Thursday, February 22, 2024
spot_img
Homeअजब गज़बराम और दशरथजी को मुआवजा देने के लिए 6 महीने तक भटकते...

राम और दशरथजी को मुआवजा देने के लिए 6 महीने तक भटकते रहे अधिकारी

ब्यावरा। अब तक आपने सुना होगा कि प्रभावित लोग मुआवजा पाने के लिए प्रशासनिक अफसरों के चक्कर काटते फिरते हैं लेकिन यहां मामला कुछ अलग है। मध्य प्रदेश के ब्यावरा और राजगढ़ के बीच बन रहे मोहनपुरा डेम के डूब क्षेत्र में आ रही मांडाखेड़ा गांव में बने मंदिर की जमीन को अधिग्रहित करने के लिए प्रशासन आठ महीने से भगवान श्रीराम पिता दशरथ जी महाराज को छह लाख का मुआवजा देने भटक रहा है।

मंदिर की जमीन के मालिक का अता-पता नही होने पर अब प्रशासन ने इस मुआवजा राशि को धर्मस्व विभाग के खाते में जमा कराने का निर्णय लिया है। मंदिर को हटाने के लिए राजगढ़ एसडीएम ने भगवान श्रीरामचंद्र पिता दशरथ जी महाराज के नाम से सात अप्रैल 2015 को नोटिस जारी किया था। नोटिस में स्पष्ट तौर पर लिखा गया था कि श्री रामचंद्र पिता दशरथ जी महाराज मोहनपुरा डैम के लिए आपकी भूमि अधिग्रहित की गई है।

जमीन के बदले में आपको शासन की ओर से छह लाख रूपए का मुआवजा दिया जाएगा। यदि क्षतिपूर्ति के संबंध में आपकी कोई आपत्ति है तो राजगढ़ के एसडीएम कार्यालय में आकर शिकायत दर्ज कराएं। यदि आप निर्धारित तारीख को उपस्थित नहीं हुए तो बाद में आपको कोई भुगतान नहीं किया जाएगा। राजस्व विभाग के अफसर यह नोटिस लेकर आठ महीने में कई बार मंदिर में पहुंचे लेकिन वहां इस नोटिस को लेेने वाला भू-स्वामी नहीं मिला।

मालूम हो कि करीब 42 गांव की जमीन, मकान व अन्य धार्मिक स्थान डूब में आ रहे हैं। डूब क्षेत्र में राजगढ़ तहसील का एक गांव मांडाखेड़ा भी शामिल है। यहांं स्थित 32 वर्ष पुराना भगवान श्रीराम का मंदिर व उसकी लगभग आठ बीघा जमीन भी डूब में आ रही है।

सात अप्रैल को जारी हुआ नोटिस, तामील अब तक नहीं:

यह नोटिस राजस्व विभाग ने सात अप्रैल को जारी किया। लेकिन नोटिस लेने वाला कोई नहीं था। चूंकि प्रशासन को मुआवजा प्रक्रिया पूर्ण करनी थी, इसलिए अब यह तय किया गया है कि छह लाख की मुआवजा राशि धर्मस्व विभाग के खाते में जमा करा दी जाए। वहीं इस मंदिर की देखरेख कर रहे पुजारी मुरलीधर पिता भंवरलाल शर्मा ने बताया कि मंदिर की स्थापना किसी अन्य स्थान पर कराई जानी चाहिए।

मुआवजा धर्मस्व विभाग के खाते में जमा कराएंगे:

मंदिर की जमीन का मुआवजा अब धर्मस्व विभाग के खाते में जमा करने का निर्णय लिया गया है। जहां तक पुजारी को भूमि आवंटन का सवाल है, इसमें नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी। कमलेश भार्गव, एसडीएम राजगढ़

साभार- http://naidunia.jagran.com/ से

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार