आप यहाँ है :

मिशन अमानत : यात्रियों के खोए हुए सामान को खोजने में मदद करने के लिए एक अभिनव पहल

पश्चिम रेलवे का सुरक्षा विभाग अपने यात्रियों की सुरक्षा और सुविधा बढ़ाने के लिए लगातार प्रयासरत है। आरपीएफ उनके सामान की सुरक्षा और सुरक्षा सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसी दिशा में यात्रियों को अपना खोया हुआ सामान वापस पाना आसान बनाने के लिए आरपीएफ ने एक नई पहल की है।

पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार मिशन अमानत पहल के तहत फोटो के साथ खोए हुए सामान का विवरण पश्चिम रेलवे की आधिकारिक वेबसाइट पर पोस्ट किया जाता है। आरपीएफ द्वारा यह सूचना “मिशन अमानत – आरपीएफ” लिंक के तहत डिवीजनों के टैब में wr.indianrailways.gov.in पर अपलोड की जाती है। यात्री यहाँ से जान सकते हैं कि उनका सामान जो गुम हो गया था या रेलवे परिसर या ट्रेनों में खो गया था, स्टेशनों पर लॉस्ट प्रॉपर्टी ऑफिस केंद्रों पर उपलब्ध है कि नहीं। इससे यात्रियों को अपने खोए हुए सामान को खोजने और वापस पाने में आसानी होगी।

उल्लेखनीय है कि वर्ष 2021 के दौरान जनवरी से दिसंबर तक पश्चिम रेलवे के आरपीएफ ने 1317 यात्रियों से संबंधित 2.58 करोड़ रुपये मूल्य के सामान को बरामद किया और उचित सत्यापन के बाद उन्हें उनके मालिकों को वापस कर दिया। आरपीएफ यात्रियों के लिए यह सेवा ‘ऑपरेशन मिशन अमानत’ के तहत कर रही है।

पश्चिम रेलवे का रेल सुरक्षा बल (RPF) यात्रियों को एक सुरक्षित और आरामदायक यात्रा अनुभव प्रदान करने के लिए चौबीसों घंटे काम करता है। आरपीएफ ने अपराधों का पता लगाने के लिए निवारक उपायों के साथ-साथ देश भर में दूर-दूर तक फैले रेलवे की विशाल संपत्ति की सुरक्षा की जिम्मेदारी का निर्वहन सफलतापूर्वक किया है।

image_pdfimage_print


Get in Touch

Back to Top