आप यहाँ है :

भारतीय भाषाओं के माध्यम से शिक्षा की सफलता के लिए जरूरी है भारतीय भाषाओं से बढ़े रोजगार के अवसर

(भारतीय भाषाओं में चिकित्सा शिक्षा के प्रारंभ के अवसर पर वैश्विक ई-संगोष्ठी-(गोष्ठी में विशेष रूप से शामिल हुए जापान के विद्वान तोमियो मिजोकामी)

इंदौर/दिल्ली। रविवार 16 अक्टूबर को भारत के गृह मंत्री अमित शाह भोपाल में हिंदी माध्यम से चिकित्सा शिक्षा की पुस्तकों का विमोचन कर भारतीय भाषाओं के माध्यम से चिकित्सा शिक्षा का मार्ग प्रशस्त करने जा रहे थे, उसकी पूर्व संध्या पर वैश्विक हिंदी सम्मेलन तथा हिंदीभाषा डॉट कॉम द्वारा वैश्विक ई-संगोष्ठी का आयोजन किया गया।
संगोष्ठी का प्रारंभ करते हुए दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रोफ़ेसर डॉ. निरंजन कुमार ने महात्मा गांधी के मातृभाषा में शिक्षा संबंधी विचारों को उद्धृत करते हुए कहा कि, अपनी भाषा में शिक्षा का अर्थ यह नहीं है कि हम अंग्रेजी या किसी अन्य भाषा के विरोध में हैं, लेकिन ये भाषाएँ हमारी भाषाओं का स्थान नहीं ले सकती।

विषय प्रवर्तन और संगोष्ठी का संचालन कर रहे वैश्विक हिंदी सम्मेलन के निदेशक डॉ. मोतीलाल गुप्ता ‘आदित्य’ की मौजूदगी में भोपाल स्थित अटल बिहारी वाजपेयी हिंदी विश्वविद्यालय के संस्थापक व पूर्व कुलपति डॉ. मोहनलाल छीपा ने बताया कि किस प्रकार उन्होंने अभियांत्रिकी व चिकित्सा शिक्षा हिंदी में दिए जाने के लिए निरंतर प्रयास किए, और पाठ्य सामग्री तैयार करने के लिए आधारित सामग्री उपलब्ध करवाई। उन्होंने कहा कि, 16 अक्टूबर का दिन उनके जीवन का एक ऐतिहासिक दिन है, जब उनका सपना पूरा होने जा रहा है।

गोष्ठी में विशेष रूप से शामिल हुए जापान के विद्वान तोमियो मिजोकामी से डॉ. गुप्ता ने कहा कि भारत में यह बड़ी अजीब स्थिति है कि इस विषय पर चर्चा करनी पड़ेगी कि अपनी भाषा में पढ़ाई क्यों और कैसे हो ? उनका कहना था कि अपनी भाषा में शिक्षा तो एक स्वाभाविक प्रक्रिया है। यदि अंग्रेजी भाषा का ज्ञान-विज्ञान होता तो जापान उपलब्धियां हासिल नहीं कर सकता था। अमेरिका के बाद सर्वाधिक 28 नोबेल पुरस्कार जापान द्वारा ही जीते गए हैं, और इनमें 25 शोधकर्ता ऐसे थे जिनकी शिक्षा मातृभाषा के माध्यम से हुई थी। उनमें से कई ने नोबेल पुरस्कार प्राप्त करते हुए कहा कि, उन्हें अंग्रेजी नहीं आती। उन्होंने कहा कि हम चाहते हैं कि भारत भी नोबेल पुरस्कार जीते और भारत ऐसा कर सकता है। नोबेल पुरस्कार के मंच पर भारत का वैज्ञानिक अपनी बात हिंदी भाषा में रखें।

पुणे से संगोष्ठी में उपस्थित मराठी भाषा सेनानी और गणित शिक्षक अनिल गोरे ने कहा कि महत्वपूर्ण बिंदु वह है जो डॉ. गुप्ता ने रखा है कि हम भारतीय भाषाओं में शिक्षा की मांग को कैसे आगे बढ़ाएँ। उन्होंने कहा कि मातृभाषा से पढ़ने वाले विद्यार्थियों से यह पूछा जाना चाहिए कि वह किस भाषा में उच्च शिक्षा पाना चाहते हैं ?
ऑस्ट्रेलिया के विश्वविद्यालय में अभियांत्रिकी प्रबंधन के विभागाध्यक्ष प्रो. सुभाष शर्मा ने कहा कि उनकी स्कूली शिक्षा पूरी तरह हिंदी माध्यम से हुई थी। प्रारंभ से ही उनका रुझान हिंदी की तरफ अधिक होने से बहुत अच्छी अंग्रेजी नहीं बोल पाते थे। तब उनके प्रोफेसरों ने कहा था कि हम इनको अंग्रेजी के कारण महत्व नहीं देते, बल्कि इनकी विशिष्ट व वैज्ञानिक सोच को महत्व देते हैं। महत्वपूर्ण किसी भाषा का ज्ञान नहीं, बल्कि नई मौलिक सोच होती है। उन्होंने कहा कि अंग्रेजी पढ़ना गलत नहीं है, हमें अंग्रेजी या अन्य विदेशी भाषाओं का भी ज्ञान होना चाहिए। लिखित शिक्षा का माध्यम तो अपनी भाषा ही होनी चाहिए।

गुजरात से जुड़े प्रतिभागी चिराग पटेल ने हिंदी माध्यम से प्रदान की जाने वाली शिक्षा का स्वागत करते हुए कहा कि, जब गुजरात में गुजराती माध्यम से अभियांत्रिकी की शिक्षा शुरू की गई तो 400-500 सीट होने के बावजूद भी केवल 1 विद्यार्थी ने ही प्रवेश लिया था। उनका कहना था कि आवश्यकता इस बात की है कि, भारतीय भाषाओं में शिक्षा के लिए मांग उत्पन्न न की जाए।

वैश्विक हिंदी सम्मेलन के उपाध्यक्ष निर्मल पाटोदी ने कहा कि, मोदी जी को चाहिए कि वे मध्यप्रदेश की तर्ज पर अन्य भाजपा शासित राज्यों में भी राज्यों की भाषा में उच्च शिक्षा प्रारंभ करें।

प्रभावी संचालन करते हुए वैश्विक हिंदी सम्मेलन के निदेशक डॉ. गुप्ता ने कहा कि यदि सरकार द्वारा भारतीय भाषाओं के माध्यम से उच्च शिक्षा के साथ-साथ भारतीय भाषाओं के माध्यम से पढ़ने वाले विद्यार्थियों के रोजगार की व्यवस्था नहीं की जाती है, तो यह कहना कठिन है कि यह प्रयास किस हद तक सफल हो सकेगा। डॉ. गुप्ता ने सुझाव दिया कि सरकार द्वारा न केवल सरकारी नौकरियों में इन्हें प्राथमिकता दी जाए, बल्कि निजी क्षेत्र को भी इन्हें प्राथमिकता के आधार पर नौकरी देने के लिए प्रोत्साहित किया जाए।

संगोष्ठी में सुप्रसिद्ध चिकित्सक मनोहर लाल भंडारी, संक्रांति सानू जैसे विद्वानों ने भी श्रोता के रूप में सहभागिता की। संगोष्ठी में शामिल श्रोताओं में हिंदीभाषा डॉट कॉम के रचनाशिल्पी प्रो. डॉ. शरद नारायण खरे, श्रीमती आशा जाखड़, श्रीमती मनोरमा जोशी ‘मनु’ सहित असद खान व श्रीमती अर्चना पंडित ने भी विचार प्रस्तुत किए। संगोष्ठी में पोर्टल की उप-सम्पादक श्रीमती अर्चना जैन की सक्रिय उपस्थिति में अनेक राज्यों-शहरों से श्रोतागण भी जुड़े और हिंदी की महती जानकारी प्राप्त की।

वैश्विक संगोष्ठी का संयोजन और आभार हिंदीभाषा डॉट कॉम के संस्थापक-सम्पादक अजय जैन ‘विकल्प’ द्वारा व्यक्त किया गया। स्वागत संबोधन एवं पोर्टल की संयोजक एवं पत्रकारिता अध्ययनशाला (देअविवि, इंदौर) की विभागाध्यक्ष डॉ. सोनाली नरगुंदे ने किया।

साभार- वैश्विक हिंदी सम्मेलन, मुंबई
[email protected]

image_pdfimage_print


Get in Touch

Back to Top