आप यहाँ है :

भारत गौरव
 

  • ‘इंडियन रॉबिन हुड’  यानि वीर सिपाही टंट्या मामा

    ‘इंडियन रॉबिन हुड’ यानि वीर सिपाही टंट्या मामा

    हम आजादी के 75वां वर्ष का उत्सव मना रहे हैं तब ऐसे अनेक प्रसंग से हमारी नयी पीढ़ी को रूबरू कराने का स्वर्णिम अवसर है। मध्यप्रदेश ऐसे जाने-अनजाने सभी वीर योद्धाओं का स्मरण कर आजादी के 75वें वर्ष को यादगार बना रहा है। खासतौर पर उन योद्वाओं का जिन्होंने अपने शौर्य से अंग्रेजी सेना को नेस्तनाबूद कर दिया। ऐसे में वीर योद्धा टंट्या भील को हम टंट्या मामा के नाम से संबोधित करते हैं, वह सदैव हमारे लिये अनुकरणीय रहे हैं। यह हिन्दुस्तान की माटी है जहां हम अपने योद्धाओं का हमेशा से कृतज्ञ रहे हैं। ऐसे में टंट्या मामा का स्मरण करते हुए हम गर्व से भर उठते हैं कि वीर योद्धा टंट्या मामा की वीरता को सलाम करने के लिए पातालपानी रेल्वे स्टेशन से गुजरने वाली हर रेलगाड़ी के पहिये कुछ समय के लिए आज भी थम जाता है। जनपदीय लोक नायकों का स्मरण तो हम समय-समय पर करते हैं लेकिन वीर योद्धा टंट्या मामा को प्रतिदिन स्मरण करने का यह सिलसिला कभी थमा नहीं, कभी रूका नहीं।

  • वैश्विक निवेशकों की पहली पसंद बनता जा रहा है उत्तर प्रदेश

    वैश्विक निवेशकों की पहली पसंद बनता जा रहा है उत्तर प्रदेश

    उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार प्रदेश को अपराध मुक्त, दंगामुक्त तथा भयमुक्त बनाने के बाद आर्थिक विकास के लिए संकल्पवान होकर राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय निवेशकों को आकर्षित करने के लिए लगातार कदम उठा रही है जिसका स्पष्ट परिणाम भी दिखाई देता दिखाई दे रहा है।

  • ठुकराया हुआ वीर:हिन्दू जाति की ऐतिहासिक भूलों पर आंसू रुलाने वाली सच्ची घटना

    कंटीले जंगलों और पथरीली पहाड़ियों के बीच अपनी सैकड़ों कोसों की यात्रा पैदल ही पूरी कर वह भागा हुआ कैदी अपनी जन्म भूमि बून्दी दुर्ग के निकट अन्त में पहुंच ही गया। इस संकटमयी यात्रा में कितनी ही रातें इसने पेड़ों पर सोते और जागते हुए बितायी थीं। कितने ही दिन भूखे प्यासे रहकर कंटीली झाड़ियों और नुकीली पथरीली पहाड़ियां, जंगली दरिन्दों की भयानक और डरावनी आवाजें सुनते हुए ही चलते-चलते गुजारे थे। शरीर के कपड़े झाड़ियों के कांटों में उलझ-उलझ कर तार-तार हो गये थे। नंगे पैर कांटों और नुकीले पत्थरों के चुभन से लहूलुहान हो रहे थे। इस भयानक यात्रा में जंगली कंदमूल खा-खाकर इस भागे हुए कैदी को अपने पेट की आग बुझानी पड़ती थी।

  • कीट को मिला फिक्की इण्डिया स्पोर्ट्स अवार्ड

    कीट को मिला फिक्की इण्डिया स्पोर्ट्स अवार्ड

    26 नवंबर को भुवनेश्वर स्थित कीट डीम्ड विश्वविद्यालय को नई दिल्ली में फेडरेशन ऑफ इण्डियन चैंबर्स ऑफ कमर्स की ओर से फिक्की इण्डिया स्पोर्ट्स अवार्ड प्रदान किया गया।कीट जीम्ड विश्वविद्यालय की ओर से यह अवार्ड कीट के महानिदेशक डॉ.गगनेंदु दाश ने ग्रहण किया।गौरतलब है कि कीट विगत लगभग 20 वर्षों से खेल के क्षेत्र में अनेक ओलंपियन समेत अनेक उल्लेखनीय और प्रशंसनीय स्थान प्राप्त किया है

  • लाचित बरफूकन: एक अपराजित महान योद्धा

    लाचित बरफूकन: एक अपराजित महान योद्धा

    मिरि ने वह पत्र स्वर्गदेव चक्रध्वज सिंह के पास गढ़गांव भेज दिया। राजा के संदेह को अतन बुढागोहॉई ने समझाकर दूर किया लेकिन फिर भी राजा ने मुगल सेना से तत्काल मैदानी युद्ध करने का फरमान भेज दिया।

  • सिख हिन्दू एकता की मिसाल- गुरु तेग बहादुर जी ”हिन्द की चादर “बलिदान दिवस

    सिख हिन्दू एकता की मिसाल- गुरु तेग बहादुर जी ”हिन्द की चादर “बलिदान दिवस

    संसार को ऐसे बलिदानियों से प्रेरणा मिलती है, जिन्होंने जान तो दे दी, परंतु सत्य का त्याग नहीं किया।

  • कीट रजत जयंती वर्षः2022 का ऐतिहासिक शुभारंभ

    कीट रजत जयंती वर्षः2022 का ऐतिहासिक शुभारंभ

    कीट द्वारा आयोजित अन्तर्राष्ट्रीय शिक्षा सम्मेलन में शामिल हुए लगभग 100 कुलपति,आईआईएम निदेशक तथा 300 प्राचार्य

  • उदयपुर का ‘प्रताप गौरव केंद्र

    उदयपुर का ‘प्रताप गौरव केंद्र

    उदयपुर झीलों की नगरी हैं. पर्यटन की नगरी हैं. शान-शौकत, ऐशो-आराम की नगरी हैं. फाइव्ह स्टार, सेवन स्टार हाॅटेलों का यह शहर हैं. डेस्टीनेशन वेडिंग का स्थान हैं. बाॅलीवुड के कलाकारों के विवाह की पसंदिदा जगह हैं..!

  • एकात्म दर्शन पर आधारित सर्वसमावेशी हिंदू सनातन संस्कृति ही भारत का मूल तत्व है

    एकात्म दर्शन पर आधारित सर्वसमावेशी हिंदू सनातन संस्कृति ही भारत का मूल तत्व है

    दरअसल हिंदू सनातन संस्कृति एकात्म दर्शन पर आधारित सर्वसमावेशी है। इसमें ईश्वरीय भाव जाहिर होता है। जो मेरे अंदर है वही आपके अंदर भी है।

  • अनुसूचित और आदिवासी समाज ईसाई मिशनरियों के निशाने पर

    एक समय ईसाई मिशनरियां जनजाति बहुल इलाकों में सक्रिय थीं, लेकिन अब वे उन इलाकों में भी सक्रिय हैं, जहां अनुसूचित जाति के लोग बड़ी संख्या में हैं।

Get in Touch

Back to Top