Wednesday, May 29, 2024
spot_img
Homeमीडिया की दुनिया सेग्राहकों को खुलेआम लूट रही है एचडीएफसी बैंक

ग्राहकों को खुलेआम लूट रही है एचडीएफसी बैंक

बैंकों में धोखाधड़ी के मामले तो सामने आते रहते हैं लेकिन उसमें कोई आम आदमी किसी बैंक के कर्मचारी के साथ मिलकर धोखाधड़ी करता है या किसी ब्रांच का कोई कर्मचारी किसी ग्राहक के खाते से पैसे निकाल लेता है। कई बार बैंक किसी ग्राहक के खाते से पैसे काट लेता है जोकि किसी सर्विस का चार्ज होता है लेकिन ग्राहक को लगता है कि उसके साथ धोखाधड़ी हुई है। इस बार मामला कुछ अलग है HDFC बैंक ने ही अपने ग्राहकों के साथ धोखाधड़ी करके उनके खाते से 400-400 रुपये काट लिए हैं। दरअसल बैंक ने अपने ग्राहकों को एक ईमेल किया था जिसमें बैंक ने अपने ग्राहकों के साथ वर्चुअल रिलेशनसिप मैनेजर प्रोग्राम करने की बात की थी। इस प्रोग्राम से कस्टमर्स को ज्यादा फायदे देने की बात थी। इस प्रोग्राम की फीस 400 रुपये थी। इस प्रोग्राम के लिए बैंक ने अपने सभी ग्राहकों को इनवाइट भेजा था।
इनवाइट जिन लोगों को मिला उनसे बैंक को 400 रुपये लेने थे। अगर आपको इस प्रोग्राम का फायदा नहीं लेना था तो उसमें ऑप्ट आउट का ऑप्शन चुनना था। जो लोग इस मेल को नहीं देख पाए या देख लिया और उसे सही से नहीं पढ़ पाए तो उन्होंने ऑप्ट आउट नहीं किया। इसके बाद बैंक ने उन सभी के ग्राहको को बिना बताए उनके खाते से जबरदस्ती 400-400 रुपये काट लिए जिन्होंने ऑप्ट आउट नहीं किया था। इसमें वो लोग भी शामिल थे जो इस प्रोग्राम का हिस्सा भी नहीं बने थे और न बनना चाहते थे। एक ब्लॉगर ने अपने ब्लॉग में लिखा है कि HDFC बैंक का यह स्कैम 400 करोड़ रुपये का है।

एचडीएफसी बैंक के बैंगलुरू के एक ग्राहक कार्तिक श्रीनिवासन ने ट्वीटर अपर अपने एकाउंट @beastotrall से इसके खिलाफ ट्विटर पर सत्याग्रह छेड़ रखा है। उनका कहना है कि जब तक बैंक इसके लिए ग्राहकों से माफी नहीं मांग लेता वह इसे जारी रखेंगे। वह एक फरवरी से लगातार इसके लिए ट्वीट कर रहे हैं। कार्तिक के ट्विटर पर 25,000 फोलोअर हैं। कार्तिक का यह अभियान अभी सफल नहीं हुआ है और न ही इसके कोई आसार दिखाई दे रहे हैं। कार्तिक ने इसकी स्टोरी को अपने फेसबुक पर भी शेयर किया है।

साभार- इंडियन एक्सप्रेस से

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार