भारतवर्ष का इतिहास (3 भागों मे)

आचार्य रामदेव ( गुरुकुल काँगड़ी के पूर्व मुख्याधिष्ठाता) द्वारा लिखित भारत वर्ष का इतिहास ।

प्रायः यह प्रश्न किया जाता है कि उपलब्ध सामग्री के आधार पर भारत का इतिहास नहीं लिखा जा सकता और जो इतिहास है वह राजाओं का इतिहास है न कि जन साधारण का।
इस पुस्तक मे दिखाया गया है कि उपलब्ध सामग्री के आधार पर न केवल इतिहास लिखा जा सकता है अपितु राजा और प्रजा दोनों का विवरण बताया जा सकता है।
लेखक स्वामी श्राद्धनन्द के बाद गुरुकुल काँगड़ी के संचालक रहे थे। भारतीय शास्त्रों का विशाल अध्ययन इनके लेखन मे झलकता है।

पहले खण्ड मे वैदिक काल के विषय मे लिखा गया है। दूसरे मे महाभारत से बौद्ध काल तक और तीसरे मे बौद्ध से वर्तमान तक लिखा है।

कुल पृष्ठ 1100
पुस्तक मूल्य ₹1200+₹50 पैकिंग व डाक खर्च
प्राप्ति के लिए Whatsapp करें 7015591564
Cash on Delivery सुविधा उपलब्ध नहीं है.
पहले मूल्य (₹1250) प्राप्त होने पर ही पुस्तक भेजी जाएगी