आरई डबल्यू (REW) 2023 व्यापार और लॉजिस्टिक्स के मामले में वैश्विक तेल बाज़ार के पुनर्गठन पर फ़ोकस करेगा

मॉस्को, रूस। रूसी ऊर्जा सप्ताह अंतर्राष्ट्रीय फोरम (REW 2023) 11-13 अक्टूबर को मॉस्को में आयोजित किया जाएगा। प्रतिभागी रूस और चीन, भारत और अफ्रीकी देशों सहित दुनिया की सबसे बड़ी उभरती अर्थव्यवस्थाओं के बीच ऊर्जा सहयोग की संभावनाओं पर चर्चा करेंगे। आगामी फोरम के प्रमुख विषयों में से एक वैश्विक ऊर्जा क्षेत्र पर परिवहन और लॉजिस्टिक्स गलियारों के पुनर्गठन का प्रभाव है।

“वैश्विक तेल व्यापार एक बड़े संरचनात्मक बदलाव के दौर से गुज़र रहा है। मध्य पूर्वी देश, जो पूर्वी एशिया की बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं को माल उपलब्ध कराने में एक अहम भूमिका निभाते थे, अब यूरोप को अपनी तेल सप्लाई बढ़ा रहे हैं। बदले में, रूस ने भारत, चीन और कुछ अन्य एशिया प्रशांत देशों में अपने तेल निर्यात में तेज़ी से बढ़ोतरी की है।

इसके अलावा, ब्राज़ील और गयाना सहित लैटिन अमेरिकी देश, यूरोप और एशिया प्रशांत देशों के लिए अनुरूप शिपमेंट दूरी के साथ, तेल बाज़ार में बढ़ती भूमिका निभा रहे हैं,” रूसी संघ के राष्ट्रपति के सलाहकार और REW 2023 आयोजन समिति (REW 2023 Organizing Committee) के कार्यकारी सचिव एंटोन कोब्याकोव ने कहा।

तेल बाज़ार में होने वाले बदलाव इसके भविष्य पर प्रभाव डालते हैं, ये कहते हुए कि वैश्विक तेल बाज़ार मौजूदा भू-राजनीतिक घटनाओं के अनुकूल ढलने की कोशिश कर रहा है, “रूसी तेल, लगाए गए प्रतिबंधों के बावजूद, बदली हुई कीमत संरचना के साथ विभिन्न बाज़ारों में प्रवेश कर रहा है। लॉजिस्टिक्स और ज़्यादा जटिल और महंगी हो गई है, क्योंकि तेल टैंकरों को कच्चा माल और पेट्रोलियम उत्पाद पहुँचाने के लिए लंबी दूरी तय करनी पड़ती है।”

कोब्याकोव ने कहा, तेल बाज़ार के भविष्य पर इन बदलावों का प्रभाव आगामी रूसी ऊर्जा सप्ताह (Russian Energy Week) के सबसे अहम विषयों में से एक होगा।

अगस्त 2023 में रूसी रिफ़ाइंड प्रोडक्ट्स के सबसे बड़े आयातक तुर्की, भारत और संयुक्त अरब अमीरात थे। इन तीन देशों में रूसी संघ से 46% समुद्री आपूर्ति होती है (2.27 मिलियन b/d में से 1.04 मिलियन)। ब्राज़ील, चीन और मलेशिया की भूमिका लगातार महत्वपूर्ण होती जा रही है: इन क्षेत्रीय उपभोक्ताओं की रूसी तेल उत्पादों की आपूर्ति की कुल संरचना में कुल 18% (397,000 b/d) हिस्सेदारी है।

सिंगापुर ने, जो सक्रिय रूप से अपने तेल उत्पाद केंद्र का विकास कर रहा है, अगस्त में रूसी संघ के रिफ़ाइंड प्रोडक्ट्स के शिपमेंट (152,000 b/d) का 7% हिस्सा लिया। ग्रीस और माल्टा भी उल्लेखनीय भूमिका निभाते हैं: पेट्रोलियम उत्पादों का ट्रांसशिपमेंट इन यूरोपीय संघ के देशों के क्षेत्रीय जल में होता है, जिससे अगस्त 2023 में निर्यात में इन देशों की कुल हिस्सेदारी 8% (191 b/s) हो जाती है।

REW एनर्जी क्लब के एक एक्सपर्ट, इगोर युशकोव कहते हैं, “लॉजिस्टिक्स के प्रवाह का पुनर्गठन सिर्फ़ कोई सुंदर नारा नहीं है, बल्कि एक ठोस तथ्य है। जैसे, अगस्त 2023 में, रूसी संघ से पेट्रोलियम उत्पादों के शीर्ष 20 प्रमुख आयातकों में 9 अफ़्रीकी देश शामिल थे: अल्जीरिया, घाना, मिस्र, लीबिया, मोरोक्को, नाइजीरिया, सेनेगल, ट्यूनीशिया और टोगो। रूस से इन देशों को पेट्रोलियम उत्पादों की समुद्री आपूर्ति की मात्रा 411 हज़ार बैरल प्रति दिन (b/d) तक पहुँच गई, और रूसी निर्यात की संरचना में उनकी हिस्सेदारी 18% थी।”

सामान्य तौर पर, इगोर युशकोव के अनुसार, पिछले कुछ महीनों में रूस से तेल उत्पादों की अपतटीय (offshore) आपूर्ति की मात्रा में लगभग 780,000 b/d की गिरावट आई है। ये मुख्य रूप से OPEC+ समझौते के तहत तेल उत्पादन कम करने की रूस की प्रतिबद्धताओं की वजह से हुआ है।

मॉस्को सिटी सरकार (Moscow City Government) द्वारा समर्थित, रूसी ऊर्जा सप्ताह अंतर्राष्ट्रीय फ़ोरम का आयोजन रूसी संघ के ऊर्जा मंत्रालय और रॉसकांग्रेस फ़ाउंडेशन (Roscongress Foundation) द्वारा किया जाता है, जो एक सामाजिक रूप से उन्मुख गैर-वित्तीय विकास संस्थान और सम्मेलनों, प्रदर्शनियों और व्यवसाय, सार्वजनिक, युवा, खेल और सांस्कृतिक कार्यक्रमों का एक प्रमुख आयोजक है।

संपर्क करें: Igor Kuznetsov, [email protected].

Neha Bisht
Executive – Media Relations
[email protected]
www.newsvoir.com