ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

समाज को हमारी आवश्यकता, समर्पित होकर करें सेवा-लोकसभा अध्यक्ष बिरला

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि यह समय काफी कठिन है और अभी समाज को हमारी आवश्यकता है। हम समर्पित भाव से कोविड मरीजों की सेवा व सहायता करें। बीमारी के लक्ष्ण दिखाई देने पर उन्हें तत्काल उपचार दिलवाएं। वे शनिवार को लाडपुरा क्षेत्र के सामाजिक कार्यकर्ताओं और प्रबुद्धजन से बात वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए संवाद कर रहे थे।

बिरला ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर पहली लहर से अधिक संक्रामक है। यह मरीजों के स्वास्थ्य को नुकसान भी अधिक पहुंचा रही है। ग्रामीण क्षेत्रों में बड़ी संख्या में लोगों को संक्रमित होना चिंताजनक है। हमें लोगों में जनजागरण कर उन्हें इस बीमारी से बचने के लिए जागरूक करना होगा। हमारा प्रयास होना चाहिए कि ग्रामीण क्षेत्रों में भी प्रत्येक कोविड गाइडलाइन की सख्ती से पालना करे, मास्क पहने और सामाजिक दूरी की पालना करे।

बिरला ने कहा कि लोगों के स्वास्थ्य की रक्षा के लिए हमें प्रत्येक गांव में 3 से 5 स्वास्थ्य कोरोना योद्धा सैनिकों की टीमों का गठन भी करना है। यह सैनिक मरीजों को उचित उपचार प्राप्त करने में तो सहायता करेंगे ही, लोगों को कोविड से बचने के लिए भी प्रेरित करेंगे।

बिरला ने कहा कि इन सैनिकों को वे पल्स आक्सीमीटर, डिजिटल थर्मोमीटर, मास्क और अन्य संसाधन उपलब्ध् करवाएंगे ताकि किसी मरीज में लक्ष्ण नजर आते ही वे तुरन्त उसकी जांच कर समुचित उपचार हासिल करने में मदद कर सकें।

*ब्लैक फंगस चुनौती, दवा की आवश्यकता*
इस अवसर पर लाडपुरा विधायक कल्पना देवी ने कहा कि ब्लैक फंगस के रूप में हमारे सामने एक ओर समस्या आ खड़ी हुई है। कठिनाई यह है कि इसकी दवा भी उपलब्ध नहीं हो रही है। उन्होंने लोकसभा अध्यक्ष बिरला से दवाओं की व्यवस्था का आग्रह किया। लोकसभा अध्यक्ष ने कहा कि ब्लैक फंगस की दवाओं के विषय में उनकी बात हो गई है। अगले कुछ दिनों में दवाएं आसानी से उपलब्ध हो जाएंगी।

*टैस्टिंग नहीं-वैक्सीनेशन भी नहीं*
संवाद के दौरान लोगों ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने ग्रामीण क्षेत्रों में टेस्टिंग नहीं होने की शिकायत की। लोगों ने कहा कि जांच सुविधा सिर्फ सीएचसी पर उपलब्ध हैं। वहां भी सीमित संख्या में टेस्ट किए जा रहे हैं। इससे सबकी जांच नहीं हो रही। 45 वर्ष से अधिक आयु के जिन लोगों को पहली डोज लग गई हैं वे अब दूसरी डोज के लिए परेशान हो रहे हैं। 18 से 44 वर्ष के उम्र के लोगों को तो वैक्सीनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन करवाना ही मुश्किल हो रहा है। लोकसभा अध्यक्ष ने कहा कि वे इसका समाधान करवाने का प्रयास करेंगे।
Attachments area

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top