Sunday, May 19, 2024
spot_img
Homeटेली गपशपनए साल में डिस्कवरी के नए चैनल आएंगे

नए साल में डिस्कवरी के नए चैनल आएंगे

अमेरिकी ब्रॉडकास्टर ‘डिस्कवरी कम्युनिकेशंस’ साल 2018 में भारत में चार नए डिजिटल चैनल शुरु करने की योजना बना रहा है। इसके लिए ब्रॉडकास्टर ने विडियो स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म यूट्यूब (YouTube), रिलायंस जियो (Reliance Jio) और वोडाफोन प्ले (Vodafone Play) के साथ साझेदारी की है। गुरुवार को ब्रॉडकास्टर ने इसकी घोषणा की।

डिस्कवरी अपने इन नए चैनलों के जरिए चार आला विषयों- सैन्य, ऑटोमोटिव, फूड और वुमेन इम्पॉवर्मेंट पर समर्पित विडियो कंटेंट और प्रोग्रामिंग पर फोकस करेगा। इस कदम का उद्देश्य कंपनी के रेवन्यू के लिए एक नया दरवाजा खोलने के साथ-साथ डिस्कवरी का विस्तार करना है, ताकि उसकी 21 मिलियन वीकली व्यूअर्स की संख्या तीन गुनी होकर करीब 60 मिलियन हो जाए।

कंपनी 2018 के पहली तिमाही में दो डिजिटल चैनल- डिस्कवरी द्वारा ‘वीर’ (VEER) औक टीएलसी द्वारा ‘राइज’ (RISE) चैनल को लॉन्च करेगी। भारत में इन चैनलों पर 100 घंटे से अधिक की फ्रेश प्रोग्रामिंग पेश करने की उम्मीद है। इन दोनों चैनलों पर विज्ञापन भी प्रसारित किए जाएंगे। चैनलों पर मिड-फॉर्म और शॉर्ट-फॉर्म के कंटेंट (15 मिनट से अधिक नहीं) उपलब्ध कराए जाएंगे।

‘वीर’ चैनल सेना पर आधारित चैनल होगा, जो 26 जनवरी को शुरू किया जाएगा। यह ब्रेकिंग प्वाइंट फ्रैंचाइजी का प्रमुख केंद्र होगा, जो भारतीय वायु सेना, थल सेना और नौ सेना के प्रमुख प्रशिक्षण संस्थानों से जुड़ा होगा। इसमें भारत के प्रमुख सेना ऑपरेशन और महिला लड़ाकू पायलटों पर आधारित कार्यक्रम भी होंगे। वहीं चैनल ‘राइज’ महिलाओं से संबंधित कंटेंट उपलब्ध कराएगा।

डिस्कवरी कम्युनिकेशंस इंडिया में उपाध्यक्ष (प्रीमियम तथा डिजिटल नेटवर्क) जुल्फिया वारिस कहती हैं, ‘डिस्कवरी के माध्यम से ‘वीर’ और टीएलसी के जरिए ‘राइज’ चैनल को शुरू करने से हमें भारत का नंबर वन मोबाइल कंटेंट ब्रैंड बनने में आसानी होगी।’

वर्तमान में, डिस्कवरी कम्युनिकेशंस 12 एंटरटेनमेंट चैनल का प्रसारण करता है, जिनमें ‘डिस्कवरी चैनल’, ‘टीएलसी’, ‘एनिमल प्लैनेट’, ‘डिस्कवरी एचडी वर्ल्ड’, ‘डिस्कवरी साइंस’, ‘डिस्कवरी टर्बो’, ‘डिस्कवरी किड्स’ आदि शामिल हैं। वहीं इसके अतिरिक्त एक स्पोर्ट्स चैनल डीस्पोर्ट को भी संचालित करता है।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार