आप यहाँ है :

विदेशी भाषा में पढ़कर हमारे बच्चे मौलिकता खो देते हैंः डॉ. वैदिक

कोलकाता, 16 दिसंबर, 2018. ‘अपनी भाषा’ संस्था ने अपना अठारहवाँ स्थापना दिवस समारोह मनाते हुए भारतीय भाषा परिषद सभागार में ‘बौद्धिक समाज और भाषिक उदासीनता’ विषय पर एक राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया. विशिष्ट अतिथि डॉ. वेदप्रताप वैदिक ने कहा कि ‘अपनी भाषा’ वह मशाल जला रही है जो भारतीय भाषाओं को अंधेरे के गर्भ में जाने से बचा सकती है. स्वभाषा में हस्ताक्षर करना गुलाम मानसिकता से उबरना है, साथ ही अपनी भाषाओं और अपने देश को मौजूद करना है. आज देश में कोई ऐसा चरित्र नहीं है जिसका अनुकरण किया जा सके. देश अममून नेतृत्वविहीन हो चुका है. ऐसे ही स्थिति में फ्रांस, रुस और जांन पिट्सबर्ग में खूनी क्रांति ने जन्म लिया. लेकिन हमने इसे भी विफल होते देखा है. विचारों की ताकत परमाणु बम से भी अधिक है. अंग्रेजी हटाओ का मतलब यह थोड़े ही है कि अंग्रेजी मिटाओ. अंग्रेजी हमारी बौद्धिक क्षमता को खत्म कर रहा है. हम शनै: शनै: चारित्रिक छिन्नता के शिकार हो रहे हैं. सरकारी नौकरियों में अंग्रेज़ी की अनिवार्यता समाप्त होनी चाहिए और संसद में नेतागण स्वभाषा में ही भाषण दें. अंग्रेजी के कारण हमारी न्याय व्यवस्था अन्याय व्यवस्था में बदल गयी है.

 

 

संगोष्ठी के अध्यक्ष प्रो. रविभूषण ने कहा कि भाषा के प्रति बौद्धिक समाज अपना नैतिक दायित्व नहीं निभा रहा है. भाषा के नष्ट होने का अर्थ है, अपने समाज, संस्कृति और भावों से कट जाना है. भाषा केवल कविता में नहीं बचती, वह तब बचती है, जब वह जीवन में भी बची रहती है. संगोष्ठी के मुख्य वक्ता पंजाब विश्वविद्यालय के प्रो. जोगा सिंह विर्क ने कहा कि अंग्रेजी भाषा में पढ़ने वालों के बच्चों की भाषा एक दिन अंग्रेजी होगी और तब हमारी स्व-भाषाएं संस्कृत की तरह मृतप्राय हो जाएगी. जब तक हमारी स्व-भाषाएँ शिक्षा का माध्यम नहीं बनेंगी, तब तक वह नहीं बचेगी. आज हमारा देश विज्ञान, टेक्नोलॉजी, डॉक्टरी, इंजीनियरिंग आदि में पिछड़ा हुआ है तो केवल अंग्रेजी के माध्यम होने के कारण. जापान 1945 के 15 वर्षों में ही फिर से महाशक्ति बनकर उभरा तो केवल इसलिए कि उसने मातृभाषा को ही शिक्षा का माध्यम बनाए रहा. भारत से 2 साल बाद आजाद हुए चीन ने आज विश्व में एक सर्वशक्तिशाली महाशक्ति के रुप में उभरा तो इसी कारण. दुनिया का कोई भी विकसित देश विदेशी भाषा में शिक्षा नहीं देता. जो देश शिक्षा में आगे होगा, वही दुनिया पर राज करेगा और जो देश अपनी स्व-भाषाओं में शिक्षा देगा वही शिक्षा में आगे होगा. अपनी भाषा के अध्यक्ष प्रो. अमरनाथ ने कहा कि भाषा के मुद्दे पर बौद्धिक समाज की गहरी चुप्पी शुभ संकेत नहीं है. धारा के विरुद्ध चलने का काम कठिन है. यह सरकार का दायित्व है कि अंग्रेजी का वर्चस्व कैसे कम हो? यह काम करे सरकारें. सरकार के ठीक से काम न करने के कारण आज 90℅ आभिभावक अपने बच्चों को अंग्रेजी माध्यम में पढ़ाते है.

वक्ता और चिंतक डॉ. प्रियंकर पालीवाल रवींद्रनाथ के हवाले से कहा कि ‘अंग्रेजी हमारे भाव की भाषा नहीं है’ और जो हमारे जीवन और भाव की भाषा नहीं है, उसे शिक्षा का माध्यम बनाए रखकर एक ऐतिहासिक गलती करते आ रहे हैं. इस अवसर पर अपनी भाषा की लगभग 20 वर्षों की लोक-यात्रा का साहित्यिक इतिहास का पुस्तकाकार रुप में लोकार्पित हुआ. कार्यक्रम में डा. हितेंद्र पटेल, संस्था के महासचिव प्रो. अरुण होता, डॉ. सत्यप्रकाश तिवारी, डॉ. वासुमति डागा, जीवन सिंह, डॉ. राजेंद्र, डॉ. रचना पांडेय, डॉ. अर्चना द्विवेदी, डॉ. रीना राय, ज्योति चौधरी आदि उपस्थित थे. कार्यक्रम का सफल संचालन डॉ. बीरेन्द्र सिंह और धन्यवाद ज्ञापन की औपचारिक भूमिका डॉ. विक्रम कुमार साव ने किया.



Leave a Reply
 

Your email address will not be published. Required fields are marked (*)

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

सम्बंधित लेख
 

Back to Top