आप यहाँ है :

मुसलमानों की क्रूरता के वो किस्से जो हमारी स्मृतियों से मिटा दिए गए

हमारी आज की हिन्दू युवा पीढ़ी को पढ़ाया जाता है कि महान गोरी और महान गज़नी ने हमारे देश पर हमला किया था। अकबर और टीपू सुल्तान सेक्युलर शासक थे। औरंगज़ेब जिन्दा पीर था। ख्वाजा या गरीब नवाज़ हिंदुओं के लिए पूज्य है। जबकि सत्य विपरीत है।

1- मैं क्यों भूला उस काम पिपासु अल्लाउद्दीन को, जिससे अपने सतीत्व को बचाने के लिये रानी पद्मिनी ने 14000 स्त्रियों के साथ जलते हुए अग्निकुंड में कूद गयी थीं।

2- मैं क्यों भूला उस जालिम औरंगजेब को, जिसने संभाजी महाराज को इस्लाम स्वीकारने से मना करने पर तड़पा-तड़पा कर मारा था।

3- मैं क्यों भूला उस जिहादी टीपू सुल्तान को, जिसने मालाबार में एक एक दिन में लाखों हिंदुओं का नरसंहार किया था।

4- मैं क्यों भूला उस जल्लाद शाह जहाँ को, जिसने 14 वर्ष की एक ब्राह्मण बालिका के साथ अपने महल में जबरन बलात्कार किया था।

5- मैं क्यों भूला उस बर्बर बाबर को, जिसने मेरे श्री राम प्रभु का मंदिर तोडा और लाखों निर्दोष हिंदुओं का कत्ल किया था।

6- मैं क्यों भूला उस शैतान सिकन्दर लोदी को, जिसने नगरकोट के ज्वालामुखी मंदिर की माँ दुर्गा की मूर्ति के टुकड़े कर उन्हें कसाइयों को मांस तोलने के लिये दे दिया था।

7- मैं क्यों भूला उस ख्वाजा मोइउद्दीन चिश्ती को, जिसने पृथ्वीराज को हराने के लिए मुहम्मदी गोरी का साथ दिया था।

8- मैं क्यों भूला उस निर्दयी बजीर खान को, जिसने गुरू गोविंद सिंह के दोनों मासूम फतेह सिंह और जोरावार को मात्र 7 साल और 5 वर्ष की उम्र में इस्लाम ना मानने पर दीवार में जिन्दा चुनवा दिया था।

9- मैं क्यों भूला उस जिहादी बजीर खान को, जिसने बन्दा बैरागी की चमड़ी को गर्म लोहे की सलाखों से तब तक जलाया जब तक उसकी हड्डियां ना दिखने लगी मगर उस बन्दा वैरागी ने इस्लाम स्वीकार नहीं किया

10- मैं क्यों भूला उस कसाई औरंगजेब को, जिसने पहले संभाजी महाराज की आँखों में गरम लोहे के सलिए घुसाए, बाद में उन्हीं गरम सलाखों से पुरे शरीर की चमड़ी उधेड़ी , फिर भी संभाजी ने हिंदू धर्म नहीं छोड़ा था।

11- मैं क्यों भूला उस नापाक अकबर को, जिसने पहले हेमू और फिर उनके 72 वर्षीय स्वाभिमानी बुजुर्ग पिता के इस्लाम कबूल ना करने पर उसके सिर को धड़ से अलग करवा दिया था।

12- मैं क्यों भूला उस वहशी दरिंदे औरंगजेब को, जिसने धर्मवीर भाई मतिदास के इस्लाम कबूल न करने पर बीच चौराहे पर आरे से चिरवा दिया था।

भारतीय इतिहास के साथ बलात्कार करने वाले और सत्य को छुपाने वाले साम्यवादी, कम्युनिस्ट, सेक्युलर एवं मुस्लिम इतिहासकारों के सुनियोजित षड़यंत्र ने हिंदुओं को सेकुलरता का अलाप करने वाली हिजड़ी कौम बना दिया। आइये सत्य इतिहास से परिचित कर युवाओं को हिन्दू संगठन के लिए प्रेरित करे।

(लेखक प्राचीन भारतीय इतिहास ऐवँ वैदिक विषयों पर शोधपूर्ण लेख लिखते हैं)

image_pdfimage_print


Get in Touch

Back to Top