आप यहाँ है :

हिन्दी जगत
 

  • हिंदी कहावतों के रंग चोखे

    हिंदी कहावतों के रंग चोखे

    कहावत मानव-जीवन के अनुभवों की मार्मिक, सूत्रात्मक और सहज अभिव्यक्ति है। यह एक ऐसा सजीव और चुभता हुआ व्यावहारिक अनुभव-सूत्र है, जो जनमानस की देन और धरोहर है। वे सभी घटनाएं, जो मनुष्य के हृदय को आलोड़ित कर उसके स्मृति-पटल पर स्थायी रूप से अंकित हो जाती हैं, कालांतर में उसकी प्रखर बुद्धि के अवशेषों […]

  • काव्य गौरव अलंकरण के लिए देश के पाँच कवियों का चयन

    काव्य गौरव अलंकरण के लिए देश के पाँच कवियों का चयन

    धांसू, दांगी, त्रिपाठी, जैन और विराट को मिलेगा 19 को काव्य गौरव अलंकरण इंदौर। हिन्दी भाषा की वाचिक परम्परा से मातृभाषा उन्नयन संस्थान द्वारा पाँच कवियों में छिन्दवाड़ा से भुवन सिंह धाँसू, इंदौर से राकेश दांगी, तेलंगाना से श्रीमन्नारायण चारी विराट, भोपाल से डॉ. अंशुल जैन आराध्यम और नोएडा से श्रीमती पल्लवी त्रिपाठी का चयन […]

  • श्री  देवमणि पाण्डेय को  श्रुति संवाद सारस्वत साहित्य सम्मान प्रदान किया जाएगा

    श्री देवमणि पाण्डेय को श्रुति संवाद सारस्वत साहित्य सम्मान प्रदान किया जाएगा

    मुंबई। श्रुति संवाद साहित्य कला अकादमी, नई मुम्बई द्वारा दिया जाने वाला लब्ध प्रतिष्ठित ‘राजीव सारस्वत साहित्य सम्मान’ इस वर्ष कवि, गीतकार, लेखक देवमणि पांडेय को दिया जाएगा। इसके साथ ही उमाकांत बाजपेई (आजन्म हिन्दी सेवा) एवं डॉ. मुकेश गौतम (पर्यावरण) को सारस्वत सम्मान दिए जाने की घोषणा हुई है। संस्था अध्यक्ष अरविंद राही के […]

  • डॉ. राजपुरोहित व प्रो. द्विवेदी को वर्ष 2023 का हिन्दी गौरव अलंकरण

    डॉ. राजपुरोहित व प्रो. द्विवेदी को वर्ष 2023 का हिन्दी गौरव अलंकरण

    इंदौर । मातृभाषा उन्नयन संस्थान द्वारा वर्ष 2023 का हिन्दी गौरव अलंकरण डॉ. भगवतीलाल राजपुरोहित (उज्जैन) और प्रो. संजय द्विवेदी (नई दिल्ली) को प्रदान किया जाएगा। 19 फ़रवरी को इंदौर में अलंकरण समारोह आयोजित होगा। संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ ने बताया कि ‘अलंकरण का यह चौथा वर्ष है। हिन्दी के प्रचार […]

  • ’सृजन साहित्य सम्मान 2023 संपन्न’

    ’सृजन साहित्य सम्मान 2023 संपन्न’

    भुवनेश्वर।  स्थानीय तुलसी भवन में सृजन एजुकेशन ट्रस्ट, वडोदरा एवं मरुधर साहित्य ट्रस्ट के द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित  साहित्यिक सम्मान एवं काव्य गोष्ठी में उपस्थित मुख्य अतिथि राधेश्याम जी अग्रवाल ने कहा कि यह कार्यक्रम राष्ट्रीय स्तर से कम का नहीं है। वे स्थानीय साहित्यकारों की रचना सुनकर चकित थे, उन्होंने कहा कि साहित्यकार […]

  • ‘अंतरराष्ट्रीय भारतीय भाषा समारोह’का आयोजन

    नई दिल्ली। भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद्, केंद्रीय हिंदी संस्थान और भारतीय भाषा परिवार के संयुक्त तत्वावधान में अंतरराष्ट्रीय सहयोग परिषद् द्वारा ‘अंतरराष्ट्रीय भारतीय भाषा समारोह’ का आयोजन किया गया। भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद् के आजाद भवन सभागार में शुक्रवार, 13 जनवरी 2023 को यह कार्यक्रम आयोजित हुआ। भारतीय भाषाओं के बीच आपसी समन्वय बेहतर हो […]

  • महर्षि दयानंद सरस्वती ने हिंदी को नई पहचान दिलवाई

    महर्षि दयानंद सरस्वती ने हिंदी को नई पहचान दिलवाई

    भारतवर्ष के इतिहास में महर्षि दयानन्द पहले व्यक्ति हैं जिन्होंने अहिन्दी भाषी गुजराती होते हुए पराधीन भारत में सबसे पहले राष्ट्रीय एकता एवं अखण्डता के लिए हिन्दी को सर्वाधिक महत्वपूर्ण जानकर मन, वचन व कर्म से इसका प्रचार-प्रसार किया।  16 दिसम्बर, 1872 को स्वामीजी वैदिक मान्यताओं के प्रचारार्थ भारत की तत्कालीन राजधानी कलकत्ता पहुंचे थे […]

  • राष्ट्रभाषा हिन्दी और देवनागरी लिपि

    अपने विचारों को दूसरे तक प्रेषित करने में हमें भाषा की आवश्यकता पड़ती है। स्वामी दयानन्द जब धर्म प्रचार के क्षेत्र में आये तब उनके सामने यही समस्या थी कि वे किस भाषा के द्वारा अपने विचारों को अन्यों तक सम्प्रेषित करें। उनकी मातृभाषा गुजराती थी किन्तु उत्तर भारत में उससे विचारों के सम्प्रेषण में […]

  • हिंदी के सर्वनाश पर तुले थे गांधी

    #विश्व_हिन्दी_दिवस पर विशेष रूप से प्रकाशित आजादी के पूर्व 1937 में गांधीजी के आदेश पर देश मे धर्मनिरपेक्षता का पाठ पढ़ाने के लिए ‘वर्धा शिक्षा समिति’का पाठयक्रम तैयार किया। इस पाठ्यक्रम में अरबी,फारसी ,उर्दू और हिंदी को जोड़ कर एक नई भाषा तैयार की गई। जिसे “हिंदूस्तानी भाषा” का नाम दिया गया। इस भाषा मे […]

  • हास्य- व्यंग्य कवि हलीम आइना ने  हिंदी कविता को विश्व स्तर पर पहुंचाया

    हास्य- व्यंग्य कवि हलीम आइना ने  हिंदी कविता को विश्व स्तर पर पहुंचाया

    “जीवन भी इक व्यंग्य है, इस को पढ़ ले यार। जिस ने ख़ुद को पढ़ लिया, उसका बेड़ा पार।।” हास्य- व्यंग्य के इस दोहे के साथ शुरु करते हैं कवि हलीम आइना की साहित्यिक यात्रा की कहानी जिन्होंने हिंदी कविता को विदेशी प्रकाशनों में स्थान दिला कर विश्व स्तर तक पहुंचाया। गंभीर से गंभीर बात को […]

Get in Touch

Back to Top