Tuesday, March 5, 2024
spot_img
Homeअध्यात्म गंगाकश्मीरी रामायणकार में प्रभु रामचन्द्र का व्यक्तित्व

कश्मीरी रामायणकार में प्रभु रामचन्द्र का व्यक्तित्व

(रामचन्द्रजी द्वारा शिव-धनुष तोड़े जाने के बाद विश्वामित्र राजा जनक से राम-सीता-विवाह के प्रसंग में भगवान रामचन्द्र की क्षमताओं,दिव्यताओं और योग्यताओं का जिस तरह से वर्णन करते हैं, उन्हें कश्मीरी रामायणकार प्रकाशराम ने “रामातारचरित” में अपनी भावपूर्ण(फ़ारसी-मिश्रित) भाषा-शैली में यों बयान किया है:पुस्तक शीघ्र छपकर आ रही है।)

लड़का (रामचन्द्रजी) बहुत ही खुश-शक्ल, प्रबुद्ध एवं हुनरमंद (कलावंत) है। ऐसे हुनरमन्दों के पास लक्ष्मी की कोई सीमा नहीं होती। आप चाहें तो उन्हें अगाफिल रूप से बुलाकर तथा अनजाने में (पोशीदा रूप में) देखकर उन्हें आज़मा सकते हैं। वे बिना दवाई के मुर्दो को जिन्दा करने वाले हकीम हैं। कलाकार वे ऐसे हैं कि हवा में अपनी क़लम से तसवीरें बनाते हैं, कारीगर ऐसे हैं कि बहते पानी (आबे-रवानी) में संगीन (कठोर, स्थायी) तामीर-खाना (भवन) बना सकते हैं। ज्योतिषी ऐसे हैं कि उन्हें सभी के आगाज़ो-अंजाम की खबर रहती है तथा कायनात के गरदिश की सारी बातें उनके दिल पर लिखी रहती हैं। परन्तु वे किसी पर अपना रहस्य प्रकट नहीं करते हैं। इस प्रकार (रामचन्द्रजी की बड़ाई में) अभिशंसा-वचन कहकर उस(ऋषि विश्वामित्र) ने एक मध्यस्थ की भूमिका अच्छी तरह निभा ली। दरअस्ल, उन दो (राम और सीता) का संयोग होना लिखा था और ऋषि ने यह भार अपने ऊपर ले लिया अर्थात वे निमित्त बन गये।

(डॉ० शिबन कृष्ण रैणा)

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार