ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

किसी फैक्ट्री की तरह स्कूल खोल रहा है पिंटो परिवार

भारत के मध्यम वर्गीय परिवारों की अंग्रेजी की गुलामी को ‘पिंटोज’ परिवार ने आज से लगभग 30-35 साल पहले समझ लिया था। तब भारत वैश्वीकरण के दरवाजे पर खड़ा था। दुनिया की बड़ी-बड़ी कंपनियां भारत में आने को तैयार थीं। इसी दौरान अगस्टाइन एफ पिन्टो और उनकी पत्नी मैडम ग्रेस पिन्टो भारतीय मध्य वर्ग के लिए अंग्रेजीदां सपने बुन रहे थे। ये जोड़ा भारत में ऐसे स्कूल की श्रृंखला तैयार करने में जुटा था जो न्यू इंडिया के लिए अंग्रेजी भाषा पर शानदार अधिकार रखने वाले वर्कफोर्स की एक विशाल फौज तैयार करने वाला था। आज रयान इंटरनेशनल ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशन्स (RIGI) में 18 हजार फैकल्टी मेंबर्स यानी टीचर काम करते हैं, ये टीचर 2 लाख 70 हजार छात्रों को शिक्षा देते हैं, भारत में इस ग्रुप के 130 से ज्यादा स्कूल हैं जबकि खाड़ी देशों में भी इस ग्रुप में अपने पांच स्कूल खोल रखे हैं। रयान स्कूल से हर साल 30 हजार बच्चे निकलते हैं। ये संस्थान हर साल अपने स्कूलों की फेहरिस्त में 4 से 5 नये विद्यालय जोड़ता है। इस ग्रुप ने अभी अमेरिका, संयुक्त अरब अमीरात, थाइलैंड और मालदीव में एजुकेशन सेक्टर में कई समझौते किये हैं, जो दिखाता है कि शिक्षा क्षेत्र में पिंटोज परिवार अभी कई मुकाम और छूने को तैयार है।

आइए अब रयान ग्रुप के सफर पर एक नजर डालते हैं। रयान ग्रुप के संस्थापक अगस्टाइन एफ पिन्टो का जन्म कर्नाटक के मैंगलोर में हुआ था। पिन्टो ने चेन्नई के लोयला कॉलेज से अर्थशास्त्र में ग्रेजुएशन किया और काम की तलाश में मुंबई आए। इन्होंने 1970 में अपनी पहली नौकरी एक प्लास्टिक कंपनी में की लेकिन दो साल बाद कंपनी बंद हो गई और इनकी नौकरी चली गई। इसके बाद एक दोस्त की सिफारिश मुंबई के मलाड में इन्होंने टीचर की एक नौकरी की। यही वो दौर था जब एफ पिन्टो ने अपने अंदर छिपे शिक्षक को पहचाना और अंग्रेजी के लिए इंडियन मिडिल क्लास की ललक को समझ पाए। पढ़ाई के दौरान ही अर्थशास्त्र के शिक्षक को गणित की शिक्षिका ग्रेस एलबुबर्क से प्रेम हुआ और 1974 में इन्होंने शादी कर ली। तब इन दोनों ने एक ही लक्ष्य रखा-भारत में लोगों को कम पैसे में अंग्रेजी मीडियम की अच्छी शिक्षा देना। 1976 में 10 हजार की लागत से इन्होंने बोरिवली में एक स्कूल खोला। इन दोनों का पहला ज्वाइंट वेंचर सफल नहीं रहा लेकिन दोनों के इरादे अभी भी नहीं बदले।

इन दोनों ने 1983 में मुंबई के बोरिवली इस्ट में संत जेवियर्स हाई स्कूल नाम से फिर एक विद्यालय खोला। पत्नी ग्रेस एलबुबर्क की मदद से ये प्रोजेक्ट सफल रहा। इसके बाद इस जोड़े ने फिर मुड़कर पीछे नहीं देखा। ग्रेस एलबुबर्क अब मैडम ग्रेस पिंटो के नाम से जानी जाती हैं और इस ग्रुप की मैनेजिंग डायरेक्टर हैं। ये ग्रुप पूरा कॉरपोरेट स्टाइल में काम करता है। और ग्रुप के उत्तराधिकारी हैं अगस्टाइन एफ पिन्टो और मैडम ग्रेस पिन्टो के बेटे रयान पिन्टो। रयान के नाम पर ही संस्थान का नाम है। लंदन के कास बिजनेस स्कूल से बिजनेस और आंत्रप्रन्योरशिप की डिग्री हासिल करने वाले रयान ग्रुप के चीफ एक्गीक्यूटिव ऑफिसर है और मुख्य रूप से संस्था के विदेश के कामों को देखते हैं। रयान की दो बहनें स्नेहल और सोनल पिंटो की एजुकेशन के ही क्षेत्र में हैं और फैमिली बिजनेस से ही जुड़ी हैं।

साभार- इंडियन एक्सप्रेस से

Print Friendly, PDF & Email


सम्बंधित लेख
 

ईमेल सबस्क्रिप्शन

PHOTOS

VIDEOS

Back to Top