आप यहाँ है :

निगम चुनावों के राष्ट्रीय अर्थ

दिल्ली नगर निगमों के चुनाव ने जिस तरह की राष्ट्रीय सुर्खियां पाईं हैं वह अस्वाभाविक नहीं है। दिल्ली देश की राजधानी भी है। इन सबसे अलग लोगों का इस चुनाव पर ध्यान कई कारणों से था। सबसे पहला तो यही कि एक समय भ्रष्टाचार के विरुद्ध अभियान से उभरी तथा राष्ट्रीय विकल्प का दावा करने वाली आम आदमी पार्टी के लिए यह चौथा चुनाव तथा 2015 के विधानसभा में 70 में से 67 सीटें जीतने के अपार बहुमत के बाद पहला चुनाव था। इस नाते लोग यह देखना चाहते थे कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के नेतृत्व वाली आम आदमी पार्टी को वही लोकप्रियता प्रदेश में प्राप्त है या उसमें छीजन हुआ है। पंजाब एवं गोवा में मुंह की खाने के बाद ऐसा सवाल लोगों के मन मे ंउभरना बिल्कुल स्वाभाविक था। वैसे भी आप का हर वक्तव्य, उसके हर कदम राष्ट्रीय चर्चा के विषय बनते रहे हैं। इसमें ऐसा कोई चुनाव जिसमें उसे मुख्य चुनौती माना जा रहा हो उसे कोई स्थानीय मानकर नजरअंदाज कैसे कर सकता था। दूसरी तरफ भाजपा ने इस चुनाव को स्थानीय की बजाय राष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य देने की रणनीति अपनाई। उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में शानदार सफलता के बाद लोग यह देखना चाहते थे कि भाजपा की विजय धारा कायम रहती है या उस पर किसी तरह का ब्रेक लगता है। ऐसा नहीं था कि दिल्ली नगर निगमों के चुनाव में स्थानीय मुद्दे नहीं थे, लेकिन यह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बनाम अरविन्द केजरीवाल में परिणत हो गया था। और सबसे अंत में कांग्रेस की दशा क्या रहती है इसमें भी लोगों की अभिरुचि थी।

इन सब कारकों को एक साथ मिलाकर विचार करें तो निष्कर्ष यही आएगा कि स्थानीय नगर निगमों का चुनाव होते हुए भी इसका राष्ट्रीय महत्व था। इस तरह जो परिणाम आए हैं उनका महत्व भी राष्ट्रीय है। कई लोग मत प्रतिशत को आधार बनाकर अलग-अलग निष्कर्ष निकाल रहे हैं। मसलन, इसमें भाजपा को 36.08 प्रतिशत, आप को 26.23 प्रतिशत तथा कांग्रेस को 21.09 प्रतिशत मत मिला है। 2012 के निगम चुनाव में भाजपा को 36.74 प्रतिशत मत मिला था। इसके आधार पर कुछ लोग कह रहे हैं कि भाजपा का मत तो थोड़ा घटा है। उस समय संघर्ष दो ध्रुवीय था। तब आप नहीं थी। जब तीन पार्टियों होंगी तो मतों में थोड़ा अंतर आएगा ही। वैसे भी यह अंतर इतना नहीं है जिसे बहुत महत्व दिया जाए। अगर 2015 के विधानसभा के अनुसार देख जाए तो भाजपा को 32.02 प्रतिशत तथा आप को 54.03 प्रतिशत मत मिला था। आप के मतों में करीब 28 प्रतिशत की कमी आई है और यह असाधारण कमी हैं। दो वर्ष कुछ महीने में इतने ज्यादा मतों का छीजन किसी पार्टी के बारे में विरोधी जन मनोविज्ञान का स्पष्ट प्रमाण है। इसके अनुसार भाजपा के मतों में करीब 4 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। कांग्रेस को 2015 के विधानसभा चुनाव में 9.7 प्रतिशत मत मिला था। तो उसका मत बढ़ा है। लेकिन कांग्रेस को 2012 में 30.50 प्रतिशत मत मिले थे। तो वहां तक पहुंचने में वह सफल नहीं रही है। यह उसकी चिंता को बनाए रखने वाला है। अगर 2014 लोकसभा चुनाव के अनुसार देखें तों भाजपा को 46.40 प्रतिशत, कांग्रेस को 15.10 प्रतिशत तथा आप को 32.90 प्रतिशत मत मिला था। इसके अनुसार भाजपा के मतों में भारी कमी, आम के मतों में भी कमी एवं कांग्रेस के मतों में वृद्धि हुई है। तो क्या इससे हम चुनाव का मूल्यांकन कर दें?

इसके आधार पर मूल्यांकर करें तो चुनाव परिणाम से सबसे ज्यादा खुश कांग्रेस को होना चाहिए, जबकि ऐसा है नही। वह दूसरी जगह की पार्टी भी नहीं रही, तीसरे स्थान पर खिसक गई। वास्तव में कांग्रेस के लिए भी यह चुनाव साधारण झटका नहीं है। इसके पूर्व रजौड़ी गार्डन उप चुनाव में भाजपा के बाद वह दूसरे स्थान पर थी। इसका निष्कर्ष यह निकाला गया कि दिल्ली का राजनीतिक चरित्र फिर से परंपरागत स्थान पर लौट रहा है। यानी आम आदमी पार्टी पराभव की ओर है तथा दिल्ली की राजनीति भाजपा बनाम कांग्रेस में परिणत हो रही है। वास्तव में कांग्रेस के पास इसका अवसर था। कांग्रेस स्वयं इस अवसर का लाभ उठाने में सक्षम नहीं हो सकी हैं तो इसके कारण गहरे हैं। वस्तुतः पंजाब में कांग्रेस की विजय अवश्य हुई, लेकिन 2013 से ज्यादातर राज्यों और लोकसभा चुनाव में पराजय के दंश से वह उबरी नहीं है। खिसके जनाधार को पाने, नेतृत्व की क्षमता के प्रति अविश्वास को दूर करने तथा विचारधारा को लेकर कायम अस्पष्टता को खत्म करने के लिए कांग्रेस ने इन सालों में ऐसा कुछ नहीं किया है जिससे जन धारणा में बदलाव आए। इन कारणों से पार्टी के अंदर निराशा है तथा वह अंदरुनी कलह का भयावह शिकार है। दिल्ली नगर निगम चुनाव अभियान के दौरान कई प्रमुख नेताओं के साथ रिकॉर्ड संख्या मंें लोगों ने कांग्रेस का दामन छोड़ा। जाहिर है, कांग्रेस की इस स्थिति को केवल दिल्ली तक सीमित नहीं माना जा सकता। इसका पूरा परिप्रेक्ष्य राष्ट्रीय है। इस तरह कांग्रेस के लिए गहरे आत्ममंथन का परिणाम है यह।

जहां तक भाजपा का प्रश्न है तो उसके लिए यह विजय की धारा का आगे बहते रहना है। भाजपा के विरोधी चाहे कुछ भी कहें, निष्पक्षता से विश्लेषण करने पर इस तथ्य को स्वीकार करना होगा कि नरेन्द्र मोदी की लोकप्रियता अभी जनता मंे कायम है। चुनाव था निगम का और नाम नरेन्द्र मोदी का। भाजपा ने इसे इस तरह प्रचारित किया कि मोदी जिस तरह का नया भारत बनाना चाहते हैं दिल्ली उसका अंग है। इसलिए यदि दिल्ली को भी मोदी के सपने के अनुरुप बनाना है तो भाजपा को मत दीजिए। चुनाव परिणाम इस बात का प्रमाण है कि लोगों ने इस अपील को स्वीकार किया। यानी मोदी पर विश्वास किया है। दिल्ली नगर निगम चुनाव परिणाम को देखकर यह मानकर चलना पड़ेगा कि इसका असर आगामी राज्य विधानसभा चुनावों पर भी होगा। यह सारे विपक्ष के लिए चिंता का कारण बनेगा। ऐसा नहीं है कि भाजपा में कमियां नहीं हैं, वह गलतियां नहीं कर रहीं लेकिन सफलता सारी गलतियों व कमियों को ढंग देती हैं जबकि असफलता में छोटी-छोटी गलतियां और कमियां भी उजागर हो जातीं हैं। भाजपा ने अपने सभी पुराने पार्षदों का टिकट काटकर 10 वर्ष के सत्ता विरोधी रुझान को कम करने की रणनीति अपनाई। इस कारण जगह-जगह विद्रोह का आलम भी था और भाजपा इससे कुछ सीटें हारीं भी लेकिन जनता ही निकलकर भाजपा को मोदी के नाम पर वोट दे रही थी इसलिए उसे पिछली बार की तुलना में 43 सीटांे का फायदा हो गया।
चुनाव परिणाम यदि सबसे ज्यादा आधात किसी के लिए साबित हुआ है तो वह है आम आदमी पार्टी यानी आप। निष्कर्ष बहुत सरल है। जनता ने अरविन्द केजरीवाल सरकार के कार्य, उनके और उनके साथियों की राजनीतिक व्यवहार शैली के खिलाफ गुस्सा व्यक्त किया है। इतनी बुरी हार का सीधा मतलब है कि जनता ने आप के खिलाफ प्रतिशोधात्मक मतदान किया है। यानी आपने जो ईमानदार, नैतिक, सदाचार और शालीनता से भरे शासन तथा राजनीतिक-व्यक्तिगत आचरण का वायदा किया आप का काम उसके विपरीत रहा है। ऐसा नहीं है कि आप सरकार ने बिल्कुल काम नहीं किया, या कोई अच्छा काम नहीं किया, लेकिन उससे अपेक्षाएं बिल्कुल अलग थीं। वह देश को राजनीति में एक नए विकल्प देने के दावे के साथ सत्ता में आई थी। अरविन्द केजरीवाल की एकाधिकारवादी शैली के कारण वे सब लोग पार्टी से बाहर हो गए या कर दिए गए जो उन पर प्रश्न खड़ा कर सकते थे, उनके किसी बात को नकार सकते थे या उनसे कह सकते थे कि आप ऐसा नहीं करें या ऐसा करें। यह सब विधानसभा चुनाव परिणाम के बाद हुआ। आज आप के नेता दिल्ली परिणाम को ईवीएम लहर बताकर जनादेश का अपमान कर रहे हैं। इसका अर्थ है कि जनता से इनका संपर्क इतने कम समय में ही कट गया है। इसलिए वे समझ नहीं पा रहे कि जनता के ंअंदर उनको लेकर कितना गुस्सा है।

तो कुल मिलाकर इस चुनाव परिणाम का निष्कर्ष यह है कि देश को राजनीतिक विकल्प देेने का विश्वास देने वाली पार्टी इस समय अपने केन्द्र दिल्ली में ही अंतिम सांसें गिनना शुरु कर रही है। इसलिए जो विकल्प की राजनीति चाहते हैं उन्हंे नए सिरे से प्रयास करना होगा। दूसरे, अभी मोदी ऐसा नाम है जिसके समानांतर कोई नेता लोकप्रियता के मुकाबलें में राष्ट्रीय क्षितिज पर नहीं। और कांग्रेस के लिए अपने को संभालने तथा फिर से खड़ा करने के लिए बहुत ज्यादा और कई स्तरों पर सतत काम करने की आवश्यकता है।
अवधेश कुमार, ई.ः30, गणेश नगर, पांडव नगर कॉम्प्लेक्स, दिल्लीः110092, दूर.ः01122483408, 09811027208



सम्बंधित लेख
 

ईमेल सबस्क्रिप्शन

PHOTOS

VIDEOS

Back to Top