आप यहाँ है :

संजय सिंह ने आनंद राय को कानूनी नोटिस भेजा

भोपाल। आरटीआई कार्यकर्ता आनंद राय द्वारा अपने ऊपर लगाए गए आरोपों को लेकर संजय सिंह ने आनंद राय को कानूनी नोटिस भेजा है।
उन्होंने कहा कि श्री शिवराज सिंह चौहान से व्यक्तिगत मेरी रिश्तेदारी है, मुख्यमंत्री की कुर्सी से नहीं। मैं मुख्यमंत्री के काम में कोई दखल नहीं देता और अपनी अजीविका अपनी मेहनत से चलाता हॅू। इसके बावजूद तथाकथित आरटीआई कार्यकर्ता डॉ. आनंद राय द्वारा मेरे ऊपर बेबुनियाद तथा असत्य आरोप लगाकर मेरी छबि तथा प्रतिष्ठा को धूमिल करने का अनुचित प्रयास किया गया है। यदि वे लगाए गए आरोपों में से एक भी आरोप साबित कर दें तो मैं सार्वजनिक जीवन से ही नहीं अपितु इस दुनिया से ही संन्यास ले लूंगा । इन आरोपों से मैं बहुत व्यथित हूँ और मैंने डॉ. आनंद राय को कानूनी नोटिस भेज कर कहा है कि वे इन आरोपों के लिए सार्वजनिक रूप से माफी मांगे अन्यथा उनके खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जाएगी।

पत्रकारों से चर्चा करते हुए श्री संजय सिंह मसानी ने कहा कि वे अपनी प्रतिभा के बलबूते पर फिल्म, पत्रकारिता तथा व्यवसायिक क्षेत्र में सक्रिय हैं। उनकी प्रतिभा तथा योग्यता पर सवाल उठाए जाने से वे व्यथित हैं। अनर्गल आरोपों से उनके परिवार जन तथा संबंधी भी परेशान र्हैं और उनकी सामाजिक छबि को ठेस पहुंच रही है। इस कारण उन्होंने डॉ. आनंद राय के खिलाफ कानूनी कार्यवाही करने का मन बनाया है। पत्रकार वार्ता में संजय सिंह के साथ मौजूद मुम्बई हाईकोर्ट के वकील राजेश बिंद्रा ने बताया कि उन्होंने डॉ. आनंद राय को कानूनी नोटिस भेज कर कहा है कि वे संजय सिंह पर लगाए गए आरोपों के लिए 15 दिवस के भीतर सार्वजनिक रूप से माफी मांगे अन्यथा उनके खिलाफ सक्षम न्यायालय में अपराधिक तथा दीवानी कार्यवाही की जाएगी।

पत्रकार वार्ता में संजय सिंह ने बताया कि पिछले दिनों सोशल मीडिया पर डॉ. आनंद राय द्वारा उनके खिलाफ असत्य तथा तथ्यहीन समाचार डाला गया था जिसमें अभद्र भाषा का इस्तेमाल करते हुए आधारहीन आरोप लगाए गए थे। जिनमें संजय सिंह का मुम्बई की ओबेराय बिल्डिंग के 6वें तल का पूरा मालिकाना हक, करोड़ो की संपत्ति के मालिक होने तथा मप्र सरकार द्वारा फिल्मों के कर में छूट दिलाने तथा फिल्म इंडस्ट्रीज में करोड़ों का निवेश कर फायदा उठाने, नर्मदा नदी से रेत का अवैध खनन कराने के आरोप शामिल थे।

संजय सिंह ने जोर दे कर कहा कि उन्होंने पत्रकारिता तथा कानून में डिग्री प्राप्त की है। अभिनय की कला भगवान द्वारा प्रदत्त है। व्यवसाय वे अपनी मेहनत तथा ईमानदारी से करते हैं। आरोपित संपत्ति से उनका कोई वास्ता नहीं हैं और न ही फिल्म इंडस्ट्रीज में उनका कोई निवेश है। ऐसी स्थिति में उन पर लगे सभी आरोप असत्य तथा आधार हीन हैं। यदि इन आरोपों में से एक भी आरोप सिद्ध हो जाए तो मैं अपने जीवन से ही मुक्ति ले लूंगा। मॉ गंगा तथा नर्मदा के प्रति अगाध श्रद्धा मुझें संस्कारों में मिली है। मैं मॉ नर्मदा को अर्पण करता हूँ उनकी कोख को खाली कर अपने परिवार का भरण पोषण करने जैसी घ्रणित बात कभी सपने में भी नहीं सोच सकता। उन्होंने दोहराया कि चिकित्सा जैसे पवित्र पैशे से जुड़े डॉ. आनंद राय का उक्त कृत्य बेहद घटिया तथा निदंनीय है जिसके खिलाफ मैंने कानूनी लड़ाई लडऩे का निर्णय लिया है। इस लड़ाई को मैं अंतिम निर्णय तक पहुंचाऊंगा तथा सच्चाई को उजागर करुंगा।

Print Friendly, PDF & Email


सम्बंधित लेख
 

ईमेल सबस्क्रिप्शन

PHOTOS

VIDEOS

Back to Top