1

ज़ी समूह में डॉ. सुभाष चंद्रा निभाएंगे अब नई जिम्मेदारी

‘जी समूह’ से आ रही बड़ी खबर के मुताबिक डॉ. सुभाष चंद्रा को ‘जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड’ (ZEEL) का चेयरमैन एमरेटस (Chairman Emeritus) नियुक्त किया गया है। उनकी यह नियुक्ति 19 अगस्त से प्रभावी होगी। इसके अलावा, आर गोपालन (R Gopalan) को बोर्ड का चेयरमैन नियुक्त किया गया है।

इस बारे में कंपनी की ओर से जारी बयान में कहा गया है, ‘सुभाष चंद्रा ने 18 अगस्त को एक पत्र लिखकर कंपनी के नॉन एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर पद से इस्तीफा दे दिया था, जिसे बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स ने अनिच्छा से स्वीकार किया। अपने पत्र में सुभाष चंद्रा ने करीब 27 साल पहले स्थापित कंपनी के कामकाज को लेकर संतुष्टि जताई जो अब ग्लोबल मीडिया और एंटरटेनमेंट पावर हाउस में तब्दील हो चुकी है। उन्होंने बतौर एंटरप्रिन्योर बेहतर कल को तैयार करने के लिए लगातार काम करने के अपने जुनून पर भी जोर दिया और उसके लिए अपने लगातार ध्यान देने का उल्लेख किया।’

टेलीविजन की दुनिया के पितामह (‘Father of Indian Television’ ) के नाम से मशहूर डॉ. चंद्रा के विजन ने कंपनी और इंडस्ट्री को इस ऊंचाई तक पहुंचाने में उल्लेखनीय योगदान दिया है, जिससे देश में लाखों नौकरियों के अवसर भी पैदा हुए हैं। इस क्षेत्र में दिए गए इस बहुमूल्य योगदान के लिए सुभाष चंद्रा को न्यूयॉर्क में हुए 39वें इंटरनेशनल एमी अवॉर्ड्स में 2011 का ‘इंटरनेशनल एमी डायरेक्टोरेट अवार्ड दिया जा चुका है। इसके साथ ही वह मीडिया के क्षेत्र में यह अवॉर्ड पाने वाले पहले भारतीय बने।

कंपनी की ओर से जारी बयान में यह भी कहा गया है, ‘बोर्ड की ओर से सुभाष चंद्रा से चेयरमैन एमरेटस बनने की गुजारिश की गई, जिसे उन्होंने मान लिया है। उनकी यह नियुक्ति 19 अगस्त से प्रभावी होगी। सलाहकार की भूमिका में वह समय-समय पर कंपनी को अपना मार्गदर्शन देते रहेंगे और कंपनी को उनके इतने विशाल अनुभव का काफी फायदा मिलेगा।’

बयान में यह भी कहा गया है, ‘आर गोपालन को 25 नवंबर 2019 को इंडिपेंडेंस डायरेक्टर की कैटेगरी में एडिशनल डायरेक्टर नियुक्त किया गया था। उन्हें अब तत्काल प्रभाव से बोर्ड का चेयरमैन (Chairman of the Board) नियुक्त किया गया है। मद्रास यूनिवर्सिटी से केमिस्ट्री में ग्रेजुएट आर गोपालन ने बोस्टन यूनिवर्सिटी से एमए (इकनॉमिक्स) के साथ हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन और मैनेजमेंट में मास्टर्स की डिग्री ली है। गोपालन को इकनॉमिक और फाइनेंसियल एडमिनिस्ट्रेशन में काम करने का काफी अनुभव है और वह वाणिज्य मंत्रालय व वित्त मंत्रालय में अपनी जिम्मेदारी निभा चुके हैं। भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी गोपालन को अपने 36 साल के करियर में वेंचर कैपिटल फंड, इंफ्रास्ट्रक्चर फाइनेंसिंग आदि को स्थापित करने और उनका प्रबंधन करने का काफी अनुभव है।’