आप यहाँ है :

ट्राइब्स इंडिया आदि महोत्सव में आदिवासी कारीगर दिवस मनाया गया

नई दिल्ली। रविवार का दिन दिल्ली हाट के आदि महोत्सव में एक व्यस्त रविवार था क्योंकि वहाँ पर आए दर्शकों में समृद्ध आदिवासी कला और शिल्प का भरपूर आनंद लेने के लिए होड लगी हुई थी। पखवाड़े भर चलने वाले उत्सव में आदिवासी कला और हस्तशिल्प की विस्तृत विविधता मुख्य आकर्षण रहा। यह महोत्सव आदिवासी शिल्प, संस्कृति और खान-पान के विभिन्न व्यंजनो को प्रदर्शित करने का महोत्सव है।

भारत भर से लगभग 200 स्टालों के साथ, आदि महोत्सव में एक छोटा सा भारत मौजूद है जहाँ आदिवासी कारीगरों, बुनकरों, कुम्हारों, कठपुतलियों और कढ़ाई करने वालों की उत्तम शिल्प परंपराएँ – सभी एक ही स्थान पर मौजूद हैं। आगंतुक कला कृतियों की एक विस्तृत श्रृंखला से अपनी पसंद की कृति ले सकते हैं, जैसे कि वार्ली शैली या पत्ताचित्र शैली की चित्रकला; पूर्वोत्तर के वांचो और कोन्याक जनजातियों की हार के लिए डोकरा शैली में दस्तकारी की गई ज्वैलरी और जीवंत वस्त्रों और सिल्क; रंग-बिरंगी कठपुतलियों और बच्चों के खिलौनों से लेकर पारंपरिक बुनाई जैसे डोंगरिया शॉल और बोडो बुनाई; बस्तर के लौह शिल्प से लेकर बांस शिल्प और बेंत के फर्नीचर के लिए; मिट्टी के बर्तन जैसे कि नीले बर्तन और प्रसिद्ध लोंगपी मिट्टी के बर्तन, कुछ भी अपनी पसंद की वस्तु यहाँ से खरीदी जा सकती है।

इस आयोजन में कुछ वरिष्ठ गणमान्य लोगों ने भी शिरकत की। प्रधानमंत्री के सलाहकार श्री भास्कर खुल्बे ने आदि महोत्सव का दौरा किया और दुकानों और उनके सामान में गहरी दिलचस्पी ली, जिसमें नकली वन धन केंद्र स्थापित किया गया था। विशेष रूप से, उन्होंने उस स्टाल में बहुत रुचि दिखाई थी, जहां 50 आदिवासी जीआई उत्पादों को प्रदर्शित किया गया है। श्री खुल्बे ने स्टालों की सराहना करते हुए अपने विचार व्यक्त किये। उन्होंने कहा, “मुझे यह जानकर खुशी हुई कि ट्राइफेड ने जीआई टैग किए गए उत्पादों को बढ़ावा देने और एक ब्रांड में तब्दील करने के लिए सक्रिय रूप से कदम उठाया है, इस प्रकार आदिवासी कारीगरों को सशक्त बनाया गया है। यह आदि महोत्सव देश भर के सभी आदिवासी कारीगरों को एक ही स्थान पर लाने का एक शानदार तरीका है। ”

छत्तीसगढ़ की राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके ने इससे पहले दिन में आदि महोत्सव का दौरा किया और सभी स्टालों, विशेष रूप से छत्तीसगढ़ की कला और हस्तशिल्प प्रदर्शन पर विशेष ध्यान दिया। उनका स्वागत ट्राइफेड के अध्यक्ष श्री रमेश चंद मीणा और ट्राइफेड के प्रबंध निदेशक श्री प्रवीर कृष्ण ने किया। इस अवसर पर बोलते हुए, सुश्री अनुसुईया उइके ने कहा, “मुझे बहुत खुशी है कि ट्राइफेड ने यह अनूठी पहल की है जो आदिवासी कारीगरों को अगले स्तर तक व्यापक संपर्क प्रदान करने में मदद करता है। मैं कुछ समय के लिए ट्राइफेड से जुडी रही हूं और इससे मुझे छत्तीसगढ़ की कला और शिल्पकारों को यहां एक प्रमुख स्थान मिलता देख खुशी होती है। ”

रविवार को आदि महोत्सव में जाने वाले अन्य वरिष्ठ अधिकारियों में आवास और शहरी कार्य मंत्रालय के सचिव, श्री डी.एस. मिश्रा, और राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष श्री नंद कुमार साय भी शामिल हैं। वरिष्ठ अधिकारियों ने शाम के सांस्कृतिक कार्यक्रम को भी देखा।

हथकरघा और हस्तशिल्प और प्राकृतिक उत्पादों की खरीदारी के अलावा, कोई भी आदिवासी खान-पान व्यंजनों का सबसे अच्छा आनंद ले सकता है और आदि महोत्सव में आदिवासी कलाकारों द्वारा मनमोहक प्रदर्शन के भी मज़े ले सकता है।

आदि महोत्सव- आदिवासी शिल्प, संस्कृति और वाणिज्य की आत्मा का उत्सव, दिल्ली हाट, आईएनए, नई दिल्ली में 15 फरवरी, 2021 तक सुबह 11 बजे से रात 9 बजे तक जारी है।

आदि महोत्सव में जाएँ और “लोकल फॉर वोकल अर्थात, स्थानीय के लिए मुखर” आंदोलन के साथ आगे आए # आदिवासियों की बनाई वस्तुएं खरीदें।

image_pdfimage_print


Leave a Reply
 

Your email address will not be published. Required fields are marked (*)

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

सम्बंधित लेख
 

Back to Top