Thursday, February 22, 2024
spot_img

Monthly Archives: November, 2020

आर्थिक मजबूती से बढ़ेगा हिन्दी का साम्राज्य

लोक सेवकों एवं जनप्रतिनिधियों को अपने कार्य क्षेत्र में ग्राम-नगर में पुस्तकालय खुलवाना चाहिए उन पुस्तकालयों में प्रायोगिक विषयों की किताबें रखनी चाहिए।

कोरोना काल में डाक विभाग निभा रहा अहम भूमिका – पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव

इस अवसर पर सहायक डाकघर अधीक्षक श्री बी के शर्मा, उपमंडलीय निरीक्षक श्री हिमांशु तिवारी,श्री मनीष कुमार सिंह, परिवाद निरीक्षक श्री ज्ञानेंद्र कुमार, पोस्टमास्टर मिर्जापुर प्रधान डाकघर श्री अशोक मौर्या सहित तमाम अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित रहे।

पश्चिम रेलवे द्वारा 6 त्योहार विशेष ट्रेनें 3 जनवरी, 2021 तक विस्तारित

पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी श्री सुमित ठाकुर द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार उपरोक्त ट्रेनों के विस्तारित फेरों का विवरण नीचे दिया जा रहा हैः-

पश्चिम रेलवे की राजधानी एवं शताब्‍दी सहित कुछ विशेष ट्रेनों के समय में संशोधन

ट्रेन सं. 04189 दौंड-ग्‍वालियर विशेष ट्रेन 29 नवम्‍बर, 2020 से दौंड से 23.10 बजे रवाना होगी। इस ट्रेन के मार्ग में आने वाले पश्चिम रेलवे के स्टेशनों पर आगमन/प्रस्थान का संशोधित समय वसई

हजारों हिंदुओं को इसाई बनने से बचाने वाले पंडित प्रकाश चन्द ‘कविरत्न’

आज पंडित जी पार्थिव शरीर के रूप में तो हमारे मध्य नहीं है किन्तु उनके काव्य और भजन आज भी बडे जोश के साथ आर्य समाजों में गाये जाते हैं, जो हमें उनकी उपस्थिति का एहसास करवाते हैं|

ओशो और हरिसिंह गौर

आस्तिक कहता है, ईश्वर बिना बनाया है। तो नास्तिक कहता है, जब ईश्वर बिना बनाया हो सकता है, तो फिर सारी प्रकृति बिना बनाई क्यों नहीं हो सकती? क्या अड़चन है? और अगर कोई भी

हरि सिंह गौर : हिंदू कोड बिल के जनक जिनके काम आज भी बड़े-बड़े वकीलों को रास्ता दिखाते हैं

डॉक्टर हरी सिंह दिल्ली और नागपुर विश्वविद्यालयों के पहले वाइस चांसलर नियुक्त किये गए थे. वक़ालत के दौरान कमाए गए धन और संपत्ति को उन्होंने ट्रस्ट में तब्दील कर अपने पास इसका

‘कोरोना वारियर्स’ की मेरी लिस्ट में पत्रकारों का स्थान बेहद खास : डॉ. हर्षवर्धन

'कोरोना महामारी में स्वास्थ्य पत्रकारिता' विषय पर बोलते हुए डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि कोरोना के दौर में भी पत्रकारों ने लोगों के लिए ‘ग्राउंड जीरो’ से लगातार रिपोर्टिंग की है।

क्यों ज़रुरी था लव जिहाद पर कानून!

तो जरा शुरू से शुरू करते हैं। इस मुद्दे को पहली बार न तो भाजपा या उसके समर्थक किसी संगठन ने उठाया था और न ही इसकी शुरुआत किसी भाजपा शासित राज्य से हुई।

कृति के सभी जीवों और तत्वों के साथ सह अस्तित्व ही आदिवासियत – हरिराम मीणा

कार्यक्रम का संयोजन विभाग के प्रध्यापक डॉ धर्मेंद्र प्रताप सिंह ने किया। वेबिनार में विभाग के वरिष्ठ आचार्य डॉ रामेश्वर राय, डॉ हरींद्र कुमार सहित अनेक महाविद्यालयों के हिंदी विभागों के प्राध्यापक में विद्यार्थी उपस्थित रहे।
- Advertisment -
Google search engine

Most Read