Sunday, June 16, 2024
spot_img
Homeपुस्तक चर्चा"वर्ल्ड हेरिटेज ग्लोबल टू लोकल" पुस्तक का विमोचन

“वर्ल्ड हेरिटेज ग्लोबल टू लोकल” पुस्तक का विमोचन

कोटा/ जिला कलेक्टर ओ पी बुनकर ने शुक्रवार को उनके कक्ष में ” वर्ल्ड हेरिटेज ग्लोबल टू लोकल पुस्तक का विमोचन किया। पूर्व ज्वाइंट डायरेक्टर सूचना एवं जन संपर्क विभाग राजस्थान डॉ.प्रभात कुमार सिंघल, सीनियर सेक्शन इंजिनियर मध्य – पश्चिमी रेल मंडल, कोटा अनुज कुच्छल और श्रीमती शिखा अग्रवाल पूर्व व्याख्याता ने संयुक्त रूप से लिखी है। पुस्तक की प्रस्तावना राजकीय सार्वजनिक मंडल पुस्तकालय के संभागीय अधीक्षक डॉ.,दीपक कुमार श्रीवास्तव ने लिखी है।

जिला कलेक्टर ने कहा कि हर नागरिक को देश की विरासत पर गर्व होना चाहिए। एक जगह सभी विरासत को पुस्तक में उपलब्ध कराने के लिए लेखक बधाई के पात्र हैं। उन्होंने कहा कि हाड़ोती में उपलब्ध हेरिटेज पर भी काम किया जाना चाहिए।

विमोचन अवसर पर उपस्थित पूर्व मंत्री रामगोपाल बैरवा ने कहा की भारत की विरासत वाली यह पुस्तक पर्यटन विकास में उपयोगी होगी। डॉ. दीपक कुमार श्रीवास्तव, लेखक अनुज कुमार कुच्छल, एडवोकेट अख्तर खान ” अकेला” और वरिष्ठ पत्रकार के. डी.अब्बासी भी उपस्थित थे।

लेखक डॉ.सिंघल ने बताया कि पुस्तक में यूनेस्को द्वारा अब तक भारत की घोषित 40 विश्व विरासत को शामिल किया गया है। अंग्रजी भाषा में संभवत: यह प्रथम अद्यतन पुस्तक है। पुस्तक का अंग्रेजी संस्करण पूर्व जिला कलेक्टर राठौर के सुझाव पर लिखा गया है। पुस्तक 197 पृष्ठ की है और मूल्य 225 रुपए है। पुस्तक का प्रकाशन मुंबई के वीएसआरडी पब्लिशिंग हाउस द्वारा किया गया है।
—–

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार