Thursday, April 18, 2024
spot_img
Homeपुस्तक चर्चाबाल साहित्य की रचना करना आसान नहीं- श्री माहेश्वरी

बाल साहित्य की रचना करना आसान नहीं- श्री माहेश्वरी

बाल कविता संग्रह ‘मेहेर’ का लोकार्पण

इन्दौर। वरिष्ठ लेखिका प्रेम मंगल की बाल कविताओं के संग्रह मेहेर का लोकार्पण क्षेत्रीय कार्यालय जीपीओ सभागार में हुआ।

संस्मय प्रकाशन द्वारा आयोजित पुस्तक विमोचन व सम्मान समारोह में मुख्य अतिथि पोस्ट मास्टर जनरल बृजेश कुमार जी ने कहा कि ‘आज के दौर में बच्चों के लिए और ज़्यादा रचनाएँ लिखने की ज़रूरत है। साहित्य समाज का मार्गदर्शन करता है।’

कार्यक्रम की अध्यक्षता देवपुत्र के कार्यकारी संपादक श्री गोपाल माहेश्वरी ने की, उन्होंने कहा कि ‘भारत में कवि परंपरा ऋषि परम्परा है, जो मनुष्य है, जो भाव युक्त है उसके भीतर कवित्व मौजूद है। बाल साहित्य पढ़ने में भले आसान लगता है किन्तु इसकी रचना करना कठिन होता है।’

विशेष अतिथि सहायक निदेशक (डाक) श्री राजेश कुमावत ने अपने वक्तव्य में कहा कि ‘कवि शब्द शिल्पी होता है, जो कल्पना से मूर्ति गढ़ता है।’

विमोचन उपरांत प्रकाशन द्वारा लेखिका प्रेम मंगल को दीया मेरी भावना पुस्तक के लिए ‘संस्मय सम्मान 2022’ से सम्मानित किया गया।

कार्यक्रम का संचालन व स्वागत वक्तव्य मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अर्पण जैन अविचल ने दिया एवं आभार वरिष्ठ साहित्यकार रमेश चंद्र शर्मा ने माना।

आयोजन में वरिष्ठ साहित्यकार रविन्द्र पहलवान, वरिष्ठ पत्रकार मुकेश तिवारी, जेपी बजाज, प्रकाश दुबे, दिनेश डोंगरे, मणिमाला शर्मा, जसमीत भाटिया, अतुल तिवारी, सुषमा पटेल, जयश्री राघवेंद्र, श्रीनिवास जोशी, उमेश नीमा, प्रेम बागोरा आदि मौजुद रहे।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार