आप यहाँ है :

पत्रकारिता में बदलाव का ये श्रेष्ठ दौर है: डॉ. आशीष जोशी

जागरण लकसिटी यूनिवर्सिटी (जेएलयू) में नए अकादमिक सत्र के लिए प्रबोधन कार्यक्रमों की श्रृंखला आयोजित की जा रही है | स्कूल ऑफ़ मीडिया एंड कम्युनिकेशन के नए छात्रों के लिए शुक्रवार, 28 जुलाई 2017 को प्रबोधन कार्यक्रम आयोजित हुआ | इसमें प्रख्यात मीडिया विशेषज्ञ लोकसभा टीवी के एडिटर इन चीफ व सीईओ डॉ . आशीष जोशी , नेशनल फिल्म अवार्डी व फ़िल्मकार अरुणा राजे पाटिल, विटीफीड के सह संस्थापक व सीईओ विनय सिंघल ने स्टूडेंट्स से अपने अनुभव साझा करते हुए उन्हें इंडस्ट्री की कार्यप्रणाली से अवगत कराया | कार्यक्रम की औपचरिक शुरुआत सरस्वती वंदना के बाद दीप प्रज्जवलन से हुई |

जेएलयू के वाईस चांसलर प्रो. अनूप स्वरुप ने नए स्टूडेंट्स को उनके समाज में योगदान के बारे में बताया डीन स्टूडेंट वेलफेयर प्रो. विवेक खरे ने स्टूडेंट्स यूनिवर्सिटी के नियम व अधिनियम से अवगत करते हुए उन्हें संस्थागत नियमों से बाध्य रहने के लिए निवेदन किया |स्कूल ऑफ़ मीडिया एंड कम्युनिकेशन के डायरेक्टर दिवाकर शुक्ला ने पत्रकारिता के जूनून और प्रोफेशन के मध्य तालमेल रखने की आवश्यकता पर बल देने को कहा | उन्होंने स्टूडेंट्स को इन तीन सालों की शिक्षा में स्वयं को खोजने का सुझाव दिया | साथ ही इस सत्र से बीए (ऑनर्स) एडवरटाइजिंग एंड पीआर की शुरुआत के बारे में बताया |

लोकसभा टीवी के एडिटर इन चीफ व सीईओ डॉ . आशीष जोशी ने कहा इस तेजी से बदलते हुए दौर में पत्रकारों के पास बेहतर पत्रकारिता करने के लिए अनुकूल समय है तथा न्यूज़ रिपोर्टिंग के मूलभूत सिद्धांतों को भी पुनः स्थापित किया जा सकता है। कुछ समकालीन उदहारण देते हुए उन्होंने समझाया की यह समय सबसे बेहतर इसलिए है क्योंकि तकनीक की भी सुलभता हुई है, जिस कारण सूचनाओं का आदान-प्रदान सरलता से हो रहा है | आगे उन्होंने बताया की पत्रकारों के लिए कई प्लेटफार्म उत्पन्न हुए है जहाँ वो अपनी स्टोरी पब्लिश कर सकते हैं तथा कई स्टोरीज का आदान प्रदान भी इस कारण होना संभव हो पाया है| प्रबोधन सत्र का संचालन असिस्टेंट प्रोफेसर शिवानी थपलियाल द्वारा किया गया|



Leave a Reply
 

Your email address will not be published. Required fields are marked (*)

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

सम्बंधित लेख
 

Back to Top