आप यहाँ है :

शास्र्त्रीय संगीत और राग मात्र ध्वनि नहीं, स्वास्थ्य की कुँजी है

योग के एक आयाम में, मनुष्य के शरीर को ‘शिव का डमरू’ कहा गया है। शिव के हाथ में हमेशा एक डमरू होता है, क्योंकि वह जीवन की लय और ताल का प्रतीक है। जब आप दौड़ते हैं या फिर उत्तेजित या डरे हुए होते हैं, तो आपके सिर में “धन, धन, धन” की आवाज आपको सुनाई देती है।

हर छोटी से छोटी ध्वनि का एक खास असर होता है। अगर आप एक खास किस्म की आवाज सुनें, तो आप प्रेम से भर जाएंगे। कोई दूसरी आवाज आपको खुशी से भर सकती है। ध्वनियां सिर्फ भावनाएं ही नहीं पैदा करतीं, वे आपके शरीर का रसायन भी बदल देती हैं। यह शरीर का ताल है। शरीर की ताल सिर्फ दिल की धड़कन में नहीं है, यह तो शरीर के रग-रग में और नस-नस में है। हर तंतु की, हर नाड़ी की एक अपनी धुन होती है। हर चक्र की एक अपनी खास ध्वनि होती है। ध्वनि और रूप दो अलग-अलग बातें नहीं हैं। ध्वनि और शरीर का एक पूरा विज्ञान है, जो समझाता है कि विभिन्न ध्वनियों के उच्चारण से या विभिन्न ध्वनियों के प्रभाव-क्षेत्र में होने से शरीर पर क्या असर पड़ता है।

हर छोटी से छोटी ध्वनि का एक खास असर होता है। अगर आप एक खास किस्म की आवाज सुनें, तो आप प्रेम से भर जाएंगे। कोई दूसरी आवाज आपको खुशी से भर सकती है। कोई अलग तरह की ध्वनि आपको गुस्सा दिलाती है। ध्वनियां सिर्फ भावनाएं ही नहीं पैदा करतीं, वे आपके शरीर का रसायन भी बदल देती हैं। इसलिए जिस तरह की आवाज आप सुनते हैं, और जिस तरह की ध्वनि आप पैदा करते हैं, वह आपके ऊपर कई तरह के असर डालती है।

जिसे आप संगीत कहते हैं, वह ध्वनियों की एक सुंदर व्यवस्था है। संगीत इस धरती की हर सभ्यता में मौजूद रहा है और हमेशा आध्यात्मिक-प्रक्रिया का एक सोपान रहा है। खास तौर पर भारतीय शास्त्रीय संगीत आपको सृष्टि की सैर करा सकता है और एक सीमा के बाद सृष्टिकर्ता से आपका संपर्क भी करवा सकता है। भारतीय संस्कृति में, संगीत, नृत्य या और जो कुछ भी आपने किया, वह सिर्फ मनोरंजन के लिए ही नहीं था, वह एक आध्यात्मिक प्रक्रिया भी थी।

कहा जाता है कि तानसेन जब गाते थे, तो उनके संगीत से दीपक जल उठते थे। यह हकीकत भी हो सकती है। उन्होंने असल में ऐसा किया था या नहीं, यह हम नहीं जानते लेकिन अगर आप विज्ञान की नजर से इसे देखें, तो यह संभव है कि ध्वनि ऐसे करामात कर दे।शास्त्रीय संगीत में ध्वनि का जिस तरीके से इस्तेमाल किया जाता है- तरह-तरह के राग और सुर, उनमें अगर आप गहराई तक उतरें तो वह आपको ध्यान में ले जाता है। भारतीय शास्त्रीय संगीत ने गणितीय शुद्धता की हद तक बिल्‍कुल ठीक-ठीक यह पहचाना है कि कौन सी ध्वनि क्या असर कर सकती है। अगर आप ध्वनियों का इस्तेमाल करना जानते हैं, तो ध्वनियों की एक सही व्यवस्था, लोगों पर और स्थितियों पर जबरदस्त रूप से काम कर सकती है। संगीत के ऐसे बहुत से विद्वान हुए हैं, जो इस बात का अनुभव कर चुके हैं।

भारत में कई संगीतकारों के बारे में तरह-तरह की कहानियां और किंवदंतियां हैं। उन मशहूर कहानियों में से एक तानसेन की है। कहा जाता है कि तानसेन जब गाते थे, तो उनके संगीत से दीपक जल उठते थे। संभव है कि यह अतिशयोक्ति न हो। यह हकीकत भी हो सकती है। उन्होंने असल में ऐसा किया था या नहीं, यह हम नहीं जानते लेकिन अगर आप विज्ञान की नजर से इसे देखें, तो यह संभव है कि ध्वनि ऐसे करामात कर दे, जिनकी आप कल्पना भी नहीं कर सकते। सम्यमा जैसे हमारे कार्यक्रमों में, सिर्फ एक उच्चारण “शिव” लोगों को अनुभव के एक बिल्कुल अलग आयाम में ले जा सकता है। आपके अपने अनुभव में भी, अगर आप वाकई संगीत पसंद करते हैं, चाहे वह सिनेमा का संगीत हो या शास्त्रीय या कोई और, संगीत कई द्वार खोलता है। और अगर आप सुन सकें, तो पूरा अस्तित्व सिर्फ संगीत है।

आज आधुनिक विज्ञान पूरी सृष्टि को एक कंपन के रूप में देखता है। जहां भी कंपन होगा, वहां ध्वनि होगी ही। इसलिए पूरी सृष्टि ध्वनियों का एक जटिल संगम है। अगर आप एक खास रूप में इन ध्वनियों को सुनें, तो वह एक भयानक शोर-शराबा है। अगर आप दूसरे तरीके से उसे सुनें, तो वह अद्भुत संगीत है। जो इंसान ध्वनि की संपूर्णता का अनुभव नहीं कर पाता, उसके लिए वह शोर है क्योंकि वह टुकड़ों में उसे सुनता है। जो अस्तित्व की संपूर्णता को सुनता है, उसके लिए सब कुछ संगीत है। ऐसा कुछ भी नहीं है, जो संगीत न हो।

साभार- http://isha.sadhguru.org/ से

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Get in Touch

Back to Top