Saturday, June 15, 2024
spot_img
Homeप्रेस विज्ञप्तिडॉ. दीपक कुमार श्रीवास्तव को फेडरल यूनिवर्सिटी डटसीन-मा नाईजीरीया से सबबाटीकाल प्रोफेसर...

डॉ. दीपक कुमार श्रीवास्तव को फेडरल यूनिवर्सिटी डटसीन-मा नाईजीरीया से सबबाटीकाल प्रोफेसर बनाए जाने का प्रस्ताव

कोटा : डॉ दीपक कुमार श्रीवास्तव संभागीय पुस्तकालयाध्यक्ष राजकीय सार्वजनिक मण्डल पुस्तकालय कोटा को फेडरल यूनिवर्सिटी डटसीन-मा कटसीना स्टेट नाईजीरीया के पुस्तकालय एवं सूचना विज्ञान विभाग मे सबबाटीकाल प्रोफेसर हेतु ऑफर प्रदान किया गया हे | इस बावत डॉ दीपक से सहमति चाही गई हे इसके जरिये डॉ श्रीवास्तव बतौर वीजीटींग प्रोफेसर इस विश्वविधालय के छात्रों को ऑनलाईन एवं ऑफ लाईन अध्यापन करवा सकेंगे |

उल्लेखनीय है कि डॉ श्रीवास्तव के मार्गदर्शन मे कई विदेशी छात्र शोध कर चुके हे तथा वर्तमान मे इंटरनेशनल इमर्जींग लाईब्रेरी इनोवेटर्स इण्डिया तथा साउथ एशिया मेण्टर हे जो नेपाल , श्रीलंका , म्यानमार इत्यादि देशो के इनेली इनोवेटर्स को स्काईप के माध्यम से प्रशिक्षित कर रहे हे | संभवत यह देश के पहले सार्वजनिक पुस्तकालयाध्यक्ष हे जिन्हे यह अवसर प्रदान किया गया हे |

इस नए पथ प्रदर्शक के रूप में, डॉ. श्रीवास्तव ने देश के पहले सार्वजनिक पुस्तकालयाध्यक्ष के तौर पर इस अवसर को स्वीकार किया है, जिससे एक नया दृष्टिकोण मिलेगा और छात्रों को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शिक्षा प्राप्त करने का सुनहरा अवसर होगा।

Dr. D. K. Shrivastava
INELI South Asia Mentor
IFLA WALL OF FAME ACHIEVER
Divisional Librarian and Head
Govt. Divisional Public Library Kota (Rajasthan)-324009
[email protected]
Cell No.+91 96947 83261

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार