Saturday, March 2, 2024
spot_img
Homeश्रद्धांजलिश्रीमती प्रसन्ना भंडारी का देवलोक गमन

श्रीमती प्रसन्ना भंडारी का देवलोक गमन

कोटा/ कोटा की मदर टेरेसा प्रसन्ना भंडारी आज हम सब को छोड़ कर देवलोक गमन कर गई हैं।छोटा हो या बड़ा कोई भी जब उनसे मिलता है तो उन्हें मम्मी ही कहता है। उन्होंने अपनी उम्र का लंबा समय बच्चों की सेवा में दिया, उन बच्चों को जिन्हें उनके अपने छोड़ गए। श्रीकरनी नगर विकास समिति की पहचान स्थापित करने वाली समाजसेविका ने करीब 3000 से ज्यादा बच्चों की जिंदगी को उन्होंने संवारा। वर्ष 1960 में उन्होंने ने चिल्ड्रन होम शुरू किया था। अब तक 6 से 18 साल के 2000 बच्चे उनके पास आ चुके हैं।

वही अब तक 980 नवजात उनके पास आ चुके। ये सभी वो नवजात बच्चे थे जिन्हें जन्म के बाद इधर उधर फेंक दिया गया था। आज इन्हीं में से ज्यादातर बच्चे अच्छे घरों में गोद जा कर परवरिश पा रहे हैं। इनमें करीब 200 से ज्यादा बालिकाएं भी थी। उन्होंने 6 से 18 साल तक की उम्र के आने वाले बच्चों की पढ़ाई का भी ध्यान रखा। इनमें से कई आज डॉक्टर, कांट्रेक्टर है तो कई खुद का काम कर रहे हैं। वहीं 48 बालिकाओं का 18 साल की उम्र होने के बाद शादी का जिम्मा भी प्रसन्ना भंडारी ने उठाया। इन बच्चियों की पढ़ाई लिखाई करवा कर इनकी शादी करवाई।

वृद्धाश्रम और बेसहारा महिलाओंको आश्रय सहित कई सामाजिक गतिविधियां चला रही थी। प्रसन्ना भंडारी को मिले कई पुरस्कारों में राष्ट्रपति द्वारा उन्हें बाल कल्याण सेवाओं के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार प्रमुख रहा।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार