आप यहाँ है :

चंपारण सत्याग्रह शताब्दी पर विशेष कौन सुनेगा स्वच्छाग्रह का सच ?

किसानों का शोषण बंद हो। चंपारण सत्याग्रह, इसी सच का आग्रह था। चंपारण सत्याग्रह के सौ साल पूरे होने पर भी क्या किसानों को शोषण रुका है ? मृत किसानों के नरमुण्डों को तमिलनाडु से लाकर जंतर-मंतर पर जमें किसानों के सत्याग्रह की क्या कोई सुन रहा है ? प्रधानमंत्री कार्यालय के समक्ष स्वयं को नग्न कर पुलिस जीप से बाहर निकलने के बावजूद क्या शासन ने उनके सत्याग्रह का सम्मान किया ? दुखद है कि प्रधानमंत्री जी ने भी ‘स्वच्छाग्रह’ कर अपने कर्तव्य की इतिश्री कर ली है।

स्वच्छाग्रह का सच यह है कि राज्यों ने स्वच्छ भारत अभियान को घर-घर शौचालय तक सीमित मान लिया है। ‘घर-घर शौचालय’ के लक्ष्य की प्राप्ति को लेकर बेताबी के चलते छत्तीसगढ़ में कहीं बिना शीट, कहीं बिना दीवार, तो कहीं बिना गड्ढे के ही शौचालय बना दिए गये हैं। जहां शौचालय बन भी गये हैं, उनमें से ज्यादातर को ग्रामीण अन्य उपयोग में ला रहे हैं। क्यों ? क्योंकि यह सब जन-जरूरत और जन-मानस समझे बगैर किया जा रहा है। ‘घर-घर शौचालय’ गांधी जी के सबसे प्रिय गांव, गरीब, आदिवासी और किसान का भला करेगा या बुरा ? इसका आकलन करना तो दूर, सच सुनने की सहिष्णुता भी नहीं दिखाई जा रही।

दीपाली का सत्याग्रह

मध्य प्रदेश के आदिवासी कल्याण विभाग की आयुक्त दीपाली रस्तोगी ने सच कहने की कोशिश की, तो उन्हे कारण बताओ नोटिस थमा दिया गया। दीपाली 1994 बैच की आई.ए.एस. अधिकारी हैं। उन्होने एक अंग्रेजी अखबार में लेख लिखकर शौचालय के आने के साथ वाली खाद-पानी संबंधी चुनौतियों सामने रखी हैं। निस्संदेह, लेख लिखते हुए दीपाली इतनी असहज हुई हैं कि उन्होने यहां तक लिख डाला कि गोरों के कहने पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने खुले में शौचमुक्त अभियान चलाया,, जिनकी वाशरूम हैबिट भारतीयों से अलग हैं। दीपाली ने लिखा कि जो पीने के पानी से जूझ रहे हैं, वे शौचालय के लिए पानी कहां से लायेंगे। हमारा मानना है कि ‘घर-घर शौचालय’ के दूरगामी दुष्परिणामों को जो कोई भी देख पा रहा होगा, वही असहज हो उठेगा। दीपाली रस्तोगी के सत्याग्रह का समर्थन करें या विरोध यह तय करने से पहले घर-घर शौचालय का सच जानना जरूरी है।

कितना उचित घर-घर शौचालय ?

यह सच है कि कचरा, पर्यावरण का दुश्मन है और स्वच्छता, पर्यावरण की दोस्त। कचरे से बीमारी और बदहाली आती है और स्वच्छता से सेहत और समृद्धि।
ये बातें महात्मा गांधी भी बखूबी जानते थे और हमारे वर्तमान प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र भाई मोदी भी। इसीलिए गांधी जी ने स्वच्छता को, स्वतंत्रता से भी ज्यादा जरूरी बताया। मैला साफ करने को खुद अपना काम बनाया। गांवों में सफाई पर विशेष लिखा और किया। कुंभ मेले में शौच से लेकर सुर्ती की पीक भरी पिचकारी से हुई गंदगी से चिंतित हुए। श्रीमान मोदी ने भी स्वच्छता को प्राथमिकता पर रखते हुए स्वयं झाङू लगाकर अपने प्रधानमंत्रित्व काल के पहले ही वर्ष 2014 में गांधी जयंती को ’स्वच्छ भारत मिशन’ की शुरुआत की। वर्ष-2019 में गांधी जयंती के 150 साल पूरे होने तक 5000 गांवों में दो लाख शौचालय तथा एक हजार शहरों में सफाई का लक्ष्य भी रखा। स्वच्छता सप्ताह के रूप में बाल दिवस से स्कूलों में विशेष स्वच्छता अभियान भी चलाया, किंतु यदि मुझसे पूछे कि पर्यावरणीय अनुकूलता की दृष्टि से गांधी और मोदी के स्वच्छता विचार में फर्क क्या हैं ? ..तो मेरा जवाब कुछ यूं होगा – ”मोदी का स्वच्छता विचार, कचरा बटोरना तो जानता है, किंतु उसका प्रकृति अनुकूल उचित निष्पादन करना नहीं जानता। गांधी, दोनो जानते थे। गांधी जानते थे कि यदि कचरे का निष्पादन उचित तरीके से न हो, तो ऐसा निष्पादन पर्यावरण का दोस्त होने की बजाय, दुश्मन साबित होगा।”

मोदी जी ने खुले शौच से होने वाली गंदगी से निजात का उपाय, सेप्टिक टैंक अथवा सीवेज पाइपों में कैद कर मल को बहा देने में सोचा। संप्रग सरकार की निर्मल ग्राम योजना में भी बस गांव-गांव शौचालय ही बनाये गये थे, किंतु कम से कम ठेठ गांवों के मामले में गांधी, सिद्धांततः इसके खिलाफ थे।

शौचालय नहीं, सोनखाद

शहरों के मामले में गांधी की यह राय अवश्य थी कि शहरों की सफाई का शास्त्र हमें पश्चिम से सीखना चाहिए; किंतु वह गांवों में खुले शौच का विकल्प शौचालय की बजाय, शौच को एक फुट गहरे गड्ढे में मिट्टी से ढक देना मानते थे। सहज भाषा व भाव में उन्होने इस विकल्प को ’टट्टी पर मिट्टी’ का नाम दिया। ’मेरे सपनों के भारत’ पुस्तक में वह सफाई और खाद पर चर्चा करते हुए लिखते हैं – ”इस भंयकर गंदगी से बचने के लिए कोई बङा साधन नहीं चाहिए; मात्र मामूली फावङे का उपयोग करने की जरूरत है।” दरअसल, गांधी जी, शौच और कचरे को सीधे-सीधे ’सोनखाद’ में बदलने के पक्षधर थे। वह जानते थे कि मल को संपत्ति में बदला जा सकता है। श्री मोदी जी को भी यह जानना चाहिए।

गांधी कहते थे कि इससे अनाज की कमी पूरी जा सकती है। इस सत्य को गांव के लोग आपको आज भी इस उदाहरण के तौर पर बता सकते हैं कि बसावट की बगल के खेत की पैदावार अन्य खेतों की तुलना में ज्यादा क्यों होती है। आधुनिक भारत का सपना लेकर चलने वाले नेहरू से लेकर ’हरित क्रांति’ के योजनाकारों ने भी इसे नहीं समझा। वे, विकल्प के तौर पर रासायनिक उर्वरक और रासायनिक कीटनाशक ले आये। उसका खामियाजा प्राकृतिक जैवविविधता की हत्या, मिट्टी की दीर्घकालिक उपजाऊ क्षमता में कमी और सेहत के सत्यानाश के रूप में हम आज तक झेल रहे हैं। मोदी जी, ऐसा न होने दें।

इस बात को वैज्ञानिक तौर पर यूं समझना चाहिए। गांधी जी लिखते हैं – ”मल चाहे सूखा हो या तरल, उसे ज्यादा से ज्यादा एक फुट गहरे गड्ढा खोदकर ज़मीन में गाङ दिया जाय। ज़मीन की ऊपरी सतह सूक्ष्म जीवों से परिपूर्ण होती है और हवा एवम् रोशनी की सहायता से, जो कि आसानी से वहां पहुंच जाती है; वहां जीव, मल-मूत्र को एक हफ्ते के अन्दर एक अच्छी, मुलायम और सुगन्धित मिट्टी में बदल देते हैं।” सोपान जोशी की पुस्तक ’जल थल और मल’ इस बारे में और खुलासा करती है। वह बताती है कि एक मानव शरीर एक वर्ष में 4.56 किलो नाइट्रोजन, 0.55 किलो फाॅसफोरस और 1.28 किलो पोटाशियम का उत्सर्जन करता है। 115 करोङ की भारतीय आबादी के गुणांक में यह मात्रा करीब 80 लाख टन होती है। मानव मल-मूत्र को शौचालयों में कैद करने से क्या हम, हर वर्ष प्राकृतिक खाद की इतनी बङी मात्रा खो नहीं देंगे ?

त्रिकुण्डीय प्रणाली वाले ‘सेप्टिक टैंक] तथा मल-मूत्र को दो अलग-अलग खांचों में भरकर ‘इकोसन’ के रूप में हम इसमें से कुछ मात्रा बचा जरूर सकते हैं, लेकिन यह हम कैसे भूल सकते हैं कि खुले में पङे शौच के कंपोस्ट में बदलने की अवधि दिनों में है और सीवेज टैंक व पाइप लाइनों में पहुंचे शौच की कंपोस्ट में बदलने की अवधि महीनों में; क्यांेकि इनमें कैद मल का संबंध मिट्टी, हवा व प्रकाश से टूट जाता है। इन्ही से संपर्क में बने रहने के कारण खेतों में पङा मानव मल आज भी हमारी बीमारी का उतना बङा कारण नहीं है, जितना बङा कि शोधन संयंत्रों के बाद हमारी नदियों में पहुंचा मानव मल। हम खुले में शौच से ज्यादा, मलीन जल, मलीन मिट्टी और मलीन हवा के कारण बीमार और कर्जदार हो रहे हैं।

कचरा निष्पादन का सिद्धांत
गांवों में मानव मल निष्पादन का गांधी तरीका, कचरा निष्पादन के सर्वश्रेष्ठ सिद्धांत के पूरी तरह अनुकूल है। सिद्धांत है कि कचरे को उसके स्त्रोत पर निष्पादित किया जाये। कचरा चाहे मल हो या मलवा, कचरे को ढोकर ले जाना वैज्ञानिक पाप है। अनुभव बताता है कि शौचालय कभी कहीं अकेले नहीं जाता। शौचालय के पीछे-पीछे जाती है, मोटर-टंकी और बिजली-पानी की बढी हुई खपत। एक दिन जलापूर्ति की पाइप लाइनें, उस इलाके की जरूरत बन जाती है। राजस्व के लालच में सीवर की पाइप लाइनें सरकार पहुंचा देती है। इससे, कचरा और सेहत के खतरे बिना न्योते ही चले आते हैं। दुनिया में हर जगह यही हुआ है। हमारे यहां यह ज्यादा तेजी से आयेगा; क्योंकि हमारे पास न मल शोधन पर लगाने को प्र्याप्त धन है और न इसे खर्च करने की ईमानदारी। ’घर-घर शौचालय’ शुचिता से ज्यादा बाज़ार का व्यापार बढ़ाने वाला खेल बनने वाला है। सोनखाद घटेगी; रासायनिक उर्वरक और रोगी बढ़ेगे। हकीकत यही है। अभी शहरों के मल का बोझ हमारी नगरनिगम व पालिकाओं से संभाले नहीं संभल रहा। जो गांव पूरी तरह शौचालयों से जुङ गये हैं, उनका तालाबों से नाता टूट गया है। गंदा पानी, तालाबों में जमा होकर उन्हे बर्बाद कर रहा है। जरा सोचिए! अगर हर गांव-हर घर में शौचालय हो गया, तो हमारी निर्मलता और ’सुनहली खाद’ कितनी बचेगी ?

शौचालय नहीं, घर-घर कंपोस्ट से बनेगी बात
समझने की बात है कि एकल होते परिवारों के कारण मवेशियों की घटती संख्या और परिणामस्वरूप घटते गोबर की मात्रा के कारण जैविक खेती पहले ही कठिन हो गई है। कचरे से कंपोस्ट का चलन अभी घर-घर अपनाया नहीं जा सका है। अतः गांधी जयंती पर स्वच्छता, सेहत, पर्यावरण, गो, गंगा और ग्राम रक्षा से लेकर आर्थिकी की रक्षा के चाहने वालों को पहला संदेश यही है कि गांवों में ‘घर-घर शौचालय’ की बजाय, ‘घर-घर पानी निकासी गड्ढा’ और ‘घर-घर कंपोस्ट’ के लक्ष्य पर काम करें। कचरा निष्पादन हेतु गांधी जी ने कचरे को तीन वर्ग में छंटाई का मंत्र बहुत पहले बताया और अपनाया था: पहले वर्ग में वह कूङा, जिससे खाद बनाई जा सकती हो। दूसरे वर्ग मंे वह कूङा, जिसका पुर्नोपयोग संभव हो; जैसे हड्डी, लोहा, प्लास्टिक, कागज़, कपङे आदि। तीसरे वर्ग में उस कूङे को छांटकर अलग करने को कहा, जिसे ज़मीन में गाङकर नष्ट कर देना चाहिए। कचरे के कारण, जलाश्यों और नदियों की लज्जाजनक दुर्दशा और पैदा होने वाली बीमारियों को लेकर भी गांधी जी ने कम चिंता नहीं जताई।

