आप यहाँ है :

भारत विकास परिषद के सहयोग से गोडवाड़ में पर्यावरण संरक्षण एवं वृक्षारोपण अभियान

पाली। देश के विकास को समर्पित राष्ट्रीय संस्था भारत विकास परिषद की फालना – बाली शाखा के तत्वाधान में फालना के नोबल स्कूल में गुरु वंदन व छात्र अभिनंदन समारोह के आयोजन अवसर पर गोडवाड़ पर्यावरण विकास समिति की ओर से वृक्षारोपण कार्यक्रम का आयोजन हुआ। गोडवाड़ में जल संरक्षण व पर्यावरण विकास के लिए कार्य कर रही पर्यावरण सेवी श्रीमती ज्योति मुणोत के हाथों भारत विकास परिषद के कार्यक्रम में वृक्षारोपण के जरिए गोडवाड़ को हरा भरा बनाने की दिशा में नई पहल को आगे बढ़ाया गया। भारत विकास परिषद की फालना – बाली शाखा के अध्यक्ष सुरेश अग्रवाल के सानिध्य में यह आयोजन हुआ, जिसमें साकेत देव एवं कार्यक्रम प्रभारी गोपाल पारीक की भी विशेष भूमिका रही।

नोबल स्कूल में गोडवाड पर्यावरण विकास समिति की संयोजक श्रीमती ज्योति मुणोत ने वृक्षारोपण अवसर पर कहा कि गोडवाड के लोग अपने इलाके को हरा भरा बनाने के लिए उत्साह से सहयोग दे रहे है, इसीलिए वे भी उत्साह से काम कर पा रही है। यहां जल संरक्षण व पर्यावरण के लिए कई सामाजिक संस्थाओं का विभिन्न ट्रस्ट मंडलों का सहयोग मिल रहा है। गोडवाड पर्यावरण विकास समिति की संयोजक श्रीमती ज्योति मुणोत ने भारत विकास परिषद व नोबल स्कूल के संचालकों का आभार जताते हुए कहा कि गोडवाड़ में जल संरक्षण व पर्यावरण के इस काम में सभी का सहयोग अपेक्षित है। इस अवसर पर नगरपालिका उपाध्यक्ष मुकेश अग्रवाल एवं फालना उद्योग मंडल डायरेक्टर बहादुर सिंह खालसा सहित कई सामाजिक, सांस्कृतिक, शिक्षा, तथा स्वयंसेवी संस्थाओं सहित भारत विकास परिषद आदि संस्थाओं के पदाधिकारी व कार्यकर्ता गण उपस्थित थे। नोबल स्कूल के डायरेक्टर अनंत नारायण सिंह ने सभी आगंतुक मेहमानों का धन्यवाद ज्ञापित किया एवं मंच संचालन प्रवीण वैष्णव ने किया।

उल्लेखनीय है कि गोडवाड़ इलाके में पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में पर्यावरण सेवी किशोर खीमावत की तरफ से लगाए गए सड़क किनारे करीब 15 लाख पेड़ लगाए गए थे, तथा उनकी मृत्यु के दशक भर बाद भी उनके परिवार द्वारा पर्यावरण सेवा का यह कार्य जारी है। पर्यावरण विकास समिति की संयोजक ज्योति मुणोत ने कहा कि गोड़वाड़ की धरती पर लाखों पेड़ इसके गवाह हैं कि खीमावत ने किस समर्पण के साथ गोडवाड़ की सेवा की। वैसे ही समर्पण के साथ हमें भी गोड़वाड़ की सेवा करनी है, ताकि आने वाली पीढ़ियां अच्छी हवा में सांस ले सके। ज्ञात हो कि गोडवाड़ इलाके में जल संरक्षण के क्षेत्र में भी प्रवासी राजस्थानी समाज द्वारा उल्लेखनीय कार्य किया जा रहा है, जिसमें सादड़ी निवासी घीसुलाल बदामिया परिवार की प्रशंसा करते हुए ज्योति मुणोत ने कहा कि सेलो ग्रुप के प्रदीप राठौर व संगीता राठौर भी वह महत्वपूर्ण कार्य कर रहे हैं, जिसकी गोडवाड़ के किसानों को बेहद जरूरत है। उन्होंने भारत विकास परिषद व नोबल स्कूल के संचालकों का पर्यावरण के क्षेत्र में सहयोग हेतु आभार जताया।

image_pdfimage_print


Get in Touch

Back to Top