ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

सार्वजनिक पुस्तकालयों के विकास में तकनीक का उपयोग वरदान : डा .दीपक कुमार श्रीवास्तव

दृष्टिबाधित , बालकों एवं सभी वर्गो के लिये टेक्नोलोज़ी से कराया रुबरु ।नवनियुक्त पुस्तकालयाध्यक्षों के लिये ऑनलाईन प्रशिक्षण कार्यशाला

डॉ.प्रभात कुमार सिंघल,कोटा

कोटा। भाषा एवं पुस्तकालय विभाग की और से राजस्थान के विभिन्न जिलों मे नवनियुक्त पुस्तकालयाध्यक्षों के लिये ऑनलाईन प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन किया गया । जिसका शुभारंभ श्रीमान विष्णु कुमार गोयल निदेशक एवं शासन सचिव महोदय भाषा एवं पुस्तकालय विभाग ने नवनियुक्त पुस्तकालयाध्यक्षों का परिचय देते हुये कार्यशाला का शुभारंभ किया ।

विभागीय परिचय भाषा एवं पुस्तकालय विभाग की विषॆशाधिकारी डॉ रेणुका राठोर ने विभागीय योजना एवं विभागीय पुस्तकालयों पर चर्चा की तथा नवनियुक्त पुस्तकालयाध्यक्षों को मार्गदर्शन एवं सुझाव दिये । प्रथम सत्र मे राजकीय सार्वजनिक पुस्तकालय श्रीगंगानगर के पुस्तकालयाध्यक्ष डॉ. रामनारायण शर्मा ने “ सार्वजनिक पुस्तकालय : कार्य सेवा एवं प्रकृति” पर व्याख़्यान दिया ।

कार्यक्रम के द्वितीय सत्र मे इनेली साउथ एशिया मेंटर डॉ.दीपक कुमार श्रीवास्तव मण्डल पुस्तकालयाध्यक्ष राजकीय सार्वजनिक मण्डल पुस्तकालय कोटा ने “सार्वजनिक पुस्तकालय : नई तकनीक एवं उपयोग” विषय पर विस्तृत जानकारी साझा की । उन्होने कहा कि सार्वजनिक पुस्तकालयों के 360 डीग्री विकास में तकनीक का उपयोग वरदान साबित हो सकता है और लोकडाउन के बात तो यह बात साफ हो चुकी है कि आने वाला समय तकनीक पर निर्भरता का है । इस अवसर पर डा दीपक ने दृष्टिबाधितों के लिये टेक्सट टू स्पीच,ई –पब,डेजी , सुगम्य पुस्तकालय , बुक शेयर , प्लेक्स टॉक वाचक इत्यादि की जानकारी साझा की तो बालकों के लिये स्टोरी व्युवर एवं सभी वर्गो नेशनल डीजीटल लाईब्रेरी ऑफ इण्डिया (एन.डी.एल.आई) एवं ई –ग्रंथालय से पुस्तकालय स्वचालन के तकनीकी उपयोग की जानकारी से रुबरु कराया ।

कार्यक्रम के समापन सत्र दिवस पर “ एम.एन.आई.टी. पुस्तकालय का परिचय एवं नवीन पुस्तकालय तकनीक का उपयोग” विषय पर श्री दीप सिंह पुस्तकालयाध्यक्ष एम.एन.आई.टी. जयपुर , पुस्तकालयो मे लेखा संबधी कार्य (सामान्य वितीय लेखा नियम , यात्रा व चिकित्सा नियम) एवं पुस्तकालयो मे सामान्य प्रशासनिक कार्य (राजस्थान सेवा नियम) विषय पर एजाज नबी खान वित्तीय सलाहाकर भ्रष्टाचार निरोधक ब्युरो जयपुर ने दिया । कार्यक्रम का समापन प्रतिभागीयों की प्रश्नोत्तरी सत्र के साथ समाप्त हुआ ।

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top