गोरक्षा और सेवा के महत्व बताते हुए भी गांधी जी ने गोवंश के जरिए, खेती और ग्रामवासियों के स्वावलंबन का ही दर्शन सामने रखा। वह इसे कितना महत्वपूर्ण मानते थे, आप इसका अंदाजा इसी से लगा सकते हैं कि उन्होने गोवंश रक्षा सूत्रों को बार-बार समाज के समक्ष दोहराया ही नहीं, बल्कि जमनालाल जी जैसे महत्वपूर्ण व्यक्ति को गो-पालन कार्य को आगे बढाने का दायित्व सौंपा। वह जानते थे कि जो खेती की रक्षा के लिए सच है, वही गोवंश की रक्षा के लिए भी सच है। व्यापक संदर्भ में गांधी जी बार-बार कहते थे कि हमारे जानवर, हिंदुस्तान और दुनिया के गौरव बन सकते हैं। पर्यावरणीय गौरव इसमें निहित है ही।


दिमाग शुद्ध, तो पर्यावरण शुद्ध

गांधी साहित्य, पर्यावरण के दूसरे पहलुओं पर सीधे-सीधे भले ही बहुत बात न करता हो, लेकिन संयम, सादगी, स्वावलंबन और सच पर आधारित और सही मायने में सभ्य और सांस्कारिक उनका जीवन दर्शन, पर्यावरण की वर्तमान सभी समस्याओं के समाधान प्रस्तुत कर देता है। एकादश व्रत भी एक तरह से मानव और पर्यावरण के संरक्षण और समृद्धि का ही व्रत है। ”प्रकृति हरेक की जरूरत पूरी कर सकती है, लेकिन लालच एक व्यक्ति का भी नहीं।” जब गांधी यह कहते हैं, तो इसी से साथ आधुनिकता और तथाकथित विकास के दो पगलाये घोङों के हम सवारों को लगाम खींचने का निर्देश स्वतः दे देते हैं।

कितनी उचित उलटबांसी ?
गंदगी, अच्छाई या बुराई…. इस दुनिया में जो कुछ भी घटता है, वह हकीकत में घटने से पहले किसी ने किसी के दिमाग में घट चुका होता है। यह बात पश्चिम ने भी समझी। गौर कीजिए कि उसने हमें पहली या दूसरी दुनिया न कहकर, ‘तीसरी दुनिया’ कहा। इस शब्द से उसने हमें मुख्यधारा से अलग-थलग पिछङे, गंवार, दकियानूसी और अज्ञानी होने का एहसास कराने का शब्दजाल रचा। हमारे प्रकृति अनुकूल, समय-सिद्ध व स्वयं-सिद्ध ज्ञान पर से हमारे ही विश्वास को तोङा; फिर अपनी हर चीज, विधान व संस्कार को आधुनिक बताकर हमें उसका उपभोक्ता बना दिया। संयम, सादगी और सदुपयोग की जगह, सभ्यता के नाम पर अतिभोग तथा ’उपयोग करे और फेंक दो’ का असभ्य सिद्धांत थमा दिया।

सब संस्कार बदल गये। परमार्थ, फालतू काम है; स्वार्थ से ही सिद्धि है। ’ग्लोबल वार्मिंग’, दुनिया के लिए होगी, तुम्हारे लिए तो ए. सी. है। अपना कमरा.. अपनी गाङी के भीतर ठंडक की तरफ देखो; दुनिया जाये भाङ में। घर का कचरा बाहर और अतिभोग का सुविधा-सामान अंदर। इसके लिए अब सिर्फ पेट नहीं, तिजोरी भरो। इसीलिए खेती बाङी, निकृष्ट बता दी गई और दलाली, चाकरी से भी उत्तम। कहा कि गांव हटाओ, शहर भगाओ। कर्ज लो, घी पियो। नदियां मारने के लिए कर्ज लो। नदियों को जिलाने के लिए कर्ज लो। कुदरती जंगल काटो; खेत बनाओ या इमारती जंगल लगाओ। जानते हुए भी कि यह धरती का पेट खाली कर पानी की कंगाली का रास्ता है; हमने नदी-तालाब से सिंचाई की बजाय, नहर और धरती का सीना चाक करने वाले टयुबवैल, बोरवैल, समर्सिबल.. जेटपंप को अपना लिया। सेप्टिक टैंकों से भी आगे बढ़कर सीवेज पाइपों वाले आधुनिक हो गये। यूकेलिप्टस याद रहा; पंचवटी भूल गये। जहां जरूरी हो; जहां कोई और विकल्प शेष न हो; किंतु सभी जगह ? यह कितना ठीक है ? जहां जेब अनुमति दे; इसी एक शर्त पर सारे निर्णय ! ओफ्फ !!

बापू का रास्ता
इन सब उलटबांसियों के बीच रास्ते बनाते हुए कभी आया एक दुबला-पतला बूढ़ा, आज फिर सेवाग्राम संचालकों से कहना चाहता है – ”खजूरी, गरीबों का वृक्ष है। उसके उपयोग तुम्हें क्या बताऊं। अगर सब खजूरी कट जाये, तो सेवाग्राम का जीवन बदल जायेगा। खजूरी हमारे जीवन में ओतप्रोत है।….. खजूरी के उपयोग का हिसाब करो।” जिस महात्मा गांधी को खजूरी जैसे सहज उपलब्ध दरख्त और छोटी से छोटी पेंसिल को सहेजने और उसका हिसाब रखने जैसी बङी-बङी आदतें थीं; पर्यावरण और स्वच्छता के उनके सिद्धांतों को लिखकर या पढकर नहीं, बल्कि आदत बनाकर ही जिंदा रखा जा सकता है। आइये, बनायें।
———————————————————————–

उपलेख
सेप्टिक टैंक और बलवंत की झिड़की

बात फरवरी, 1941 की है। टाइफाइड नियंत्रण को लेकर डाॅक्टरों की सलाह से गांधी जी ने सेवाग्राम में सेप्टिक टैंक बनाने का निर्णय लिया। जानकरी मिली, तो बलवंत सिंह भड़क उठे। वह गांव समसपुर, तहसील खुर्जा, जिला बुलंदशहर, उत्तर प्रदेश के रहने वाले थे। गांधी ने बलवंत को उस समय सेवाग्राम में गोशाला आदि का जिम्मेदार नियुक्त किया हुआ था। बलवंत ने गांधी जी को कङी चिट्ठी लिखी। उनकी बदली हुई नीति को लेकर दुःख और आश्चर्य प्रकट किया। इसे सोने को पानी करने का काम बताया। पाखाना-सफाई और उसकी खाद से प्रकृति व जीव-जगत् के स्वार्थ के घनिष्ठ संबंध के गांधी सिद्धांत की याद दिलाई।

‘बापू की छाया में’ पुस्तक में शामिल अपने एक पत्र में श्री बलवंत सिंह जी ने बापू को लिखा है – ”जैसा कोई नचाये, वैसा ही नाच नाचते रहेंगे, तो शायद आपके सत्तर वर्ष के बूढे पैर जवाब दे बैठेंगे। किसी की भी अच्छी चीज को अपनाने या उसका प्रयोग करने का आपका स्वभाव है। जनसंग्रह करना तो आपका धंधा है। लेकिन जैसा कि कहा जाता है कि जल लाये वो सोना, जिससे नाक छवे;अब तक आप ढोल पीट-पीट कर कहते आये हैं कि यदि हिंदुस्तान के सात लाख गांवों का पाखाना सुव्यवस्थित रूप खाद के काम में लाया जाये, तो उस का कीमिया बन सकता है। आपकी जिस बात को काटने की हिम्मत किसी में नहीं है और हो भी कैसे सकती है ? जानवर, वनस्पति खाकर भी बेशकीमती खाद ज़मीन को वापस देते हैं, तो मनुष्य ज़मीन की उत्पत्ति का सार यानी अनाज खाकर कितना कीमती खाद दे सकता है ? इसीलिए तो पाखाने को सोनखाद कहा जा सकता है न ?’”

बलवंत सिंह जी ने पाखाने को सेप्टिक टैंक में यूं दफना देने को किसान और ज़मीन के साथ अन्याय माना। गांधी ने बलवंत की झिङकी को उचित माना और उत्तर में आश्वस्त किया कि खाद को बरबाद नहीं होने देंगे।

अरुण तिवारी
146, सुंदर ब्लाॅक, शकरपुर, दिल्ली-92
amethiarun@gmail.com
9868793799



Leave a Reply
 

Your email address will not be published. Required fields are marked (*)

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

सम्बंधित लेख
 

ईमेल सबस्क्रिप्शन

PHOTOS

VIDEOS

Back to Top