Wednesday, May 29, 2024
spot_img
Homeपुस्तक चर्चापुस्तक “दी ट्राइस्ट बिट्रेड ; रिफ्लेक्शन्स ऑन डिप्लोमेसी एण्ड डेवलपमेंट” के पेपर...

पुस्तक “दी ट्राइस्ट बिट्रेड ; रिफ्लेक्शन्स ऑन डिप्लोमेसी एण्ड डेवलपमेंट” के पेपर बेक संस्करण का लोकार्पण

समय से  आगे सोचने वाले कूटनीतिज्ञ एवं भविष्य भांप लेने वाला दूरद्रष्टा थे जगत मेहता
 
उदयपुर 16 जुलाई, पूर्व विदेश सचिव पद्मभूषण स्व.  जगत मेहता के तिरानवे वे जन्मदिवस के अवसर पर उनकी लिखी  पुस्तक “दी ट्राइस्ट बिट्रेड ; रिफ्लेक्शन्स ऑन डिप्लोमेसी एण्ड डेवलपमेंट “के पेपर बेक संस्करण का लोकार्पण करते हुए उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की गयी।

कार्यक्रम में पूर्व भारतीय राजदूत टी पी श्रीनिवासन ने जगत मेहता को समय से  आगे तक सोचने वाला महान कूटनीतिज्ञ एवं भविष्य को भांप लेने वाला दूरद्रष्टा बतलाया। श्रीनिवासन ने कहा कि मेहता ने चालीस पचास वर्ष पूर्व जिस विश्व परिदृश्य की भविष्य वाणी की वह कालांतर में साकार होती गयी। सोवियत संघ के पतन से लेकर अमेरिका के साथ न्यूक्लियर संधि जैसे कई घटनाओ को मेहता वर्षो पूर्व भाप चुके थे। भारत के अमेरिका रूस चीन पाकिस्तान के साथ द्विपक्षीय सम्बन्धो में सुधार की प्रक्रिया का सूत्रपात जगत मेहता ने ही अपने विदेश सेवा काल में किया था।

श्रीनिवासन ने कहा कि भारतीय विदेशनीति के इतिहास में मेहता एक सृजनात्मक कूटनीतिज्ञ ,सत्य के प्रतिक तथा महान देश भक्त के रूप में सदा याद किये जाते रहेंगे। पंडित नेहरू से लेकर इंदिरा गांधी मोरारजी देसाई व चौधरी चरण सिंह  चार  प्रधान मंत्रियो एवं अटल बिहारी वाजपेयी जैसे विदेश मंत्री को महत्वपूर्ण सलाह देकर देश को आगे बढ़ाने  में मेहता की प्रमुख भूमिका रही।

कार्यक्रम में इंडियन एक्सप्रेस की पूर्व वरिष्ठ एडिटर व प्रसिद्द  पत्रकार पामेला फिलिपोस ने कहा कि मेहता ने सहिष्णुता ,समानता,तथा आम आदमी  आम औरत की सर्वांगीण प्रगति के लिए आजीवन कार्य किया। वे समग्र विकास ,शिक्षा के प्रसार तथा पर्यावरण संरक्षण की रचनात्मक मुहीम के लिए सदैव स्मरण रहेंगे ।

 इस अवसर पर प्रसिद्ध ध्रुपद गायिका सुनीता अमीन ने राग यमन कल्याण प्रस्तुत की।  कार्यक्रम में गणमान्य नागरिक, प्रशासनिक अधिकारी, राजनीतिज्ञ,शिक्षविद एवं स्वेक्छिक सामाजिक कार्यकर्ता उपस्थित थे। स्वागत शेल इंडिया के पूर्व अध्यक्ष विक्रम एस मेहता ने किया। कार्यक्रम का संयोजन अजय मेहता  ने किया।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार