Thursday, February 22, 2024
spot_img
Homeकविताफागुन का दर्द !

फागुन का दर्द !

हे कृष्ण ! फागुन फिर से आया ।

शब्द मेरे प्रश्न बन

फिर जूझने तुमसे चले हैं ।

कह सको ग़र आज ,

बस इतना बताना

रंग फगुआ का क्या तुझ पर भी चढ़ा है ?

नाम तेरा सुनके जब मेरी कपोलें

रोज़ ही फगुआ का रंग बिखेरती हैं

तेरे गालों पर भी क्या ऐसा असर है ?

तेरी फगुआ भी क्या मेरी ही तरह है ?

धानी चूनर ओढ़कर फिर भोर उतरा

सतरंगी चादर बिछाने मेरे अंगना ।

लाल किरणों से धरा की रेत भी

ऐसी सजी कि

तेरी सब पटरानियाँ ज्यों

लाल चूनर में सजी हैं।

पर,

साँझ जो डूबा है

गहरी वेदना में

रंग उसका क्या

ये क्या तुझको पता है ?

सुनती हूँ तुमने किया आज़ाद ,

और उद्धार भी उन देवियों का ।

तुम ही हो उद्धारकर्ता ,

लो, ये मैं भी मानती हूँ ।

मेरी भी एक बात मानो

प्रेम से अपने मुझे

आज़ाद करके भी बता दो।

फगुआ की चंचल बयारें

आज भी मन मोहती होंगी तुम्हारा

जानती हूँ ।

संग तेरे डोलती होंगी सभी पटरनियाँ भी

ठीक वैसे ही कि

जैसे डोलते थे संग मेरे

प्रेम रंग में डूबकर

तुम ।

बिखरे लम्हों को

अगर तुम जोड़ पाओ

माप पाओ प्रेम की गहराइयों को

तो मुझे इतना बताना ।

वेदना और प्रेम की गहराइयों में

भेद क्या है ?

तुम हो अंतरज्ञ

यह मुझको पता है

रंग फागुन का नहीं तुमसे छिपा है ।

अनगिनत पटरानियों का रंग जो तुझपर चढ़ा है ।

पर ज़रा मुझको बता दो

रंग मेरे प्रेम का क्या है ,

और फिर वेदना का कौन सा रंग ?

हे कृष्ण !

फागुन फिर से आया

कह सको ग़र आज ,

बस इतना बताना

तेरी फग़ुआ भी क्या मेरी ही तरह है ?

तेरे गालों पर भी क्या मेरा असर है ?

बस ज़रा इतना बताना ।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार