Saturday, February 24, 2024
spot_img

Monthly Archives: September, 2018

भारतीय रेडिओ अब पाकिस्तान में घुसकर भारत का प्रचार करेगा

भारत-पाकिस्तान सीमा से सटे अटारी के घरिंडा गांव में ऑल इंडिया रेडियो ने 20किलोवाट का फ्रीक्वंसी मॉड्यूलेशन (एफएम) ट्रांसमीटर स्थापित किया है,

ऊंचे पदों पर रहे अफसरों के दिलचस्प किस्से

कई सेवानिवृत नौकरशाहों के सेवाकाल के अनुभवों के संकलन के तौर पर आई किताब ‘मेमोरी क्लाउड्स’ से खुलासा हुआ है कि तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी जब अपने निजी सचिव

बेदाग राजनीति के लिये संसद जागें

नेताओं के चुनाव लड़ने पर पाबंदी की मांग उठती रही है, पिछले दिनों याचिका दायर कर मांग भी की गई थी कि गंभीर अपराधों में, यानी जिनमें 5 साल से अधिक की सजा संभावित हो, यदि व्यक्ति के खिलाफ आरोप तय होता है तो

अमरीका में विज्ञापन में छपे गणेशजी के फोटो को लेकर बवाल मचा

जोमैटो कंपनी द्वारा बनाए गए इस विज्ञापन में भगवान गणेश के शरीर को लेकर कई खासियत लिखी हैं लेकिन उसके नीचे लिखे कैप्शन पर विवाद हो रहा है।

जैन तीर्थ के अस्तित्व को अक्षुण्ण रखा जाएगा: सुदर्शन भगत

केन्द्रीय मंत्री श्री सुदर्शन भगत ने झारखंड राज्य के गिरडीह जिले के श्री सम्मेदशिखरजी तीर्थ यानी पाश्र्वनाथ हिल को जैनों का प्रमुख तीर्थस्थल होने के कारण उसकी पवित्रता एवं ऐतिहासिकता को

श्री लोहानी की पहल पर पटरी पर उतरा 70 साल पुराना जादू

इस रेलवे स्टेशन पर रुकने के बाद यह गाड़ी 9.55 बजे यहां से चल देगी. यहो से चलने के बाद यह रेलगाड़ी 10.15 बजे फरुखनगर रेलवे स्टेशन पर पहुंचेगी. फरुखनगर रेलवे स्टेशन से ये रेलगाड़ी दोपहर 11.15 बजे रवाना होगी. वापसी में यह गाड़ी गढ़ी हरसरू रेलवे स्टेशन पर दोपहर 12 बजे पहुंचेगी.

मीडिया पर हर कोई ऊंगली क्यूँ उठा रहा है!

विकल्प तलाशने होंगे। मीडिया की दिनोंदिन घटती विश्वसनीयता और कचोटने वाले वाले सवालों का हल खोजने की वैचारिक कवायद ब्रह्माकुमारीज़ द्वारा आबू में आयोजित राष्ट्रीय मीडिया महासम्मेलन के कान्फ्रेंस हॉल में दूसरे दिन भी जारी रही।

विदेशी धरती पर पहली बार देश का झंडा फहराने वाली भीकाजी कामा

देश की आजादी में न जाने कितने लोगों ने अपना जीवन बलिदान किया लेकिन इस जंग के कुछ नाम हमेशा के लिए अमर हो गए. साल 1907 में विदेश में पहली बार भारत का झंडा फहराया

श्राध्दः श्रध्दा, परंपरा, परिवार और पर्यावरण को बचाने का पर्व

उदित होती हुई उषा, बहती हुई नदियाँ, सुस्थिर पर्वत और पितृगण सदैव हमारी रक्षा करें ।" -ऋग्वेद की यह प्रार्थना हमारी संस्कृति में पितरों की भूमिका को रेखांकित करती है । अपनी परम्परा में पितरों की उपस्थिति को अनुभव करना ही सच्ची पितृपूजा है।

भारतीय राष्ट्र गान को गाकर चर्चित हुआ पाकिस्तानी आदिल ताज

ताज ने कहा ‘‘मैं बॉलीवुड का बहुत बड़ा फैन हूं। मैंने हिंदी फिल्म ‘कभी खुशी कभी ग़म’ में भारतीय राष्ट्रगान पहली बार सुना। राष्ट्रगान के दौरान का एक सीन इतना अधिक भावनापूर्ण था
- Advertisment -
Google search engine

Most Read