आप यहाँ है :

‘जल नायक: अपनी कहानियाँ साझा करें’ प्रतियोगिता के विजेताओं की घोषणा की

जल शक्ति मंत्रालय के जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण विभाग ने ‘जल नायक : अपनी कहानी साझा कीजिये’ प्रतियोगिता शुरू की है। अब तक माई गव पोर्टल पर प्रतियोगिता के तीन संस्करण शुरू किए जा चुके हैं। पहला संस्करण 01.09.2019 से 30.08.2020 तक जारी किया गया था। दूसरा संस्करण 19.09.2020 से 31.08.2021 तक शुरू किया गया था। तीसरा संस्करण 01.12.2021 को शुरू किया गया और 30.11.2022 को समाप्त हुआ था।

प्रतियोगिता का उद्देश्य सामान्य रूप से पानी के महत्व को बढ़ावा देना और जल संरक्षण तथा जल संसाधनों के सतत विकास पर देशव्यापी प्रयासों का समर्थन करना है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की परिकल्पना के अनुसार, देश में जल संरक्षण के उपाय को अपनाने के लिए एक बड़ी जनसंख्या को प्रेरित किया जाना चाहिए। इसका उद्देश्य जल नायकों के ज्ञान और अनुभवों को साझा करके जल संरक्षण के लिए जागरूकता पैदा करना और जल संरक्षण तथा प्रबंधन के प्रति एक दृष्टिकोण पैदा करना है, ताकि सभी हितधारकों के बीच एक व्यवहारिक परिवर्तन पैदा किया जा सके।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की परिकल्पना के अनुसार, देश में जल संरक्षण के उपाय अपनाने के लिए एक बड़ी आबादी को प्रेरित किया जाना चाहिए।
प्रतियोगिता का उद्देश्य सामान्य रूप से पानी के महत्व को बढ़ावा देना और जल संरक्षण एवं जल संसाधनों के सतत विकास पर देशव्यापी प्रयासों का समर्थन करना है।
इसका उद्देश्य ज्ञान बढ़ाकर और जल नायकों के अनुभवों को साझा करके जल संरक्षण के लिए जागरूकता पैदा करना है।
इसका उद्देश्य जल संरक्षण और जल प्रबंधन के प्रति एक दृष्टिकोण बनाना है ताकि सभी हितधारकों के बीच एक व्यवहारिक परिवर्तन किया जा सके।
वर्ष 2020-22 के दौरान, 16 मिलियन से अधिक वर्षा जल की कुल वर्षा जल धारण क्षमता वाले लगभग 762 चल-खल या जल तालाबों का निर्माण किया गया है।

नवंबर 2022 के महीने के लिए, तीन विजेताओं को 10,000/- रुपये का नकद पुरस्कार और एक प्रमाणपत्र मिलेगा, विजेताओं के बारे में …

(i) श्री बापू बहुसाहेब सालुंखेः वे नासिक, महाराष्ट्र के रहने वाले हैं। उन्हें 2019 में राष्ट्रीय जल मिशन पुरस्कार मिल चुका है। वह किसानों को ड्रिप सिंचाई और सूक्ष्म सिंचाई के माध्यम से न्यूनतम पानी का उपयोग करके अपने खेतों में वर्षा जल संचयन, भूजल पुनर्भरण, कुआं पुनर्भरण और बोरवेल पुनर्भरण करने के लिए प्रोत्साहित करते रहे हैं। उनके अनुरोध पर लगभग 800 से 1000 किसानों ने अपने खेतों में जल भंडारण क्षेत्र बना लिए हैं, और इन जल भंडारण क्षेत्र को बरसात के मौसम में वर्षा जल संचयन के माध्यम से भर दिया जाता है। उन्होंने अपने खेत में दो बड़े जल भंडारण क्षेत्र भी बनाए हैं, जो बारिश के मौसम में भर जाते हैं, जिनका उपयोग खेती के कार्यों के लिए किया जाता है।

(ii) सुश्री गुनगुन चौधरी: उन्होंने बर्तन का उपयोग पानी बचाने वाले उपकरण के रूप में किया। उन्होंने दोहरी दीवारों वाले मिट्टी के घड़े का उपयोग किया है। इस मटके की बाहरी दीवार जल प्रतिरोधी है। दो दीवारों के बीच में पानी डाला जाता है, जो आवश्यकतानुसार भीतरी दीवार से होते हुए पौधे तक जाता है। इसके बाद उन्होंने बर्तन की दीवारों के बीच की जगह को ढक दिया, ताकि यह वाष्पित न हो और बाहर निकल जाए। इस तरीके से एक बर्तन में एक महीने में करीब 150 गिलास पानी बचाया जा सकता है। उन्होंने 3 गांवों के 40 घरों में करीब 400 गमले लगाए हैं। इस तरह वह एक महीने में काफी पानी बचा सकने में सफल रहीं थी।

(iii) श्री वैभव सिंह, आईएफओएस: वे भारतीय वन सेवा के अधिकारी हैं, उत्तराखंड के मध्य हिमालयी क्षेत्र, रुद्रप्रयाग वन प्रभाग के जंगलों में सेवारत हैं। चूंकि उन्होंने अगस्त 2019 में डीएफओ के रूप में पदभार संभाला था, इसलिए उन्होंने मिट्टी की नमी संरक्षण (एसएमसी) संरचना का निर्माण शुरू किया, जिसमें संगठित और योजनाबद्ध तरीके से चल खल (गढ़वाली में ‘पानी के तालाब’), समोच्च खाइयां, चेक डैम, परकोलेशन पिट्स, ऐसी अन्य संरचनाओं के बीच शामिल हैं। वर्ष 2020-22 के दौरान कुल 1.6 करोड़ से अधिक वर्षा जल धारण क्षमता वाले लगभग 762 चल-खल या तालाबों का निर्माण किया गया है। कुल 2010 चेक डैम बनाए गए थे, जिसके परिणामस्वरूप समोच्च खाइयों और रिसाव गड्ढों के निर्माण से 472 हेक्टेयर खराब वन भूमि के पर्यावरण-बहाली के साथ बढ़ते भूजल रिसाव के साथ-साथ हजारों टन शीर्ष मृदा संरक्षण हुआ।

image_pdfimage_print


Leave a Reply
 

Your email address will not be published. Required fields are marked (*)

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

सम्बंधित लेख
 

Get in Touch

Back to Top