आप यहाँ है :

अपने अनुभव से नीति निर्धारण और विकास में योगदान दें पेंशनरः बिरला

लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि पेंशनर्स का अनुभव देश की अमूल्य निधि है। पेंशनर अपने अनुभव से नीति निर्धारण और विकास में योगदान देकर समाज के कल्याण का मार्ग प्रशस्त करें। वे रविवार को राजस्थान पेंशनर समाज के वार्षिक अधिवेशन को संबोधित कर रहे थे। श्रीनाथपुरम स्थित एक निजी विद्यालय के परिसर में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए लोकसभा अध्यक्ष बिरला ने कहा कि पेंशनर्स ने अपने सेवाकाल में जीवन का बहुमूल्य समय राज्य और देश की प्रगति को और समाज की सेवा को समर्पित किया। अपने समर्पण के कारण पेंशनर्स ने आमजन के जीवन में सकारात्मक बदलाव लाने में सफल रहे।उन्होंने कहा कि सेवानिवृत्ति के बाद के जीवन में भी पेंशनर्स समाज के लिए अपनी बहुपयोगी भूमिका निभा सकते हैं। आदर्श विकास की रूपरेखा तैयार करने में पेंशनर्स अहम योगदान दे सकते हैं। वे अपने अनुभव से नीतियों के निर्धारण और उनके क्रियान्वयन को उचित दिशा दे सकते हैं। इसके अतिरिक्त उनके अनुभव का लाभ वर्तमान पीढ़ी को भी मिल सकता है, जो अब सेवा की उनकी विरासत को आगे बढ़ा रही है। इस दौरान उन्होंने सराहनीय सेवाओं के लिए पेंशनर्स को पेंशनर शिरोमणी सम्मान से भी सम्मानित किया।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए स्वायत्तशासन मंत्री शांति धारीवाल ने राज्य सरकार द्वारा पेंशनर्स के कल्याण के लिए उठाए जा रहे कदमों की जानकारी दी। विधायक मदन दिलावर ने कहा कि पेंशनर्स समाज का महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। हमें भी उनकी दीर्घकालिक अनुभव और ज्ञान का लाभ मिलता है। विधायक चंद्रकांता मेघवाल ने कहा कि पेंशनर्स सहित समाज के सभी वर्ग आज कठिन दौर से गुजर रहे हैं। हम विधानसभा में उनकी समस्याओं को उठाना चाहते हैं लेकिन राज्य सरकार सदन को चलाने को तैयार नहीं हैं। विधायक संदीप शर्मा ने कहा कि पेंशनर्स की मांगों में वे सदैव उनके साथ हैं। पेंशनर्स को जब भी आवश्यकता होगी, उनके विषयों को सरकार तक पहुंचाने में वे आगे रहेंगे।

कार्यक्रम में पेंशनर्स से अपने भावनात्मक रिश्तों की बात करते हुए स्पीकर बिरला ने कि आपके और मेरे संबंध पिता-पुत्र के समान हैं। मेरी पहली चुनावी जीत से लेकर आज तक मैंने जो भी हासिल किया उसमें पेंशनर्स की प्रेरणा, आशीर्वाद और मार्गदर्शन ने अहम भूमिका निभाई। उन्होंने कि उनके पिता भी एक पेंशनर थे, इस कारण वे सभी पेंशनर्स में अपने पिता की छवि देखते हैं।

राजस्थान पेंशनर समाज के कार्यों की सराहना करते हुए स्पीकर बिरला ने कहा कि पेंशनर्स के हितों की रक्षा के लिए संगठन सक्रियता से कार्यरत है। कोरोना के दौरान भी संगठन ने पेंशनर सहित समाज के सभी वर्गों को सहयोग देने में अग्रणी भूमिका निभाई। उन्होंने इसके लिए राजस्थान पेंशनर समाज का साधुवाद भी व्यक्त किया।.

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top