आप यहाँ है :

अयोध्या की धरती ने ही प्रमाण दे दिया राम के अस्तित्व के

इतिहास घटित होता है, निर्देशित नहीं| जबकि मुगलों, अंग्रेजों और स्वतंत्रता-प्राप्ति के बाद भी हमने घटित इतिहास की बजाय निर्देशित इतिहास को ही पाठ्य-पुस्तकों, बौद्धिक विमर्शों में स्थान दिया| पराधीनता व्यक्ति की हो या राष्ट्र की हमेशा दुःखदायी और कष्टकारी होती है| पराधीन व्यक्ति और राष्ट्र अपना स्वत्व, गौरव, स्वाभिमान सब भूल जाता है या भूल जाने पर बाध्य कर दिया जाता है| हम भारतीयों के साथ भी यही हुआ| लंबी गुलामी के पश्चात हम शरीर से तो स्वतंत्र हुए, पर मन और आत्मा से गुलाम ही बने रहे| गुलामी की ग्रन्थियाँ हममें गहरे पैठी रहीं और इसीलिए हमने पराए दृष्टिकोण से अपने इतिहास का आकलन-विश्लेषण किया| उन्होंने जो-जो बताया, जैसा-जैसा पढ़ाया हमने वही सच मान लिया|

उन्होंने हमें बताया कि तुम्हारे लोक-नायक राम और कृष्ण तो मिथक व गल्प हैं, तुम्हारे महाकाव्य तो कवियों की कल्पनाओं की उड़ान मात्र हैं और हमने मान लिया| परकीय सत्ताओं और उनके चाटुकारों ने इस राष्ट्र की चेतना को सदा-सर्वदा के लिए गुलाम बनाए रखने की दृष्टि से इतिहास और संस्कृति की गौरव-गाथा को तोड़-मरोड़कर प्रस्तुत किया और धन-लोभी, पद-प्रतिष्ठा के आकांक्षी इतिहासकारों-शिक्षाविदों- साहित्यकारों ने उनकी धुनों पर नाचना और उनके सुर में सुर मिलाना स्वीकार कर लिया| कोढ़ में खाज का काम तुष्टिकरण की राजनीति करने वाले नेतागण और दल करते रहे|
image.png
बार-बार प्रमाण प्रस्तुत करने के बावजूद उन्होंने राममंदिर के अस्तित्व को अस्वीकार करने में कोई कोर कसर बाक़ी नहीं रखी| जो अयोध्या राममय है, जिसके पग-पग पर श्रीराम के चरणों की मधुर चाप सुनाई पड़ती है, वहाँ वे बाबर की निशानदेही तलाशते रहे| उस बाबर की, जिसका अयोध्या से कभी कोई लेना-देना नहीं रहा| सनातनी हिंदुओं ने अपनी आस्था के लिए जाने किस-किससे गुहार लगाई, किस-किसके दरवाज़े खटखटाए, जाने कितनी लंबी लड़ाई लड़ी, कितने निर्दोष प्राणों की बलि दी? पर इस देश के तमाम सत्ताधीशों ने इन आस्थावादी स्वरों की जान-बूझकर उपेक्षा व अनसुनी की | अपने आराध्य राम के लिए असंख्य रामभक्त कारसेवकों ने अपने सीने पर गोलियाँ तक खाईं| रामभक्तों का बलिदान व्यर्थ नहीं गया| इलाहाबाद उच्च न्यायालय से लेकर सर्वोच्च न्यायालय तक ने श्रीरामजन्मभूमि के पक्ष में फैसला सुनाया| इसके बावजूद सूडो सेकुलरिज्म के ठेकेदारों और तुष्टिकरण की राजनीति करने वालों ने मनमाना विमर्श चलाया, मनमाने निष्कर्ष सुनाए|

उन्होंने नासा द्वारा रामसेतु के अस्तित्व स्वीकारने को चलताऊ बताकर ख़ारिज किया, पुरातत्व विभाग द्वारा उत्खनन में प्राप्त अवशेषो और अनेकानेक पुष्ट प्रमाणों को प्रायोजित बताया|

और अब, जब फिर वहाँ से ऐतिहासिक-पुरातात्विक महत्त्व के अनेकानेक अवशेष प्राप्त हो रहे हैं तो ऐसे कथित इतिहासकारों-पुरातत्ववेत्ताओं-राजनीतिज्ञों-सूडो सेकुलरों को साँप सूँघ गया है| वे आगे आकर आज भी सत्य की सार्वजनिक उद्घोषणा में संकोच कर रहे हैं| अच्छा तो यह होता कि भूमि के समतलीकरण के दौरान प्राप्त सामग्रियों यथा- शिवलिंग, शंख, चक्र, स्तंभ, कमल, देव-मूर्त्तियों आदि को देखकर वे स्वयं सामने आकर अपने मिथ्या निष्कर्षों के लिए देश के बहुसंख्यक समाज से क्षमा माँगते, परंतु यदि वे ऐसा न कर भी, केवल खुले हृदय से सत्य भर स्वीकार कर लें तो भी इस देश का उदार-सहिष्णु समाज कदाचित उन्हें उनके अपराध से दोषमुक्त कर दे|

प्रणय कुमार
गोटन, राजस्थान
9588225950

image_pdfimage_print


Leave a Reply
 

Your email address will not be published. Required fields are marked (*)

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

सम्बंधित लेख
 

Back to Top