आप यहाँ है :

स्वदेशी जागरण मंच द्वारा 2,01,609 हस्ताक्षरों के साथ ग्लाइफोसेट पर प्रतिबंध लगाने की मांग

स्वदेशी जागरण मंच ने 2,01,609 हस्ताक्षरों के साथ पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने के लिए, ‘ग्लाइफोसेट’ जिसे इंटरनेशनल एजेंसी फॉर रिसर्च ऑन कैंसर (IARC) द्वारा कैन्सरकारी घोषित किया गया है, अपनी याचिका केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर को सौंप दी। याचिका की शुरुआत करीब ढाई साल पहले स्वदेशी जागरण मंच की ओर से Change.org प्लेटफॉर्म पर अधोहस्ताक्षरी ने की थी।

याचिका में यह कहा गया है कि हालांकि सरकार ने इस ख़तरनाक खरपतवार नाशक के संभावित दुष्प्रभाव को स्वीकार करते हुए, ग्लाइफोसेट के उपयोग को सीमित करने के अपने इरादे को दिखाया है और जुलाई 2020 के सरकारी आदेश में कहा गया है कि “कीट नियंत्रक ऑपरेटर्स (पीसीओ) के अलावा कोई भी व्यक्ति ग्लाइफोसेट का उपयोग नहीं करेगा।”। स्वदेशी जागरण मंच का मानना है कि ये उपाय निरर्थक हैं और अनुभव बताता है कि अन्य अवैध प्रथाओं जैसे अवैध एचटी फसलों को नियंत्रित करना सम्भव नहीं हो पाया उसी तरह इसे भी लागू करना असंभव होगा।

अर्थहीन आदेश और लागू करने में असमर्थता को देखते हुए, इसके परिणामस्वरूप उपभोक्ता स्वास्थ्य, किसान हितों, कृषि श्रमिकों की आजीविका और पारिस्थितिकी को नुकसान होगा। स्वदेशी जागरण मंच के प्रतिनिधिमंडल ने माननीय मंत्री को बताया कि वर्तमान में चाय बागानों और “गैर-फसल क्षेत्रों” के अलावा अन्य ग्लाइफोसेट के उपयोग पर पहले से ही प्रतिबंध है। फिर भी अवैध रूप से उगाए गए हर्बिसाइड टॉलरेंट (एचटी) कपास के लिए ग्लाइफोसेट का इस्तेमाल किया जा रहा है (एचटी सोया भी गुजरात से रिपोर्ट किया गया था) और यह जेनेटिक इंजीनियरिंग मूल्यांकन समिति और राज्य सरकारों को पूरी जानकारी के साथ देश के कानून की खुली अवहेलना करते हए वर्षों से चल रहा है। वास्तव में, यह आदेश ग्रामीण क्षेत्रों में पीसीओ के प्रसार को बढ़ावा देकर ग्लाइफोसेट के उपयोग को वास्तव में वैध बनाने का कार्य करेगा। यह आदेश ग्लाइफोसेट के उपयोग के किसी भी दुष्प्रभाव के लिए पीसीओ की जिम्मेदारी तय करने में सक्षम नहीं है।

प्रतिनिधिमंडल ने माननीय मंत्री से बताया कि यद्यपि इस खरपतवारनाशी को चाय बागानों में इस्तेमाल करने की अनुमति है, केरल राज्य जो एक प्रमुख चाय उत्पादक राज्य है उसने इसे प्रतिबंधित करने की और कदम बढ़ाए हैं; और एक अन्य चाय उत्पादक राज्य पश्चिम बंगाल ने ग्लाइफोसेट के उपयोग को चाय उत्पादक जिलों तक सीमित कर दिया है। पंजाब, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना सहित कई अन्य राज्यों ने उपभोक्ताओं, किसानों और पर्यावरण के लिए अपनी चिंताओं के कारण ग्लाइफोसेट पर प्रतिबंध लगाने की तरफ़ कदम बढ़ाया है।

कथित तौर पर ग्लाइफोसेट का उपयोग खरपतवार नियंत्रण के साथ-साथ कटाई से पहले फसलों को साफ़ करने के लिए किया जाता है और इन दोनों आधारों पर इसका कड़ा विरोध है क्योंकि ग्लाइफोसेट और इसके सहायक, पौधे द्वारा अवशोषित होते हैं और मनुष्यों द्वारा सेवन कर लिए जाते हैं, जिसके गंभीर स्वास्थ्य परिणाम होते हैं । ग्लाइफोसेट एक ज्ञात कार्सिनोजेन और अंतःस्रावी अवरोधक है और कई गंभीर बीमारियों से जुड़ा हुआ है। 2015 में, कई वर्षों के अध्ययन के बाद, विश्व स्वास्थ्य संगठन के IARC ने ग्लाइफोसेट को एक संभावित मानव कार्सिनोजेन के रूप में वर्गीकृत किया था।

ग़ौरतलब है कि मोनसेंटो/बायर कंपनी के खिलाफ ग्लाइफोसेट आधारित शाकनाशी के उपयोगकर्ताओं द्वारा नुकसान की भरपायी के लिए एक लाख से अधिक मामले लंबित हैं, जब वे नॉन हॉजकिन्स लिंफोमा (एनएचएल) सहित दस अलग-अलग प्रकार के कैंसर से पीड़ित हो गए।

स्वदेशी जागरण मंच के प्रतिनिधिमंडल ने मंत्री से अवैध शाकनाशी सहिष्णु जीएम फसलों को रोकने के लिए भी ग्लाइफोसेट पर प्रतिबंध लगाने का आग्रह किया। गौरतलब है कि वर्तमान में धोखेबाज़ बीज कंपनियां ग्लाइफोसेट के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए लाखों एकड़ भूमि पर अवैध रूप से हर्बिसाइड टॉलरेंट बीटी कॉटन फैलाने की कोशिश कर रही हैं। यह वैश्विक अनुभव है कि वैश्विक स्तर पर 85% से अधिक जीएम फसलें हर्बिसाइड टॉलरेंट (एचटी) जीएम फसलें हैं और इनमें से अधिकांश ग्लाइफोसेट-आधारित शाकनाशकों का उपयोग करती हैं। इसने किसानों के दीर्घकालिक हितों को नुकसान पहुँचाया है क्योंकि इसके अत्यधिक उपयोग से ग्लाइफोसेट और ग्लाइफोसेट-प्रतिरोधी खरपतवारों में कई गुना वृद्धि हुई है, जिससे विकसित देशों में बड़े पैमाने पर बेकाबू खरपतवार हो गए हैं। इससे बड़े पैमाने पर भूमि का परित्याग करना पड़ रहा है। यह परिदृश्य भारत जैसे देश के लिए असहनीय है।

ग्लाइफोसेट मिट्टी और पानी को दूषित करता है, जिसके परिणामस्वरूप उपयोगी पौधों की प्रजातियां नष्ट हो जाती हैं, जो उन गरीबों का भोजन हैं, जो मुख्य फसल में या उसके बगल में उगने वाले साग (तथाकथित खरपतवार) खाते हैं। ग्लाइफोसेट जैसे खरपतवार नाशक लाभकारी कीड़ों की आबादी को कम करते हैं जो कि कृषि के लिए महत्वपूर्ण हैं। संयुक्त राज्य अमेरिका में बड़े पैमाने पर ग्लाइफोसेट के उपयोग से मोनार्क तितली की आबादी प्रभावित हुई, जिससे दूध के खरपतवार का विनाश हुआ, जो तितली का मुख्य भोजन था। तितलियाँ और मधुमक्खियाँ कृषि उपज के लिए महत्वपूर्ण हैं। उनका भोजन ग्लाइफोसेट जैसे रासायनिक खरपतवार नाशकों द्वारा नष्ट कर दिया जाता है। कृषि के लिए कई उपयोगी प्रजातियां भी हैं जो मिट्टी को उर्वरित करती हैं, जैसे केंचुआ, और कीट नियंत्रण प्रजातियां जैसे लेडीबर्ड, लेसविंग और कुछ ततैया, जो ग्लाइफोसेट से नष्ट हो रही हैं।

भारत के लिए ग्लाइफोसेट का प्रसार आर्थिक रूप से विनाशकारी होगा क्योंकि यह रोजगार को नष्ट कर देता है और गरीब ग्रामीण परिवारों के लिए एक महत्वपूर्ण आय स्रोत को समाप्त कर देता है जो निराई आय पर निर्भर हैं। इसके परिणामस्वरूप उन देशों द्वारा ग्लाइफोसेट अवशेषों वाले निर्यात खेपों को अस्वीकार कर दिया जाएगा, जिनके पास कीटनाशक अवशेषों के लिए सख्त नियम हैं। यह उन किसानों के हितों को नुकसान पहुंचाएगा जो जैविक/प्राकृतिक/गैर-रासायनिक खाद्य के लिए बढ़ते घरेलू और वैश्विक बाजार का लाभ उठाने की कोशिश कर रहे हैं। ग्लाइफोसेट का उपयोग प्राकृतिक खेती और जैविक खेती और पारंपरिक खेती को बढ़ावा देने की हमारी सरकार की नीति के भी विपरीत है।

सरकार की इन नीतियों का लाखों किसानों द्वारा सक्रिय रूप से स्वागत किया जा रहा है, जो कर्ज के जाल से बाहर निकलने के साथ-साथ अपनी लागत कम करने और आय में वृद्धि के इच्छुक हैं। ये लाखों किसान बिना ग्लाइफोसेट के खरपतवार नियंत्रण कैसे कर रहे हैं? हमारे छोटे खेतों में खरपतवारों को नियंत्रित करने के अन्य तरीकों के लिए मल्चिंग और पारिवारिक श्रम और किराए पर लिया गया श्रम ही उपयुक्त है। यदि एक फसल विफल हो जाती है तो मिश्रित फसल किसानों के लिए सुरक्षा प्रदान करती है। स्वास्थ्य और प्रतिरक्षा में सुधार के लिए संबद्ध अकृषित खाद्य पदार्थ महत्वपूर्ण हैं। इसके अलावा, ग्लाइफोसेट स्प्रे बहाव के माध्यम से पड़ोसी गैर-रासायनिक किसानों के खेतों को संभावित रूप से नष्ट कर सकता है।

माननीय मंत्री जी ने धैर्यपूर्वक याचिका को सुना और आश्वासन दिया कि इस मामले में उनके मंत्रालय द्वारा उचित कार्यवाही होगी।

डॉ अश्वनी महाजन
राष्ट्रीय सह संयोजक
स्वदेशी जागरण मंच

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top