ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

निर्भयता स्वाधीनता का मूल है

आज़ादी, स्वाधीनता, फ्रीडम ,स्वतंत्रता और मुक्ति का सच्चा अर्थ ,आज हमारे कहे- लिखे हुए केवल बोल चाल के शब्द ही है या वास्तविक स्वरूप में हमारे जन जीवन और अन्तर्मन में जीवन्त रूप से रचा बसा सहज आपसी व्यवहार हैं।आजादी का मूल अर्थ भयमुक्त होना ही हो सकता है।जबतक मन निर्भय न हो स्वाधीनता से सहज साक्षात्कार हो ही नहीं सकता।जो भयभीत होता है वह स्वाधीनता के दर्शन के बारे कभी भी गहराई से सोच समझ ही नहीं पाता है।स्वाधीनता और स्वावलम्बन एक तरह से आपस में इस तरह घुले मिले हैं की दोनों को समझे बिना या आत्मसात किये बिना इनकी जीवनी शक्ति को जाना ही नहीं जा सकता हैं।इस जगत में मनुष्य के अलावा बाकी सब स्वावलम्बी है तभी तो मानवेत्तर सारे जीवजन्तुओं के सामने स्वाधीनता का सवाल कभी आया ही नहीं।मानव ने अन्य मानवों को पराधीन भी बनाया,गुलाम भी बनाया तथा परावलम्बी और यंत्रवत भी बनाया। साथ ही साथ खुद भी परावलम्बी बना और यंत्रवत बनने या यंत्र का आदि बनने की राह पर चल पड़ा हैंआज का आधुनिक मनुष्य।मनुष्य ने ही अपने मन में बसे लालच,लाचारी या भय के कारण स्वाधीनता की जगह पराधीनता का विस्तार करने वालों की गुलामी को भयभीत और मन से लाचार होकर अपनी स्वाधीनता को अपने ही हाथों खोकर पराधीनता को अपनाया।इस दृष्टि से समझे तो जो मनुष्य स्वयं पर आत्मविश्वास करता है वह स्वाधीन है और जो खुद पर भी विश्वास नही करता और भयग्रस्त रहता है वह स्वाधीनता का अर्थ और मर्म ही नही जान सकता हैं।

स्वाधीनता को समझने से पहले मनुष्य पराधीनता को क्यों और कैसे स्वीकार या आत्मसात कर लेता हैं यह समझना भी आवश्यक है।इतनी लम्बी मानव सभ्यता के इतिहास में स्वाधीनता के लिये तरह तरह के संघर्ष हुए कुर्बानिया दी गयी ,जो आज भी कई रूपों में जारी है।मानव मन में परावलम्बन और मानसिक गुलामी की जड़ें भी इतनी गहरी रची बसी है की मानव समाज में कहीं न कहीं किसी न किसी तरह की आजादी के लिये आज भी कोई न कोई मनुष्य या मानव समूह संघर्ष करता ही रहता है।जैसे हमारे आजादी के आन्दोलन में हमारे देश की आजादी को पाने के लिये रावी के किनारे पूर्ण स्वराज्य का संकल्प लिया था याने स्वाधीन और स्वावलम्बी भयमुक्त नागरिक जीवन की कल्पना को साकार करने का सामूहिक संकल्प।स्वाधीनता इतनी व्यापक और सहज अवधारणा है जो समझ तो जल्दी आ जाती है और अपने लिये हम चाहते भी है पर अन्य के साथ व्यवहार करते समय हम कई किन्तु परन्तु लगा लेते हैं।यहां आकर हम सिद्धांत और व्यवहार में उलझ जाते हैं।शायद यह हम सबके आपसी विश्वास और आत्मविश्वास में कमी के कारण या सही आकलन न कर पाने का दोष भी हो सकता हैं।

स्वाधीनता जीने का एक ढंग हैं,जिसमें आचरणगत मर्यादा और उत्तरदायित्व अन्तर्निहित हैं।स्वाधीनता की मौलिक संकल्पना के मूल में हवा और प्रकाश की तरह सहज सरल स्वाधीनता की उपलब्धता है,पर ऐसा हम आज तक कर नहीं पाये और नतीजा हम सब ने स्वाधीनता में कई किन्तु परन्तु लगाकर स्वाधीनता को व्यवस्थागत अवधारणा में बदल डाला हैं।अब दुनियाभर की व्यवस्थाओं की अपनी अपनी स्वाधीनता को लेकर व्याख्याएं हैं,जो स्वाधीनता की लक्ष्मणरेखा खींच कर स्वाधीनता की मूल अवधारणा को ही बदल देती हैं।खुला मन,खुली सोच और खुली समझ एक तरह से स्वाधीनता के लिये प्राणवायु की तरह हैं।लोकतांत्रिक समाज और व्यवस्था की आधारभूमि पर स्वाधीनता का स्वरूप निखरता हैं।स्वाधीनता कोई दिखावटी गहना नहीं है वरन् जीवन की जीवनी शक्ति या प्राणवायु हैं।

