आप यहाँ है :

देश में अनुकरणीय होगीदेवनारायण नगर आवासीय योजना–धारीवाल

कोटा । नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल ने रविवार को कोटा में देवनारायण नगर एकीकृत पशुपालक आवासीय योजना के द्वितीय चरण में आवेदन प्राप्त करने की पुस्तिका का विमोचन किया। इस अवसर पर महापौर कोटा उत्तर मंजू मेहरा, दक्षिण राजीव अग्रवाल, उप महापौर पवन मीणा, विशेषाधिकारी यूआईटी आरडी मीणा, सचिव राजेश जोशी, यूआईटी के पूर्व अध्यक्ष रविन्द्र त्यागी, मुख्य अभियंता ओपी वर्मा उपस्थित थे।

नगरीय विकास मंत्री धारीवाल ने बताया कि योजना के दूसरे चरण में 29 जनवरी से आवेदन पत्रों की बिक्री शुरू हो जयेंगी और आवेदन 26 फरवरी तक जमा कराए जा सकते हैं। उन्होंने बताया कि योजना में रियायती दरों पर 555 आवास मय पशु बाड़ा तथा भूसा गोदाम,डेयरी एवं अन्य व्यावसायिक दूकानों हेतु भू-खण्डों के आवंटन हेतु आवेदन प्राप्त किये जायेंगे।
पूरे शहर को मिलेगा लाभ

स्वायत्त शासन मंत्री ने कहा कि पशुपालकों के लिये प्रदेश में पहली बार बनाई गई आवासीय योजना सम्पूर्ण देश के लिये अनुकरणीय साबित होगी। इस योजना के पूरा होने से पशुपालकों के साथ-साथ सम्पूर्ण कोटा के नागरिकों को भी लाभ मिलेगा। कोटा शहर आवारा पशु मुक्त होगा जिससे दुर्घटनाओं में कमी आएगी।

नगरीय विकास मंत्री ने बताया कि शहर के पशुपालक सम्मानजनक जीवन जी सकें, सड़कों पर पशुओं के कारण होने वाली दुर्घटनाओं में लोग मौत के शिकार और अपाहिज नहीं हो और पर्यावरण भी दूषित नहीं हो इसी सोच के साथ यह योजना शुरू की गई है। योजना से इन समस्याओं से निजात मिलेगी।
यह है योजना

नगरीय विकास मंत्री ने बताया कि योजना में 300 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है। कोटा से 7 किमी.दूर दक्षिण कोटा बाईपास पर राजस्व गाँव धर्मपुरा की 108 हेक्टेयर भूमि पर योजना का क्रियान्वयन शुरू किया जा चुका है। योजना परिसर में प्रवेश के लिये सिंहद्वार बनाया जायेगा।पशुपालकों के लिए आवास मय शेड, गोदाम, हाट बाजार,मानव एवं पशु चिकित्सालय, स्कूल, डेयरी उत्पाद बेचने का स्थान, सामुदायिक शौचालय एवं मेला ग्राउंड, रंगमंच,पानी, बिजली, अंडर ग्राउंड ,सामुदायिक सुविधा केंद्र एवं आकर्षक सर्किल आदि सुविधाएँ प्रदान की जयेंगी। योजना में मय रंगमंच पशुमेला ग्राउण्ड भी बनाया जाएगा। योजना में 20 हैक्टेयर क्षेत्र में सघन वृक्षारोपण तथा प्रत्येक घर के आगे दो पौधे लगाये जाएंगे।
हर घर में पहुंचेगी गैस

धारीवाल ने बताया कि देवनारायण आवासीय योजना में गोबर गैस का बड़ा प्लान्ट स्थापित किया जा रहा है जिसमें स्थानीय पशुपालकों से एक रूपये प्रति किलो की दर से गोबर खरीदा जायेगा, जिसका एसएमएस पशुपालक के मोबाइल पर सीधा आएगा। गोबर गैस का उपयोग घरों में रसोई व रोशनी के लिये भी किया जा सकेगा। जिसकी सप्लाई हर घर में सीधी होगी।

न्यास सचिव राजेश जोशी ने बताया कि आवेदन पत्र एवं पुस्तिका का शुल्क 100 रुपये हैं। आवेदन आई सी आई सी आई बैंक की कोटा स्थित किसी भी शाखा से प्राप्त किये जा सकते हैं। योजना के प्रथम चरण में 360 आवेदन प्राप्त हो चुके हैं। योजना में 1100 से अधिक आवास निर्माण का प्रावधान किया गया है। योजना में आवेदकों को शिविर लगा कर ऋण उपलब्ध कराने के लिये आवेदन तैयार कराये जा चुके हैं।

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top