Wednesday, May 29, 2024
spot_img
Homeदुनिया भर कीलोकसभा अध्यक्ष ने विधान मंडलों के अध्यक्षों से किया वर्चुअल संवाद

लोकसभा अध्यक्ष ने विधान मंडलों के अध्यक्षों से किया वर्चुअल संवाद

कोटा। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि कोरोना महामारी के खिलाफ वैक्सीनेशन ही सबसे मजबूत कवच है। अन्तरराष्ट्रीय योग दिवस से केंद्र एवं राज्य सरकारों ने देश भर में सभी आयु वर्ग के लोगों के लिए वैक्सीनेशन अभियान को वृहद स्वरूप दिया है। ऐसे में देश की सभी लोकतांत्रिक संस्थाओं को भी आगे आकर इस अभियान को मजबूत बनाने में अपनी भूमिका चाहिए। वे मंगलवार को देश भर के विधानमंडलों के अध्यक्षों से वर्चुअल संवाद कर रहे थे।

बिरला ने कहा कि लोकतांत्रिक संस्थाओं और उनमें निर्वाचित जनप्रतिनिधियों का आमजन से सीधा जुड़ाव होता है। कोविड के दौरान राहत कार्यों का नेतृत्व कर जनप्रतिनिधियों ने इस जुड़ाव को और मजबूत किया है। अब जब कोरोना की दूसरी लहर लगभग नियंत्रित हो चुकी है, ऐसे में जनप्रतिनिधियों का दायित्व है कि वे संभावित तीसरी लहर को सच्चाई नहीं बनने दें।

उन्होंने कहा कि तीसरी लहर को रोकने और कोरोना से देश की जनता की रक्षा का सर्वश्रेष्ठ माध्यम वैक्सीनेशन ही है। इसको देखते हुए संसद, विधानसभाएं, जिला परिषदें, पंचायत समितियों और ग्राम पंचायतों के सदस्य अपनी जिम्मेदारी निभाने के लिए आगे आए और लोगों को जल्द से जल्द वैक्सीनेशन करवाने के लिए प्रोत्साहित करें।

बिरला ने कहा कि इसी के साथ हमें वैक्सीनेशन के प्रति आमजन के मन में जो शंकाएं और भ्रम हैं, उनको भी दूर करना होगा। जनता का जनप्रतिनिधि पर विश्वास होता है। जनप्रतिनिधि उन्हें बताएं कि वैक्सीनेशन पूरी तरह सुरक्षित है और कोरोना के खिलाफ सबसे सशक्त माध्यम है।

*दो वर्ष के अनुभव किए साझा*
इस दौरान बिरला ने विधानमंडलों के अध्यक्षों और प्रतिनिधियों से लोकसभा अध्यक्ष के रूप में दो वर्ष के कार्यकाल के अनुभव भी साझा किए। बिरला ने उन्हें बताया कि लोकसभा में सदन के नेता प्रधानमंत्री और सभी दलों के नेताओं के सामूहिक प्रयासों से कार्य उत्पादकता बढ़ी तथा विषयों व विधेयकों पर चर्चा की गुणवत्ता में अभिवृद्धि हुई। सदन में सभी दलों के नेताओं को अपनी बात रखने के पर्याप्त समय व अवसर उपलब्ध करवाए गए जिससे जनभावनाओं की सदन में सशक्त अभिव्यक्ति हो सकी। इस दौरान पांचों सत्रों में सदन ने 122.2 प्रतिशत उत्पादकता हासिल की और 107 विधेयक पारित किए जो पिछली लोकसभाओं की तुलना में कहीं अधिक है।

*लोकतांत्रिक संस्थाओं को बनाएं सशक्त*
इस अवसर पर बिरला ने सभी विधान मंडलों के अध्यक्षों और प्रतिनिधियों से लोकतांत्रिक संस्थाओं को सशक्त व मजबूत बनाने का आव्हान किया। बिरला ने कहा कि हमें देश की जनता विशेषकर युवाओं को संवैधानिक मूल्यों से रूबरू करवाना होगा। कोरोना के चलते फिजिकल कार्यक्रम संभव नहीं हैं, लेकिन इसके लिए ऑनलाइन प्लेटफार्म और तकनीक का भरपूर उपयोग किया जाए।

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि कोरोना के दौरान कई ऐसे बच्चे हैं जिन्होंने अपने माता-पिता या परिवार की आय अर्जित करने वाले सदस्य को खो दिया। हमें ऐसे बच्चों को सहारा देना है। हम सामूहिक प्रयासों से ऐसे बच्चों की शिक्षा कौशल प्रशिक्षण तथा विवाह योग्य बेटियों के कन्यादान की व्यवस्था करें। कोटा में ऐसे बच्चों की स्कूलों में निशुल्क शिक्षा व्यवस्था तथा कोचिंग संस्थानों में निशुल्क कोचिंग में आवास की व्यवस्था की गई है। विधान मंडलों के अध्यक्ष भी अपने-अपने राज्यों में इस तरह के प्रयास करें

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार