आप यहाँ है :

ई बाज़ार पोर्टल के माध्यम से वस्तु और सेवाओं की खरीद में में पश्चिम रेलवे अव्वल

वाणिज्य मंत्रालय द्वारा सार्वजनिक ख़रीद के लिए शुरु किये गये ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के लिए तैयार ई-बाज़ार GeM (जेम) के माध्यम से वस्तुओं और सेवाओं की ख़रीद को मजबूत करने के लिए पश्चिम रेलवे द्वारा कई प्रभावी कदम उठाए गए हैं। तदनुरूप, पश्चिम रेलवे सितम्बर से नवम्बर, 2020 की अवधि के दौरान जेम के माध्यम से वस्तुओं और सेवाओं की निरंतर उच्च ख़रीद करके भारतीय रेल की सभी उत्पादन इकाइयों के साथ-साथ सभी क्षेत्रीय रेलों में शीर्ष स्थान पर क़ायम है। पश्चिम रेलवे की यह असाधारण और उत्कृष्ट उपलब्धि महाप्रबंधक श्री आलोक कंसल के सक्रिय नेतृत्व और प्रमुख मुख्य सामग्री प्रबंधक के निरंतर प्रयासों से ही सम्भव हो पाई है।

पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी श्री सुमित ठाकुर द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार रेलवे बोर्ड के दिशा-निर्देशों के अनुरुप जेम पोर्टल के माध्यम से पश्चिम रेलवे में जेम टास्क फ़ोर्स का गठन किया गया है। इसके अनुसार जेम्स टास्क फ़ोर्स द्वारा पश्चिम रेलवे का मौज़ूदा 950 करोड़ रुपए की सेवाओं का विशाल डाटा रखा गया है और उनमें से चिन्हित कुछ सेवाओं को सीधे जेम के माध्यम से ख़रीदा जा सकता है।

इन प्रयासों के परिणामस्वरूप ही पश्चिम रेलवे सितम्बर, 2020 से नवम्बर, 2020 के दौरान सभी क्षेत्रीय रेलों और उत्पादन इकाइयों में जेम के माध्यम से निरंतर वस्तु और सेवाओं की सबसे अधिक ख़रीद कर पाई है। पश्चिम रेलवे द्वारा सितम्बर, 2020 में 34.94 करोड़ रुपए, अक्टूबर, 2020 में 43.52 करोड़ रुपए और नवम्बर, 2020 में 54.07 करोड़ की वस्तुओं और सेवाओं की ख़रीद की गई है। इस प्रकार जेम के माध्यम से वस्तुओं और सेवाओं की “संचयी” में ख़रीद में पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष 22.03 प्रतिशत की वृद्धि हुई है, जो नवम्बर, 2019 तक 44.31 करोड़ रुपए थी।

श्री ठाकुर ने बताया कि रेलवे बोर्ड ने जेम के माध्यम से ख़रीद को लागू करने और इसको मॉनिटर करने के लिए क्षेत्रीय रेलों को बार-बार कहा है। इसके अनुसार पश्चिम रेलवे ने जो जेम पोर्टल पर सेवाएं उपलब्ध नहीं थीं, उन्हें चिन्हित किया और उनके बारे में रेलवे बोर्ड को सूचित किया। जेम पोर्टल का मुख्य उद्देश्य है- सरकारी संगठनों के लिए खुली और पारदर्शी खरीद का प्लेटफॉर्म तैयार करना, सभी स्तरों के विक्रेताओं तक पहुंचना तथा सरकारी ख़रीददारी में वस्तु और सेवाओं की आसान और पारदर्शी ख़रीद उपलब्ध कराना है। जेम, सरकारी मंत्रालयों, विभागों, सार्वजनिक उपक्रमों और केंद्र सरकार के अन्य उच्च स्वायत्त निकायों के लिए गतिशील आत्मनिर्भर और ख़रीद के लिए उपभोक्ता अनुकूल पोर्टल है। वर्तमान में जेम पोर्टल पर 7400 से अधिक उत्पाद उपलब्ध हैं, जिनमें से 150 उत्पाद श्रेणी के और किराए पर परिवहन सेवाओं से सम्बंधित हैं। 140 करोड़ रुपए से अधिक का आदान-प्रदान, जेम के माध्यम से पहले ही किया जा चुका है। यह पूर्णतया काग़ज़रहित, कैशलेस और सिस्टम चालित ई-बाज़ार प्रणाली है, जो सामान्य वस्तुओं और सेवाओं को न्यूनतम ह्यूमन इंटरफेस के लिए उपलब्ध कराने में सक्षम है।

*

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top