Thursday, February 22, 2024
spot_img
Homeअजब गज़बइस गाँव में लड़का हो या लड़की सबका नाम सीताराम

इस गाँव में लड़का हो या लड़की सबका नाम सीताराम

खरगोन(ग्वालियर). इस गांव में बच्चा भी सीताराम है और बूढ़ा भी। महिलाएं-पुरुष सभी एक-दूसरे को सीताराम ही पुकारते हैं। स्कूल में भी ऐसा ही। सरकारी रजिस्टर में तो विद्यार्थियों के वास्तविक नाम दर्ज हैं, लेकिन बच्चे एक-दूसरे को सीताराम ही बुलाते हैं। और तो और इस गांव में बाहर से आने वाला व्यक्ति भी सीताराम बन जाता है। उसे भी इसी नाम से संबोधित किया जाता है। इस नाम का इतना गहरा प्रभाव इस गांव पर पड़ा कि 10 साल से यहां एक भी आपराधिक मामला दर्ज नहीं हुआ।

ये गांव है एक हजार की आबादी वाला कठोरा। यहां के बाशिंदों को जन्म से यह नाम नहीं मिला है। यह परिपाटी 20 साल पहले से चल रही है। गांव के सीताराम यानी खेमराज यादव, ब्रजेश डोंगरे ने बताया जबलपुर हाईकोर्ट ने गांव को विवादमुक्त होने का पुरस्कार भी दिया। कसरावद थाना प्रभारी राजेंद्र सिरसाठ का कहना है गांव में विवाद व झगड़े का एक भी मामला दर्ज नहीं है। शेरू यादव बताते हैं- यहां की चौपाल थाना और न्याय का मंदिर है और पंच परमेश्वर।

साभार- दैनिक भास्कर से 

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार