ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

सीमा पर वीर जवानों को राखी बांधने पहुंची ‘परमवीर’ की लेखिका

सैनिकों को मंजू लोढ़ा से राखी बांधी, तो भावुक हो गए जवान

मुंबई, 18 अगस्त। जानी मानी लेखिका एवं समाजसेविका श्रीमती मंजू लोढ़ा ने रक्षाबंधन एवं स्वाधीनता दिवस का पर्व भारत पाकिस्तान की सीमा पर सैनिकों के साथ मनाया। श्रीमती लोढ़ा ने बॉर्डर पर देश की रक्षा में जुटे सैनिकों को राखी बांधी एवं देश की रक्षा करने के लिए उनके त्याग एवं बलिदान को नमन किया।
Rakhi_Sainik_Boarder_1
रक्षाबंधन एवं स्वाधीनता दिवस के मौके पर श्रीमती लोढ़ा ने विशेष रूप से यह कार्यक्रम बनाया था, जिसके तहत पूरे तीन दिन तक वे सेना के जवानों के साथ रहीं। राजस्थान के जैसलमेर जिले में तनोट, पोकरण व अन्य स्थलों पर बॉर्डर सिक्युरिटी फोर्स (बीएसएफ) 135 बटालियन की पोस्ट पर जाकर जवानों को श्रीमती लोढ़ा जब राखी बांध रही थीं, तो जवान भावुक हो गए। भारत – पाकिस्तान बॉर्डर पर श्रीमती मंजू लोढ़ा ने सेना के शिविरों में जाकर जवानों को अपनी हाल ही में हिंदी व अंग्रेजी में लिखी पुस्तक ‘परमवीर’ भी भेंट की। सीमा पर डटे जवानों के राखी बांधने की इस यात्रा के दौरान मुंबई में मलबार हिल से विधायक श्री मंगल प्रभात लोढ़ा भी उनके साथ थे। श्रीमती लोढ़ा तनोट विक्ट्री पिलर एवं परमवीर स्मारक भी गईं और शहीदों को शीश नंवाया। अपनी पुस्तक ‘परमवीर’ में क्श्रीमती लोढ़ा ने सैनिकों के दुर्गम परिस्थितियों में लड़ने के पराक्रम का भी विस्तार से जिक्र किया है। बीएसएफ की 135 बटालियन के जवानों के साथ तीन दिन गुजारने के बाद श्रीमती लोढ़ा ने मीडिया से बातचीत में कहा कि हम जिनकी देशसेवा एवं सीमा पर रक्षा करने की वजह से सुरक्षित जीवन जी रहे हैं, उन सैनिकों के साहस, त्याग, बलिदान एवं पराक्रम का हमें सम्मान करना चाहिए। श्रीमती लोढ़ा की पुस्तक ‘परमवीर’ का हाल ही में नई दिल्ली में रक्षा मंत्री के हाथों विमोचन हुआ, जिसके बाद देश भर में यह पुस्तक काफी चर्चा में है।

Print Friendly, PDF & Email


सम्बंधित लेख
 

ईमेल सबस्क्रिप्शन

PHOTOS

VIDEOS

Back to Top