आप यहाँ है :

आने वाले 8-10 महीनों में ज़ी और सोनी एक हो जाएंगेः श्री गोयनका

जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेस लिमिटेड’ (ZEEL) और ‘सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स इंडिया’ (SPNI) के मिलन का मसौदा तय हो गया है। दोनों कंपनियों ने एक-दूसरे के खातों के तीन महीने के ऑडिट के बाद विलय समझौते पर हस्ताक्षर कर दिए हैं। ‘मर्जर की प्रक्रिया को पूरा होने में कम से कम 8 से 10 महीने लग जाएंगे।’ यह बात ‘जी एंटरटेनेमंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड’ (ZEEL) एमडी और सीईओ श्री पुनीत गोयनका ने कही। उन्होंने कहा कि तब तक इस बीच, दोनों कंपनियां स्टैंडअलोन इकाइयों (standalone entities) के रूप में काम करती रहेंगी।

उन्होंने यह भी कहा कि जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेस लिमिटेड’ ZEEL स्वतंत्र रूप से और बाद में मर्जर वाली संयुक्त कंपनी के साथ में आक्रामक तरीके से स्पोर्ट्स कैटेगरी में विस्तार करेंगे। कंपनी ने हाल ही में अमीरात क्रिकेट बोर्ड (ECB) से यूएई टी20 लीग (UAE T20 League) के प्रसारण अधिकार 10 साल के लिए हासिल किए हैं। लिहाजा जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेस लिमिटेड’ ZEEL यूएई टी20 लीग के प्रसारण अधिकार के लिए 15 मिलियन डॉलर का वार्षिक भुगतान 10 साल तक करेगा। इस तरह ब्रॉडकास्टर 10 साल की अवधि में 150 मिलियन डॉलर का भुगतान करेगा।

श्री गोयनका ने एकहा कि विलय की प्रक्रिया पूरी होने तक ‘सोनी’ और ‘जी’ के बीच कोई समझौता नहीं हो सकता है। उन्होंने का कहा, ‘जब तक विलय की प्रक्रिया पूरी नहीं हो जाती, तब तक हम साथ नहीं आ सकते और इसलिए, हम विभिन्न स्पोर्ट्स टूर्नामेंट के प्रसारण अधिकार के लिए बोली लगाने पर विचार करेंगे। फिर चाहे वह IPL हो या कोई और दूसरा स्पोर्ट्स इवेंट, क्योंकि हमने खेलों में प्रवेश करने के लिए काफी सोच समझकर फैसला लिया है।’

मर्जर वाली संयुक्त कंपनी पर होने वाले 1.57 बिलियन अमेरिकी डॉलर निवेश को लेकर गोयनका ने कहा, इस पूंजी का इस्तेमाल मर्जर के बाद बनने वाली कंपनी के लिए डिजिटल प्लेटफॉर्म का तेजी से विस्तार करने और खेलों के प्रसारण अधिकार हासिल करने सहित विभिन्न प्रीमियम कंटेंट के लिए किया जाएगा।

मर्जर के बाद, जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेस लिमिटेड’ ZEE को सोनी के 10 स्पोर्ट्स चैनल्स का एक्सेस मिल जाएगा जिसमें हाल ही में लॉन्च किया गया क्षेत्रीय चैनल ‘टेन 4’ भी शामिल है। अन्य स्पोर्ट्स चैनल्स में ‘सोनी सिक्स’, ‘सोनी टेन 1’, ‘सोनी टेन 2’ और ‘सोनी 3’ के साथ इन सभी चैनलों के HD वर्जन शामिल हैं।

श्री गोयनका ने कहा, ‘मर्जर के बाद मुख्य रूप से रेवेन्यू का ध्यान रखा जाएगा और हमारे बीच कॉस्ट व रेवेन्यू के लिए 6-8 फीसदी तालमेल होना चाहिए, जिसका एक बड़ा हिस्सा रेवेन्यू से आएगा और कुछ हिस्सा कॉस्ट से आएगा। लिहाजा हमारा फोकस रेवेन्यू पर ज्यादा होगा, क्योंकि कॉस्ट सिनर्जी समय के साथ होगी।’

श्री पुनीत गोयनका ने कहा कि संयुक्त कंपनी को अस्तित्व में आने के लिए अभी कई प्रक्रिया बाकी है। इस दिशा में अगला कदम सभी जरूरी रेगुलेटर्स और शेयरहोल्डरों से मंजूरी हासिल करना शामिल हैं। गोयनका ने कहा कि विलय के साथ ZEE ब्रैंड नई संयुक्त कंपनी का हिस्सा बन जाएगा और यह नई संयुक्त कंपनी तय करेगी कि वह कौन से ब्रैंड को और कितने समय तक रखना चाहती है। उन्होंने कहा कि इस साझेदारी से हम अपने ग्राहकों को बेहतर कंटेंट सर्विस अलग-अलग प्लेटफॉर्म प्रदान करेंगे।

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top