आप यहाँ है :

मध्य रेल की दो गाडियों में पर्यावरण अनुकूल (डिस्पोजि‍बल) कचरे की थैलियों प्रयोग में आएँगी

 

रेल मंत्री श्री सुरेश प्रभु द्वारा घोषि‍त रेल बजट को अमली जामा पहनाते हुए मध्य रेल ने भारतीय रेल मे पहली बार दो एक्सप्रेस गाडियों के ऊंचे दर्जे (एसी) कोचों के यात्रियों को पर्यावरण –अनुकूल डिस्पोजिबल कचरा थैलियों का वितरण प्रारंभ किया है। इन थैलियों को लिनन पैकेट के रूप में इसकी आपूर्ति की जा रही है। लिनन को पैकेट से बाहर निकालने के बाद यात्री इस खाली बैग का उपयोग सुखे या गीले कचरे को रखने या कचरे को दूर करने के लिए कर सकते है।

इस प्रायोगिक परियोजना को पहले मध्य रेल की गाडी संख्या 12133/12134 छत्रपति शि‍वाजी टर्मिनस – मंगलोर एक्सप्रेस (वाया कोकण रेलवे) तथा 11077/11078 पुणे-जम्मू तावी ‘झेलम एक्सप्रेस’ जैसी दो प्रतिष्ठि‍त गाडियों में आरंभ किया गया है। इन थैलियों को यात्री स्वयं डस्टबिन मे डाल सकता है या ऑन बोर्ड हाऊसकिपिंग कर्मचारी द्वारा उनके रूटिन राऊंड के दरम्यान वो इन थैलियों को इकट्ठा कर डिब्बे को साफ रखा जा सकता है।

इन आकर्षक हल्के हरे रंग की थैलियों पर ऑन बोर्ड हाऊस किपिंग सेवा तथा अति – महत्वपूर्व आग से संबंधि‍त सुरक्षा निर्देशों को प्रिंट किया गया है। इन थैलियों के उपयोग से हमारे माननीय प्रधानमंत्री द्वारा आरंभ किए गए ‘स्वच्छ भारत अभि‍यान’ को प्रभाव की गतिबल मिलेगी।

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top