आप यहाँ है :

रायपुर : मुख्यमंत्री तीर्थयात्रा योजना से अब तक 2.10 लाख तीर्थयात्री लाभान्वित

राज्य शासन की मुख्यमंत्री तीर्थयात्रा योजना से अब तक 2।10 लाख तीर्थयात्री लाभान्वित हुए है ।समाज कल्याण विभाग द्वारा वर्ष 15 जनवरी 2013 को इस योजना का शुभारम्भ किया गया और पहली यात्रा शिरडी,शनि सिंगनापुर और त्र्यम्बकेश्वर भेजी गयी थी। वर्ष 2014 से४ निःशक्तजनों को भी इस योजना का लाभ दिलाया जा रहा है और अब तक 06 यात्राओं के माध्यम निःशक्तजनों को तीर्थ यात्रा पर भेजा गया है ।

उल्लेखनीय है कि वर्ष 2012-13 में 15 यात्राओं से 14 हजार 390,वर्ष 2013-14 में 66 यात्राओं से 57 हजार 462,वर्ष 2014-15 में 37 यात्राओं से 32 हजार 729,वर्ष 2015-16 में 49 यात्राओं से 45 हजार 624 ,वर्ष 2016-17 में 38 यात्राओं से 34 हज़ार 729, वर्ष 2017-18 में दिसंबर तक 28 यात्राओं से 25 हजार 975 तीर्थयात्रियों को इस योजना का लाभ दिलाया गया है।

ज्ञातव्य हो कि छत्तीसगढ़ मुख्यमंत्री तीर्थयात्रा योजना नियम 2012 के तहत छत्तीसगढ़ के निवासी वरिष्ठ नागरिकों जिनकी आयु 60 वर्ष से अधिक हो ,को उनके जीवनकाल में एक बार प्रदेश के बाहर स्थित विभिन्न तीर्थस्थानों पर शासकीय सहयोग से तीर्थयात्रा पर भेजा जाता है ।इसके लिए इच्छुक वरिष्ठ नागरिक निर्धारित प्रपत्र में ग्राम पंचायत /जनपद पंचायत या जिला स्तर पर संयुक्त /उपसंचालक को अपना आवेदन प्रस्तुत करते हैं ।इसके बाद जिला कलेक्टर द्वारा प्रस्तुत आवेदनों की जाँच कर 80 प्रतिशत बी।पी।एल। अन्त्योदय एवं मुख्यमंत्री खाद्यान्न सहायता योजना के कार्डधारी एवं 20 प्रतिशत ए।पी।एल परिवार के ऐसे बुजुर्ग जो आयकर दाता न हों का चयन किया जाता है ।साथ ही चयनित हितग्राहियों में से 75 प्रतिशत ग्रामीण क्षेत्र और 25 प्रतिशत शहरी क्षेत्र से होना आवश्यक है ।यात्रा के दौरान परिवहन, भोजन और रुकने का पूरा खर्च राज्य शासन द्वारा वहन किया जाता है इसके लिए राज्य सरकार ने भारतीय रेलवे के इंडियन रेलवे केटरिंग एंड टूरिज्म कारपोरेशन (आई।आर।सी।टी।सी) से एम् ओ यू भी किया है ।

समाज कल्याण विभाग द्वारा अगले माह मार्च में चार हजार यात्रियों को विभिन्न तीर्थ स्थानों की यात्रा कराई जाएगी। इन यात्राओं के लिए तीथयात्रियों की संख्या निर्धारित कर दी गई है। पहली यात्रा 06 मार्च से 09 मार्च तक चलेगी। इस यात्रा में एक हजार यात्रियों को शिरडी, शनि सिंगनापुर, त्रयम्बकेश्वर की यात्रा कराई जाएगी। इसमें कोरिया जिले के 229, सूरजपुर के 252, बलरामपुर के 230 और सरगुजा के 289 तीर्थ यात्रियों का चयन किया जाएगा। दूसरी यात्रा 12 मार्च से 16 मार्च तक चलेगी। इस यात्रा में वेलांगणी चर्च, सेंट सेवास्टियन चर्च औरश्राइन बेसलिका चर्च की यात्रा कराई जाएगी। जिसमें राज्य भर के एक हजार तीर्थ यात्रियों का चयन किया जाएगा। तीसरी यात्रा 19 मार्च से 24 मार्च तक होगी। जिसमें राज्यभर से एक हजार तीर्थ यात्रियों का चयन कर उन्हें अजमेर शरीफ, पुष्कर, आगरा (चिश्ती की दरगाह) आदि तीर्थ स्थानों की यात्रा कराई जाएगी। चौथी यात्रा 27 मार्च से 31 मार्च तक जिसमें राज्य भर के एक हजार तीर्थ यात्रियों को अमृतसर, स्वर्ण मंदिर, वैष्णव माता मंदिर, बाघाबार्डर की यात्रा कराई जाएगी।



सम्बंधित लेख
 

Back to Top