अल्वी वरिष्ठ लेखक ने भी सरस्वती चित्र पर माल्यार्पण करी ।

साहित्य उत्सव समारोह का शुभारम्भ विद्या और कला की देवी मां सरस्वती की वंदना से साथ किया गया बच्चों ने राष्ट्रीय एकता के सूत्र में सभी को एक करने के लिए गरिमामय रूम मे राष्ट्रीय वंदना करी। साहित्य उत्सव समारोह मे बच्चों ने समूह मे कलात्मक औेर सांस्कृतिक विरासत पर मंथन करते हुए गीत रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए । समारोह में गीत गजलों का दौर भी बीच बीच में चलता रहा जिसमे वरिष्ठ कवि श्री नरेंद्र सिंह होशियार पुरी ने अपनी कविताओं के माध्यम से काव्यात्मक गीत की दुर्लभ संगति दी है और उन्होंने वास्तविकता एवं गल्प को समानता के साथ समाहित किया है। मंच के अध्यक्ष श्री लक्ष्मण सिंह स्वतंत्र ने अखिल भारतीय स्वतंत्र लेखक मंच की पृष्ठभूमि पर प्रकाश डाला और सभी अतिथियों का परिचय करवाते हुये कहा साहित्यकारों, लेखक, कवियो को हमेशा बढ़ावा दिया जाना चाहिए।

इस 28 वें साहित्य सम्मान समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में आज़ाद हिन्द फौज के संस्थापक माननीय सुभाष चन्द्र बोस के निकवर्ती साथी और सहयोगी स्वतंत्रता संग्राम सेनानी माननीय डा0बी0एन0पाण्डेय मौजूद रहे जबकि इस समारोह में विशिष्ठ अतिथि के रूप में आकाशवाणी के निदेशक अरुण कुमार,फ़िल्म रायटर व डायरेक्टर फैज़ान अल्वी तथा अन्य अतिथियों के रूप में एन डी टी वी के वरिष्ठ पत्रकार व समाजसेवी मोहम्मद अतहरुद्दीन उर्फ ” मुन्ने भारती “,केजरीवाल सरकार के कर्मठ विधायक पंकज पुष्कर,शिक्षाविद डा0 एस पी सिंह प्राचार्य दीवान इंस्टीट्यूट आफ मैनेजमेंट स्टडीज़ मेरठ के अलावा वरिष्ठ पत्रकार राजेश गिल्डा अन्य अतिथियों के रूप में उपस्थित रहे।इस साहित्य समारोह का विधिवत उद्घाटन संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष लक्ष्मण सिंह स्वतंत्र व और उनकी टीम की उपस्थिति में मुख्य अतिथि द्वारा दीप प्रज्वलित किया गया।इस दौरान सम्मान समारोह से पूर्व कार्यक्रम में उपस्थित सहित्यकारों व कवि/कवित्रियों द्वारा अपनी रचनाओं से समारोह में चारचाँद लगा दिये वहीं पत्रकारों व लेखकों ने अपने अपने विचारों से भी लोगों को अवगत कराया।

इस मौके पर पत्रकारिता की वर्तमान स्थिति पर जहां मुन्ने भारती ने पत्रकारिता की उपयोगिता और उसके मिशन पर विस्तार में चर्चा की वहीं हिंदुस्तान की महान कवित्री श्रीमती शांति अग्रवाल,सुमन,पूनम अग्रवाल व डा.रंजना अग्रवाल आदि लोगों ने भी अपनी कविताओं से श्रोताओं के को आनन्दित किया।कार्यक्रम के अंतिम क्षणों में आयोजन समिति द्वारा देश भर के साहित्य कारों,लेखक,पत्रकार और समाजसेवी के रूप में उत्कृष्ट योगदान और उनकी कार्यशैली से प्रभावित होकर ऐसी 42 विभूतियों को विभिन्न सम्मानों से नवाजते हुये उन्हें सम्मान स्वरूप ट्राफी,प्रशस्तिपत्र,अंग वस्त्र और मेडल पहना कर सम्मानित किया गया।

ये गौरवशाली सम्मान मुख्य अतिथि बी एन पाण्डेय और आकाशवाणी के निदेशक अरुण कुमार के हाथों सभी सम्मानित नामित लोगों को संयुक्त रूप से प्रदान किया गया जिसमें विशेष रूप से इस साल साहित्य उत्सव में भारत की विभिन्न क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान करने वाली जानी मानी हस्तियां में डॉ.रामदरश मिश्र,श्री भूषण लाल पाराशर,श्री एफ सी भाटिया,श्री संजीव कुमार झा,श्री कलीराम तोमर,ज़ररीन नाज,श्री सूर्य प्रकाश सेमवाल श्री रिंकू माथुर,श्री पवन वर्मा,श्री राजीव गुप्ता,डॉ. रंजना अग्रवाल,श्रीमती अलका सिन्हा, श्रीमती पूनम गोयल,श्री नन्दावल्लभ पालीवाल उत्तराखंडी,श्री जसविंदर सिंह,डॉ.पूनम माटिया ,श्री रणवीर गहलौत,माहेश्वरी एकता,मोहम्मद जाहिद,शैलतनया श्रीवास्तव,डॉ. रामचंद्र निर्मोही प्रेमादेवी गौनियाल,श्री बलजिंदर सिंह,डॉ.विनोद गुप्ता,डॉ.सुरेश कालानी,डॉ.कमल किशोर निम,डाँ.पूजा खिल्लन, श्री भगत सिंह वर्मा,श्री कुलदीप प्रजापति उर्फ के पी,श्री राजू वोहरा,श्रीमती आरती,श्री खालिद परवेज़,श्री मुकेश कुमार ऋषि वर्मा,आयुषी शेखावत,श्री अश्वनी राघव”रामेन्दु”श्री मनोज कुमार,श्री गुरिंदर पाल सिंह,श्री मुसाफिर देहलवी,श्री जी एस कादिर.श्री के.के.कुमावत श्री अब्दुल अजीज, राजेश गौतम समेत 42 लोगों को सम्मानित करते हुये उन्हें प्रतीक चिन्ह व सम्मान पत्र प्रदान किया गया।

अंत मे संस्था के राष्ट्रीय अध्यक्ष लक्ष्मण सिंह स्वतंत्र ने समस्त आगन्तुकों का आभार व्यक्त करते हुए सभी सम्मान प्राप्त लोगों को बधाई व मुबारक बाद भी दी। यहां पर ये बात याद रखने की है कि ये अखिल भारतीय स्वतन्त्र लेखक मंच जो कि साहित्यिक संस्था है जो प्रति वर्ष साहित्य और पत्रकार से जुड़े रहकर समाज की सेवा करने का काम करते हैं उन्हें सम्मानित करती रहती है। पिछले 27 सालों से ये संस्था देश भर से ऐसी महानुभूतियों की खोज कर अपने मंच पर बुला कर सम्मानित करती रही है जिसके 28 वें पायदान पर दिल्ली के इस ऐतिहासिक गांधी पीस फाउंडेशन सभागार में ये आयोजन कर भारत ही क्या विश्व भर में साहित्य का गौरव बढाने व उसे सँजोये रखने का संदेश दिया है।

संपर्क
राजू बोहरा
मीडिया प्रभारी



सम्बंधित लेख
 

Back to Top