आप यहाँ है :

 

  • आंतरिक जीवन ही महानता का सच्चा मार्गदर्शक है

    आंतरिक जीवन ही महानता का सच्चा मार्गदर्शक है

    गौरतलब है कि हममें से अधिकतर लोग "जीवन की यथार्थता" को या तो समझने की कोशिश नही करते, या फिर जब समझना चाहते है तो सुनहरा वक्त गुजर चुका होता है । कुछ लोगों का यह भी कहना है कि " जब जगो तभी सवेरा" ।

  • वायु प्रदूषण:एक अनियंत्रित होती समस्या

    वायु प्रदूषण:एक अनियंत्रित होती समस्या

    बीती दीपावली में एक बार फिर पूरे देश में ज़हरीली गैस वातावरण में फैलने का स्तर पहले से कई गुणा अधिक फैलने के समाचार हैं। इसमें वायु प्रदूषण के साथ-साथ ध्वनि प्रदूषण के बढऩे का स्तर भी शामिल है। प्राप्त सूचनाओं के अनुसार इन दिनों देश के विभिन्न अस्पतालों तथा निजी डॉक्टर्स के पास आने वाले मरीज़ों में दमा,$खांसी,इं$फेक्शन,आंखों में जलन व इं$फेक्शन के मरीज़ों की संख्या अधिक है।

  • तकदीर के तिराहे पर नवजोत सिंह सिद्धू

    तकदीर के तिराहे पर नवजोत सिंह सिद्धू

    आप जब ये पंक्तियां पढ़ रहे होंगे, तब तक संभव है नवजोत सिंह सिद्धू को नया राजनीतिक ठिकाना मिल गया होगा। लेकिन सियासत के चक्रव्यूह में सिद्धू की सांसे फूली हुई दिख रही हैं। पहली बार वे बहुत परेशान हैं। जिस पार्टी ने उन्हें बहुत कुछ दिया, और जिसे वे मां कहते रहे हैं, उस बीजेपी से वे अलग हो चुके हैं। कांग्रेस में भाव नहीं मिल रहा है और केजरीवाल की पार्टी सौदेबाजी स्वीकारने को तैयार नहीं लगती।

  • अविस्मरणीय रहेगा श्री दुलीचंद जी बरडिया का योगदान

    अविस्मरणीय रहेगा श्री दुलीचंद जी बरडिया का योगदान

    राजनांदगांव। शहर के प्रतिष्ठित सराफा व्यवसायी और समाजसेवी स्व.दुलीचन्द जी बरडिया को जैन श्री संघ सहित जन प्रतिनिधियों, सामाजिक संगठनों, संस्थाओं के पदाधिकारियों, पत्रकारों तथा शुभचिन्तकों ने भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की।

Get in Touch

Back to Top