भयग्रस्त मन स्वाधीनता की राह नहीं बनाता।मन का भय पराधीनता को ही लाचार भाव से जीवन की नियति बना बैठता है।तो इस तरह हम कह सकते है कि स्वाधीनता भय के खिलाफ खुला विद्रोह हैं।मानव इतिहास गवाह है गुलामी का प्रतिरोध बहुत धीरे धीरे होता है।इस धीमी गति का कारण असुरक्षित मन:स्थिति हैं।हमारा स्वानुशासन स्वाधीनता का विस्तार करता है।स्वाधीनता स्वयं अपने आप में सीमातीत और बन्धनमुक्त अवधारणा हैं। फिर भी व्यक्ति,समाज और व्यवस्था के आचरण में अनुशासन की मर्यादा का बिन्दु आ ही जाता हैं।स्वानुशासन स्वयंस्फूर्त होता हैं जबकी अनुशासन व्यवस्थागत संकल्पना हैं।

स्वाधीनता का अर्थ मनमर्जी और मनमानी से एकदम भिन्न है।स्वाधीनता मूलत:स्वाभिमान से जुड़ा विचार है, जो व्यक्ति और समाज को निर्भय जीवन और सुरक्षित वातावरण बनाये रखने की आधारभूमि प्रदान करता है।अब एक सवाल यह भी मन में आता है की ऐसा कैसे होता है कि मनुष्य ही मनुष्यों को पराधीन करने की योजना या रणनीति बनाकर मनुष्यों में भय फैलाता हैं और लोग लाचार या भय ग्रस्त हो पराधीन हो जाते हैं।पराधीनता के खिलाफ अलख जगाने का काम भी मनुष्य समूह ही करते हुए स्वाधीनता की लड़ाई लड़ने की शुरूआत करते हैं।स्वाधीनता और पराधीनता एकदम विपरित विचार है।पर पराधीनता की अति स्वाधीनता की भूख जगाती हैऔर स्वाधीनता में अनमनापन, उदासी,लापरवाही पराधीनता को जन्म देती है।इस तरह स्वाधीनता याने सदैव चौकस और संवेदनशील रहते हुए भयमुक्त जीवन है।स्वाधीनता मनुष्य की सभ्यता का मूल है और पराधीनता मानवीय असमर्थता की पराकाष्ठा।स्वाधीनता मानव मन की पूर्णता की प्रखर अभिव्यक्ति हैं।स्वाधीनता से परिपूर्ण मानव सभ्यता मानवऊर्जा का वैसा ही सकारात्मक स्वरूप है जैसा प्राणवायु और सूर्यप्रकाश का प्राकृत स्वरूप होता है।

निर्भयता मन की स्वाधीन और प्राकृत स्थिति है। निर्भय मन ही निर्भय समाज और सभ्यता को आगे बढ़ाता हैं।भयभीत मनुष्य या समाज स्वाधीनता की रक्षा नहीं कर सकते पर स्वाधीनता का विचार मात्र ही मनुष्य मन के सारे भयों को दूर करने का द्वार खोलते हैं।आध्यात्मिक यात्रा या साधना में भी हम सब बंधन मुक्ति की चर्चा करते हैं याने भौतिक रूप में ही नहीं आध्यात्मिक साध्य के रूप में भी स्वावलम्बन ही स्वाधीनता की आधारभूमि खड़ी करता है।स्वावलम्बन हमें न केवल व्यक्तिश:वरन् सामूहिक रूप से भी स्वाधीनता के साथ ही नहीं स्वाभिमान के साथ जीते रहने की निरन्तर ऊर्जा देता हैं।स्वाधीनता हमारी मूल प्रवृत्ति है और निर्भयता स्वाधीनता का मूल है।

अनिल त्रिवेदी
अभिभाषक व स्वतंत्र लेखक
त्रिवेदी परिसर ३०४/२भोलाराम उस्ताद मार्ग ग्राम पिंपल्याराव ए बी रोड़ इन्दौर मप्र
Email [email protected]
Mob 9329947486

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top