Tuesday, June 25, 2024
spot_img
Homeकॉर्पोरेटआनंद महिंद्रा ने एक लाख रु. से 1400 करोड़ रु. कैसे कमाए

आनंद महिंद्रा ने एक लाख रु. से 1400 करोड़ रु. कैसे कमाए

आनंद महिंद्रा ने 1,00,000 लगाकर जिस कपंनी में भागीदारी की थी वो आज 1400 करोड़ की कंपनी हो गई है। कोटक महिंद्रा फाइनैंस लिमिटेड को सिडनी ए ए पिंटो और कोटक एंड कंपनी ने प्रमोट किया था। 1985 में एक लाख रुपये के कोटक ग्रुप में इनवेस्टमेंट से आज 1400 करोड़ की कंपनी बन गई। इसमें पिछले 32 साल से लगातार 40% की दर से वृद्धि हो रही है। कोटक महिंद्रा बैंक के एक्जीक्यूटिव वाइस चैयरमेन और मैनेजिंग डायरेक्टर उदय कोटक ने बताया कि कोटक ग्रुप के पुराने साथी और उद्योगपति आनंद महिंद्रा का कोटक ग्रुप में इनवेस्टमेंट एक अच्छा फैसला था। आनंद महिंद्रा ने ट्वीट किया कि उदय कोटक मेरे ऑफिस में आए और उन्होंने फाइनैंस के लिए ऑफर किया। उदय ने कहा कि अगर में इसमें इनवेस्ट करता हूं तो यह मेरा अच्छा फैसला होगा। कोटक महिंद्रा ग्रुप ने 1985 में कोटक कैपिटल मैनेजमेंट फाइनैंस लिमिटेड को शामिल किया था। कंपनी को सिडनी ए ए पिंटो और कोटक एंड कंपनी ने प्रमोट किया था। 1986 में हरीश महिंद्र और आनंद महिंद्रा ने कंपनी में हिस्सेदारी खरीदी। उसके बाद कंपनी का नाम कोटक महिंद्रा फाइनैंस लिमिटेड रखा गया। साल 2003 में कोटक महिंद्रा फाइनैंस कमर्शियल बैंक में बदल गया था।

अानंद महिंद्रा ट्विटर के जरिए अपनी बातों को लोगों के सामने रखते रहते हैं। एक बार ट्विटर पर किसी ने आनंद महिंद्रा को एक गाड़ी खरीदने की सलाह दे डाली थी। उस ट्वीट का आनंद ने जो जवाब दिया उसे सुनकर सब हैरान रह गए। आनंद महिंद्रा ने ट्विटर पर मजरैटी बर्डकैज की गाड़ी के बारे में ट्वीट करते हुए लिखा, यह एक ऐसा पिंजरा है जिसमें मैं कैद होकर रहने को तैयार हूं। यह गाड़ी इटली की डिजाइन और इंजीनियरिंग कंपनी पिनिफेनिया ने बनाई है। इसपर सिद्धांत खन्ना नाम के ट्विटर अकाउंट ने उन्हें सलाह देते हुए लिखा था, आनंद महिंद्रा, आपको उसे खरीदने से कौन रोक रहा है? जाइए और ले लीजिए। इसपर आनंद महिंद्रा ने खन्ना को लिखा, उसकी जगह हम लोगों ने कंपनी ही खरीद ली है।

दरअसल, महिंद्रा ग्रुप ने 14 दिसंबर 2015 को ही पिनिफैनिया कंपनी खरीद ली थी। खन्ना को इस बात की शायद जानकारी नहीं थी। इसको बाद आनंद महिंद्रा के ट्वीट पर कई तरह के जवाब आए। एक ने लिखा, ‘ट्विटर पर अबतक जितने लोगों के जवाबों को मैंने पढ़ा है, यह उसमें से सबसे शानदार था। इसके अलावा भी लोगों ने महिंद्रा की हाजिर जवाबी के लिए महिंद्रा की तारीफ की। एक ने राजपाल यादव का जिक्र करते हुए लिखा, राजपाल यादव का डायलॉग याद आ गया, आदमी के पास पैसा हो तो क्या नहीं कर सकता।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार